Blog पृष्ठ 166




                                               

कालसर्पयोग

भारतीय फलित ज्योतिष के अनुसार कुण्डली में राहु और केतु के संदर्भ में अन्य ग्रहों की स्थितियों के अनुसार व्यक्ति को कालसर्प योग लगता है। कालसर्प योग को अत्यंत अशुभ योग माना गया है। ज्‍योतिष की प्राचीन पुस्‍तकों में कहीं भी कालसर्प योग का उल्‍लेख न ...

                                               

क्रिएशन संग्रहालय

क्रिएशन संग्रहालय अमेरिका के केंटकी नगर में स्थित है। इसे ईसाई धर्मग्रन्थ जेनेसिस के सृजन वर्णन की लिटरल इंटरप्रिटेशन पर आधारित युवा पृथ्वी क्रिएशनिस्म को बढ़ावा देने के लिए चलाया गया है।

                                               

मलंकारा रूढ़िवादी सीरियाई गिरजा

मलंकारा रूढ़िवादी सीरियाई गिर्जा या भारतीय ऑर्थोडॉक्स चर्च, प्राच्य रूढ़िवादी गिरजा यानि ओरिएंटल ऑर्थोडॉक्स चर्च परिवार की एक प्रमुख शाखा है जिसकी नींव संत थोमा ने 52 ईसवी में रखी। उस समय भारत और मध्य-पूर्व के बीच व्यापारी ताल्लुक़ात थे। इन व्याप ...

                                               

युवा पृथ्वी क्रिएशनिस्म

युवा पृथ्वी क्रिएशनिस्म एक धार्मिक मान्यता है कि ब्रह्माण्ड, पृथ्वी और पृथ्वी का सारा जीवन ईश्वर ने छह 24-घण्टे वाले दिनों में 5.700 से 10.000 वर्ष पूर्व बनाया था। इसके मुख्य अनुयायी वे ईसाई और यहूदी हैं जो जेनेसिस ग्रन्थ के सृजन वर्णन की लिटरल इ ...

                                               

योगमाया

योगमाया दैवी शक्ति है जो व्यक्ति पर एक आवरण डाल देता है। जिसको सही तरीक़े से आज तक कोई परिभाषित नहीं कर पाया है इसको जो जितना जान पाया उतना ही बता पाया है

                                               

पिशाच

पिशाच कल्पित प्राणी है जो जीवित प्राणियों के जीवन-सार खाकर जीवित रहते हैं आमतौपर उनका खून पीकर. हालांकि विशिष्ट रूप से इनका वर्णन मरे हुए किन्तु अलौकिक रूप से अनुप्राणित जीवों के रूप में किया गया, कुछ अप्रचलित परम्पराएं विश्वास करती थीं कि पिशाच ...

                                               

भूत-प्रेत का अपसारण

भूत-प्रेत का अपसारण अर्थात एक्सॉसिज़्म किसी ऐसे व्यक्ति अथवा स्थान से भूतों या अन्य आत्मिक तत्त्वों को निकालने की प्रथा है। जिसके बारे में विश्वास किया जाता है कि भूत ने उसे शपथ दिलाकर अपने वश में कर लिया है। यह प्रथा अत्यंत प्राचीन है तथा अनेक स ...

                                               

लुप्त होने वाला सहयात्री

गायब होने वाले सहयात्री की कहानी एक शहरी किंवदंती है, जिसमें वाहन से यात्रा कर रहे लोगों की या तो किसी सवारी करने के इच्छुक से मुलाकात होती है या फिर वे उसके साथ यात्रा करते हैं। बाद में यह व्यक्ति बिना किसी सूचना के और अकसर चलते वाहन से, गायब हो ...

                                               

आवाँ गार्द

आवाँ गार्द एक फ्रान्सीसी शब्द है जो उन व्यक्तियों या कृतियों के लिए प्रयुक्त होता है जो यथास्थितिवाद से हटकर हों या आमूलवादी हों। इन्हें हिन्दी में अग्रगामी या अग्रदल कह सकते हैं। ऐसी कृतियाँ या व्यक्ति पहले अपारम्परिक और अस्वीकार्य लगते हैं।

                                               

प्रभाववादोत्तर (पोस्ट-इम्प्रेशनिज़्म)

प्रभाववादोत्तर मुख्य रूप से एक फ्रांसीसी कला आंदोलन है, जो 1886 और 1905 के बीच आख़िरी प्रभाववाद प्रदर्शनी से लेकर फाउविज्म के जन्म तक लगभग विकसित हुआ था।प्रभाववादी प्रकाश और रंग के प्रकृतिवादी चित्रण के बारे में अत्यधिक चिंता करते थे। प्रभाववादोत ...

                                               

यथार्थवाद (कला)

सामाजिक यथार्थवाद का सम्बंध सामाजिक यथार्थवाद से है। यह एक अंतराष्ट्रीय कला आन्दोलन है। उन्नीसवीं शताब्दी के उत्तरार्ध में यूरोपीय देशों में चित्रकारों, फोटोग्राफरों तथा फिल्म निर्माताओं ने उसकी शुरुआत की। सन् 1900 के आसपास रॉवर्ट हेनरी के नेतृत् ...

                                               

जाति प्रथा का विनाश

जाति प्रथा का विनाश डॉ॰ भीमराव आंबेडकर द्वारा लिखे गये श्रेष्ठतम एवं प्रसिद्ध ग्रन्थों में एक है। इसका प्रकाशन वर्ष 1936 में हुआ। इसमें तत्कालीन जाति व्यवस्था का घोर विरोध किया एवं उस समय के धार्मिक नेताओं का भी विरोध किया गया। यह एक ऐसा भाषण है ...

                                               

उत्तर आधुनिकतावाद

उत्तर आधुनिकतावाद २०वीं शताब्दी के दूसरे भाग में दर्शनशास्त्र, कला, वास्तुशास्त्और आलोचना के क्षेत्रों में फैला एक सांस्कृतिक आंदोलन था जिसने अपने से पहले प्रचलित आधुनिकतावाद को चुनौती दी और सांस्कृतिक वातावरण बदल डाला। इस नई विचारशैली में विचारध ...

                                               

समालोचनात्मक सिद्धांत

समालोचनात्मक सिद्धांत वह वैचारिक सम्प्रदाय है जिसमें समाज शास्त्और मानविकी के अध्ययन से प्राप्त ज्ञान से समाज व संस्कृति की आलोचनात्मक समीक्षा और मूल्यांकन किया जाता है। २०वीं शताब्दी के दार्शनशास्त्री मैक्स होर्कहाइमर के अनुसार "समालोचनात्मक सिद ...

                                               

स्वतन्त्र विचार

स्वतन्त्र विचार या मुक्त विचार से आशय ऐसी विचारधारा से है जो यह मानती है कि किसी भी मुद्दे की सत्यता पर विचार प्रकट करते समय तर्क, प्रमाण और तथ्यों को आधार बनाना चाहिए न कि किसी पद, परम्परा, ईश्वरोक्ति, या हठमत के आधार पर।

                                               

पायल

पायल जिसे पायजेब भी कहते है टखने पर पहनने वाला आभूषण है। भारत में लड़कियों और महिलाओं द्वारा सदियों से पायल और बिछिया पहने जाते हैं। पायल अक्सर चांदी या सोने के होती हैं लेकिन कभी कभार अन्य कम कीमती धातुओं से भी उसे बना सकते हैं। पायल में कुछ छोट ...

                                               

कसौटी

कसौटि एक छोटा, गहरा रंग पत्थर होता है आदि), जो स्वर्ण आदि मूल्यवान धातुओं को परखने के काम आती है। इसका तल अत्यन्त चिकना होता है जिस पर नरम धातुओं को रगड़ने से रेखा या निशाबन जाता है। स्वर्ण की विभिन्न मिश्रधातुएँ कसौटी पर अलग-अलग रंग का निशान बना ...

                                               

कहरुवा

अगर आप संगीत की ताल ढूंढ रहें हैं तो कहरवा का लेख देखिये कहरुवा या तृणमणि वृक्ष की ऐसी गोंद को कहते हैं जो समय के साथ सख़्त होकर पत्थर बन गई हो। दूसरे शब्दों में, यह जीवाश्म रेजिन है। यह देखने में एक कीमती पत्थर की तरह लगता है और प्राचीनकाल से इस ...

                                               

कुरुविंद (कृत्रिम)

कृत्रिम कुरुविंद पहले-पहल 1837 ई. में चूणित और निस्तप्त फिटकरी और पोटेसियम सल्फेट के मिश्रण को ऊँचे ताप पर गरम करने से बना था। पीछे इसके बनाने की अनेक विधियाँ निकली, जिनसे कुरुविंद के अतिरिक्त कृत्रिम माणिक और नीलम भी बनने लगे।

                                               

नीलम

नीलम एक रत्न श्रेणी का खनिज है। यह अल्यूमिनियम भस्म है, जब यह लाल के सिवाय अन्य वर्ण का होता है। नीलम प्रकृति में भी मिलता है, एवं कृत्रिम भी बनाया जाता है। अपनी उल्लेखनीय सख्तता के कारण कई अनुप्रयोगों में प्रयुक्त होता है, जैसे अधोरक्त दृष्टि सम ...

                                               

पन्ना

पन्ना, बेरिल 6) नामक खनिज का एक प्रकार है जो हरे रंग का होता है और जिसे क्रोमियम और कभी-कभी वैनेडियम की मात्रा से पहचाना जाता है। खनिज की कठोरता मापने वाले 10 अंकीय मोहस पैमाने पर बेरिल की कठोरता 7.5 से 8 तक होती है। अधिकांश पन्ने बहुत अधिक अंतर् ...

                                               

पुखराज

पुखराज एक बहुमूल्य रत्न होता है। बृहस्पति ग्रह से संबंधित रत्न, पुखराज को संस्कृत में पुष्पराग, हिन्दी में पुखराज कहा जाता है। चौबीस घंटे तक दूध में रखने पर यदि क्षीणता एवं फीकापन न आए तो असली होता है। पुखराज चिकना, चमकदार, पानीदार, पारदर्शी एवं ...

                                               

फीरोजा़

फीरोजा़ या टर्कौएश एक अपारदर्शी, नीले से हरा खनिज है। यह ताम्र एवं अल्यूमिनियम का हायड्रस फॉस्फेट है, जिसका रासायनिक सूत्र है: CuAl 6 4 8 4H 2 O. यह दुर्लभ एवं कीमती है, एवं इसके उत्तम स्तर हजारों वर्षों से अपनी अनुपम आभा के कारण रत्नों में गिनती ...

                                               

मुख्य रत्न एवं मणियां

नाम- अं. एमनी। परिचय - मासर मणि हकीक के समान होती है तथा इसका रंग श्वेत, लाल, पीला व काला चार प्रकार का होता है तथा ये पंकज पुष्प के सदृश चमकदार व स्निग्ध होती है। मासर मणि दो प्रकार की होती है- अग्नि मासर मणि- यदि अग्निवर्ण वाली मासर मणि में धाग ...

                                               

लाजवर्द

लाजवर्द या राजावर्त एक मूल्यवान नीले रंग का पत्थर है जो प्राचीनकाल से अपने सुन्दर नीले रंग के लिए पसंद किया जाता है। कई स्रोतों के अनुसार प्राचीन भारतीय संस्कृति में जिन नवरत्नों को मान्यता दी गई थी उनमें से एक लाजवर्द था। भारतीय ज्योतिष शास्त्र ...

                                               

हरिताश्म

जेड या हरिताश्म एक शोभाप्रद पत्थर है। यह दो भिन्न तरह के सिलिकेट खनिजों से बना पत्थर होता है। नेफ्राइट जेड में कैल्शियम एवं मैग्नेशियम बहुल एम्फीबोल खनिज, एक्टीनोलाइट होता है। दूसरा जेडिटाइट में पूर्णतया जेडियाइट, एक अल्यूमिनियम बहुल पायरॉक्सीन ह ...

                                               

कार्निवल

कार्निवल एक उत्सव का मौसम है जो लेंट से ठीक पहले पड़ता है; मुख्य कार्यक्रम आमतौर फरवरी के दौरान होते हैं। कार्निवल में आमतौपर एक सार्वजनिक समारोह या परेड शामिल होता है जिसमें सर्कस के तत्त्व, मुखौटे और सार्वजनिक खुली पार्टियां की जाती हैं। समारोह ...

                                               

अभिनय

अभिनय किसी अभिनेता या अभिनेत्री के द्वारा किया जाने वाला वह कार्य है जिसके द्वारा वे किसी कथा को दर्शाते हैं, साधारणतया किसी पात्र के माध्यम से। अभिनय का मूल ग्रन्थ नाट्यशास्त्र माना जाता है। इसके रचयिता भरतमुनि थे। जब प्रसिद्ध या कल्पित कथा के आ ...

                                               

अश्लील अभिनेता

अश्लील अभिनेता, पोर्नोग्राफिक अभिनेता या अभिनेत्रियाँ वे व्यक्ति अथवा औरतें होते हैं जो अश्लील अर्थात नग्नता, सम्भोग अथवा सम्भोग से जुड़ी हुई फ़िल्में और चलचित्र अथवा फो़टो का हिस्सा बनते हैं।

                                               

चरित्र अभिनेता

चरित्र अभिनेता सहायक अभिनेता होता है जो कि फ़िल्मों में नायक या नायिका की बजाय उनकी बहन, भाई, दोस्त, माँ, पिता, आदि का किरदार निभाते हैं। वहीं मुख्य अभिनेता अक्सर शारीरिक रूप से आकर्षक होते हैं, चरित्र अभिनेता छोटे या लंबे, भारी या पतली, गंजा, बू ...

                                               

दुष्टता से भरी हँसी

दुष्टता से भरी हँसी या पागलों-जैसी हँसी एक पूर्ण रूप से उन्माद से भरी हँसी है जो साधारण रूप से किसी खलनायक द्वारा कपोलकल्पना में हँसी जाती है। दुष्टता से भरी हँसी का मुहावरा १८६० से प्रयोग किया जा रहा है। दुश्चरित्र हँसी का प्रयोग उससे भी पुराना ...

                                               

डिजिटल कला

डिजिटल कला, कला का वह नया रूप है, जिसमें कोई कृति तैयार करने के लिए डिजिटल प्रौद्योगिकी का प्रयोग किया जाता है। इसमें कंप्यूटर आधारित प्रौद्योगिकी का प्रयोग कर असंख्य तरह के डिजाइन तैयार किये जा सकते हैं। इसीलिये इसे मीडिया आर्ट भी कहते हैं। डिजि ...

                                               

आधुनिक कला

आधुनिक कला १८६० से 1970 के दशक से विस्तारित अवधि के दौरान किए जाने वाले कलात्मक कार्यों का संदर्भ देता है और उस युग की शैली और दर्शन को दर्शाता है। सामान्यतः यह शब्द अतीत की परम्पराओं को पीछे छोड़ते हुए प्रयोग करने की भावना से संबद्ध है। आधुनिक क ...

                                               

अभिव्यंजनावाद

अभिव्यञ्जनावाद इटली, जर्मनी और आस्ट्रिया से प्रादुर्भूत प्रधानतः मध्य यूरोप की एक चित्र-मूर्ति-शैली है जिसका प्रयोग साहित्य, नृत्य और सिनेमा के क्षेत्र में भी हुआ है। अभिव्यञ्जनावाद एक आधुनिकतावादी आन्दोलन था जो २०वीं शताब्दी के आरम्भ में जर्मनी ...

                                               

आधुनिकतावाद

आधुनिकतावाद, अपनी व्यापक परिभाषा में, आधुनिक सोच, चरित्र, या प्रथा है अधिक विशेष रूप से, यह शब्द उन्नीसवीं सदी के अंत और बीसवीं सदी के आरम्भ में मूल रूप से पश्चिमी समाज में व्यापक पैमाने पर और सुदूर परिवर्तनों से उत्पन्न होने वाली सांस्कृतिक प्रव ...

                                               

घनचित्रण शैली

क्यूबिज़्म 20वीं शताब्दी का एक नव-विचारक कला आंदोलन था जिसका नेतृत्व पाब्लो पिकासो और जॉर्ज बराक ने किया था, जो यूरोपीय चित्रकला और मूर्तिकला में क्रांतिकारी परिवर्तन लाया और जिसने संगीत एवं साहित्य को भी संबंधित आंदोलन के लिए प्रेरित किया। विश्ल ...

                                               

दोस्त भालुओं का सम्मेलन

भालू मेरा साथी एक जीवत भालू के आकार की रंगीन मूर्ति है। इसे 2001 में ईवा और क्लाऊस हेरिलट्स के द्वारा ऑस्ट्रिया के मूर्तिकार रोमन स्टौर्बल के निकट सहयोग से विकसित किया गया था। भालू की लोकिप्रयता को विश्व भर के लोगों में एक बेहतर समझ को प्रेरित कर ...

                                               

डाडावाद

डाडा या डाडावाद एक सांस्कृतिक आन्दोलन है जो प्रथम विश्वयुद्ध के दौरान ज्यूरिख, स्विटज़रलैंड में शुरू हुआ था और 1916 से 1922 के बीच अपनी पराकाष्ठा पर पहुंच गया था। यह आन्दोलन मुख्यतया दृश्य कला, साहित्य-कविता, कला प्रकाशन, कला सिद्धांत-रंगमंच और ग ...

                                               

प्रभाववाद

प्रभाववाद 19वीं सदी का एक कला आंदोलन था, जो पेरिस-स्थित कलाकारों के एक मुक्‍त संगठन के रूप में आरंभ हुआ, जिनकी स्‍वतंत्र प्रदर्शनियों ने 1870 और 1880 के दशकों में उन्‍हें प्रतिष्ठा दिलवाई. इस आंदोलन का नाम क्‍लाउड मॉनेट की कृति इम्प्रेशन, सनराइज़ ...

                                               

कवि

कवि वह है जो भावों को रसाभिषिक्त अभिव्यक्ति देता है और सामान्य अथवा स्पष्ट के परे गहन यथार्थ का वर्णन करता है। इसीलिये वैदिक काल में ऋषय: मन्त्रदृष्टार: कवय: क्रान्तदर्शिन: अर्थात् ऋषि को मन्त्रदृष्टा और कवि को क्रान्तदर्शी कहा गया है। "जहाँ न पह ...

                                               

बोलती कठपुतली कला

बोलती कठपुतली कला एक मंच-कला है जिसमें एक व्यक्ति उसकी आवाज में इस तरह परिवर्तन करता है जिससे ऐसा लगता है कि आवाज कहीं और से, आमतौपर एक कठपुतली प्रतिकृति से,आ रहा है। बोलती कठपुतली कला का आध्यात्मिक शक्तियों की अभिव्यक्ति के रूप से,मेलों और बाजार ...

                                               

कुमांऊँ की लोककला

कुमांऊँ के इतिहास के प्रारंभ से ही कला विद्यमान थी। जिस कला से यहॉं के जनमानस की अभिव्यक्ति व परम्परागत गूढ़ रहस्यों की गहराइयों की जानकारी प्राप्त होती है, वही कुमांऊँ की लोककला है। कुमांऊँ की लोककला का स्वरूप भारत की अन्य कलाओं व लोककलाओं के सम ...

                                               

जादुई यथार्थवाद

जादुई यथार्थवाद सौंदर्य या फिक्शन की एक शैली है जिस में असली दुनिया के साथ जादुई तत्वों का मिश्रण होता है। हालाँकि यह सबसे अधिएक साहित्यिक शैली के रूप में प्रयोग किया जाता है, जादुई यथार्थवाद फिल्म और दृश्य कला के लिए भी लागू होता है।

                                               

वीभत्स रस

वीभत्रस काव्य में मान्य नव रसों में अपना विशिष्ट स्थान रखता है। इसकी स्थिति दु:खात्मक रसों में मानी जाती है। इसके परिणामस्वरूप घृणा, जुगुप्सा उत्पन्न होती है। इस दृष्टि से करुण, भयानक तथा रौद्र, ये तीन रस इसके सहयोगी या सहचर सिद्ध होते हैं। शान्त ...

                                               

वॅस्टर्न (शैली)

वॅस्टर्न, जिसका हिन्दी में अर्थ पश्चिमी है, १ कला की एक शैली या विधा है, जो अक्सर रेडियो, टेलीविज़न, सिनेमा, साहित्य सहित अनेक रूपों में अपनायी जाती है। वॅस्टर्न २ शैली की कहानियां अक्सर उन्नीसवीं सदी के अंतिम वर्षों में संयुक्त राज्य अमेरिका के ...

                                               

स्वैरकल्पना

इन्हें भी देखें: स्वैरकल्पना साहित्य स्वैरकल्पना कपोलकल्पित ब्रह्मण्ड में आधारित कपोलकल्पना की एक विधा है, जिसमें अक्सर कोई भी स्थान, घटनाएँ, या लोग वास्तविक दुनिया से सन्दर्भ नहीं रखते हैं। इसकी जड़ें मौखिक परंपराओं में हैं, जो बाद में साहित्य औ ...

                                               

कार्टूनिस्ट्स क्लब ऑफ इंडिया

कार्टूनिस्ट्स क्लब ऑफ इंडिया CCI: भारतीय कार्टूनिस्टों के बीच सांस्कृतिक और व्यावसायिक गतिविधियों को बढ़ावा देने, भारत में कार्टून कला की सार्थकता एवं सकारात्मकता के लिए एक प्रगतिशील मंच प्रदान करने के लक्ष्य से भारतीय कार्टूनिस्टों का एक पंजीकृत ...

                                               

अजित नैनन

वर्तमान में टाईम्स ऑफ़ इंडिया में कार्टूनिस्ट अजित नैनन को इंडिया टुडे में उनके बनाये कार्टूनों से पहचान मिली। इंडिया टुडे के बाद अजित नैनन इंडियन एक्सप्रेस, आउटलुक पत्रिका होते हुए फिलहाल टाईम्स ऑफ़ इंडिया में कार्टूनिस्ट हैं। अजित संभवतः भारत क ...

                                               

कार्टून वाच

मात्र हिन्दी कार्टून मासिक पत्रिका है। इसका प्रकाशन ५ दिसम्बर १९९६ को रायपुर, छत्तीसगढ़ से प्रारम्भ हुआ। युवा कार्टूनिस्ट त्र्यम्बक शर्मा ने इस पत्रिका की नींव रखी। कार्टून वाच ने शंकर्स वीकली के बंद होने के बाद उपजे शून्य को समाप्त किया और आज यह ...

                                               

कार्टूनिस्ट नीरद

बहुत कम ही लोग जानते होंगे कि कार्टूनिस्ट नीरद का पूरा नाम नीलकमल वर्मा नीरद है। भारतीय कॉमिक जगत के सफल और लोकप्रिय कार्टूनिस्ट नीरद जी का जन्म १५ अगस्त १९६७ को हुआ। १०-११ साल की उम्र से ही इन्होंने कार्टूनिंग की शुरुआत कर दी थी और तब से अब तक द ...