Blog पृष्ठ 218




                                               

भूसन्नति

भूसन्नति भूविज्ञान तथा भूआकृतिविज्ञान की एक अपेक्षाकृत पुरानी संकल्पना और शब्द है जिसका व्यवहार अभी भी कभी-कभी ऐसे छिछले सागरों अथवा सागरीय द्रोणियों के लिए किया जाता है जिनमें अवसाद जमा होने और तली के धँसाव की प्रक्रिया चल रही हो। सर्वप्रथम इस त ...

                                               

मिश्रित ज्वालामुखी

मिश्रित ज्वालामुखी, एक लंबा, शंक्वाकार ज्वालामुखी होता है, जिसका निर्माण जम कर ठोस हुए लावा, टेफ्रा, कुस्रन और ज्वालामुखीय राख की कई परतों द्वारा होता है। मिश्रित ज्वालामुखी को ऐसा इसलिए कहा जाता है क्योंकि, इनकी रचना ज्वालामुखीय उद्गार के समय नि ...

                                               

रिफ़्ट घाटी

रिफ़्ट घाटी एक स्थलरूप है जिसका निर्माण विवर्तनिक हलचल के परिणामस्वरूप होने वाले भ्रंशन के कारण होता है। ये सामान्यतया पर्वत श्रेणियों अथवा उच्चभूमियों के बीच स्थित लम्बी आकृति वाली घाटियाँ होती हैं जिनमें अक्सर झीलें भी निर्मित हो जाती है।

                                               

लावा

लावा पिघली हुई चट्टान आर्थात मैग्मा का धरातल पर प्रकट होकर बहने वाला भाग है। यह ज्वालामुखी उद्गार द्वारा बाहर निकलता है और आग्नेय चट्टानों की रचना करता है। ज्वालामुखी से निकले लावा से बेसाल्ट चट्टानो का निर्माण हुआ, जिनके निक्षादन से र्पायदिपिय प ...

                                               

वलित पर्वत

वलित पर्वत वे पर्वत हैं जिनका निर्माण वलन नामक भूगर्भिक प्रक्रिया के तहत हुआ है। प्लेट विवर्तनिकी के सिद्धांत के बाद इनके निर्माण के बारे में यह माना जाता है कि भूसन्नतियों में जमा अवसादों के दो प्लेटों के आपस में करीब आने के कारण दब कर सिकुड़ने ...

                                               

शैल

पृथ्वी की ऊपरी परत या भू-पटल में मिलने वाले पदार्थ चाहे वे ग्रेनाइट तथा बालुका पत्थर की भांति कठोर प्रकृति के हो या चाक या रेत की भांति कोमल; चाक एवं लाइमस्टोन की भांति प्रवेश्य हों या स्लेट की भांति अप्रवेश्य हों, चट्टान अथवा शैल कहे जाते हैं। इ ...

                                               

स्थलाकृति

स्थलाकृति ग्रहविज्ञान की एक शाखा है जिसमें पृथ्वी या किसी अन्य ग्रह, उपग्रह या क्षुद्रग्रह की सतह के आकार व आकृतियों का अध्ययन किया जाता है। नक़्शों के निर्माण में स्थलाकृति का विशेष महत्व है।

                                               

हेलिक्टाइट

ये भी स्तंभ जैसी आक्र्ति हैं किन्तु इनका निर्माण जल की बूंदो द्वारा नही बल्कि आर्द्रतायुक्त सतह पर होता हैं। इसके निर्माण मे गुरुत्व का प्रभाव नही होता। इसका विकास किसी भी मे सम्भव हैं।

                                               

हॉगबैक

अपरदन के बाद निर्मित अवरोधी शैलों वाली लम्बी, पतली तथा खड़े ढाल वाली श्रेणियों को हाॅगबैक या शूकर कटक कहते हैं। इसका नति तथा ढाल दोनो खड़े होते हैं जबकि क्वेस्टा का नति तथा ढाल झुका होता है।

                                               

ज्यावक्रीय प्रक्षेप

ज्यावक्रीय प्रक्षेप एक छद्म-बेलनाकार समक्षेत्र प्रक्षेप है जिसे कभी-कभी सैन्सन-फ्लैमस्टेड प्रक्षेप भी कहा जाता है अथवा मर्केटर का समक्षेत्र प्रक्षेप कहा जाता है। दायपे के जीन कॉसीं ने संभवतः सबसे पहले इस प्रक्षेप का प्रयोग विश्व के मानचित्र को प् ...

                                               

मर्केटर प्रक्षेप

मर्केटर प्रक्षेप एक भौगोलिक प्रक्षेपण विधि है। नौचालन में विशेषोपयोगी होने के कारण मर्केटर प्रक्षेप प्राचीन और सर्वाधिक सुविदित है। इसकी खोज मर्केटर नाम से विख्यात गर्हार्ड क्रेमर ने 1569 ई में की थी। लोगों की मिथ्या धारणा है कि बेलनाकार प्रक्षेप है।

                                               

मानचित्र प्रक्षेप

गोलाकार पृथ्वी अथवा पृथ्वी के किसी बड़े भू-भाग का समतल सतह पर मानचित्र बनाने के लिए प्रकाश अथवा ज्यामितीय विधियों के द्वारा निर्मित अक्षांस-देशान्तर रेखाओं के जाल या भू-ग्रिड को मानचित्र प्रक्षेप कहा जाता हैं। मानचित्रकला कार्टोग्राफी के अंतर्गत ...

                                               

मापनी

मानचित्र में प्रदर्शित किन्ही दो बिन्दुओं के बीच की दूरी तथा उन बिन्दुओं के बीच की धरातल पर वास्तविक दूरी के मध्य के अनुपात को उस मानचित्र की मपनी कहतें हैं।

                                               

कोयला

कोयला एक ठोस कार्बनिक पदार्थ है जिसको ईंधन के रूप में प्रयोग में लाया जाता है। ऊर्जा के प्रमुख स्रोत के रूप में कोयला अत्यन्त महत्वपूर्ण हैं। कुल प्रयुक्त ऊर्जा का ३५% से ४०% भाग कोयलें से पाप्त होता हैं। कोयले से अन्य दहनशील तथा उपयोगी पदार्थ भी ...

                                               

पीली क्रांति

पीली क्रांति सोना उत्पादन से सम्बन्धित हैं। इसके उत्पादन में आत्मनिर्भरता प्राप्त करने के उद्देश्य से यह योजना प्रारम्भ की गई। तिलहन उतपासन कार्यक्रम में २३ राज्यों के ३३७ जिले शामिल हैं। इस क्रांति के परिणामस्वरुप भारत के खाद्य तेलों और तिलहन उत ...

                                               

संसाधन

संसाधन एक ऐसा स्रोत है जिसका उपयोग मनुष्य अपने इच्छाओं की पूर्ति के लिए के लिए करता है। कोई वस्तु प्रकृति में हो सकता है हमेशा से मौज़ूद रही हो लेकिन वह संसाधन नहीं कहलाती है, जब तक की मनुष्यों का उसमें हस्तक्षेप ना हो। हमारे पर्यावरण में उपलब्ध ...

                                               

संसाधन न्यूनीकरण

संसाधन की कमी का अर्थ है प्राकृतिक संसाधनों के लिए मनुष्य के द्वारा अपने आर्थिक लाभ के लिए इतनी तेजी से दोहन के लिए अपनी प्राकृतिक प्रक्रियाओं द्वारा पुनर्भरण नहीं किया जा सकता है पाया. यह काफी एक बहुत तेजी से बढ़ती जनसंख्या का परिणाम भी माना जा ...

                                               

हरित क्रांति (भारत)

भारत में हरित क्रांन्ति की शुरुआत सन 1967-68 में प्रारम्भ करने का श्रेय नोबल पुरस्कार विजेता प्रोफेसर नारमन बोरलॉग को जाता हैं।लेकिन भारत में एम. एस. स्वामीनाथन को इसका जनक माना जाता है। हरित क्रांन्ति से अभिप्राय देश के सिंचित एवं असिंचित कृषि क ...

                                               

प्रायद्वीप

प्रायद्वीप, भूमि के वो हिस्से हैं जिनके चारों ओर पानी होता है पर यह मुख्यभूमि से एक भू-सन्धि के द्वारा जुड़े रहते है। दूसरे शब्दों में प्रायद्वीप भूमि के वो भाग होते हैं जिनके तीन तरफ जल तथा एक ओर स्थल होती है। वर्ली प्रायद्वीप, मुम्बई कोलाबा प्र ...

                                               

आर्कटिक वृत्त

आर्कटिक वृत्त पृथ्वी के नक्शे में अक्षांश द्वारा चिह्नित पांच प्रमुख क्षेत्रों में सबसे उत्तरी क्षेत्र है।. इस वृत्त के उत्तरी क्षेत्र को आर्कटिक के रूप में जाना जाता है और दक्षिण क्षेत्र को उत्तरी शीतोष्ण क्षेत्र कहा जाता है. आर्कटिक वृत्तके उत् ...

                                               

उत्तरी ध्रुव

उत्तरी ध्रुव हमारे ग्रह पृथ्वी का सबसे सुदूर उत्तरी बिन्दु है। यह वह बिन्दु है जहाँ पर पृथ्वी की धुरी घूमती है। यह आर्कटिक महासागर में पड़ता है और यहाँ अत्यधिक ठंड पड़ती है क्योंकि लगभग छः महीने यहाँ सूरज नहीं चमकता है। ध्रुव के आसपास का महासागर ...

                                               

ध्रुवीय बर्फ टोपी

ध्रुवीय बर्फ टोपी, किसी ग्रह या प्राकृतिक उपग्रह के उच्च अक्षांश क्षेत्र है जो कि बर्फ में ढंके होते है | ध्रुवीय बर्फ टोपी कहलाने के लिए बर्फीले ढाँचे के लिए आकार या बनावट से सम्बंधित किसी तरह की कोई शर्त नहीं होती है और ना ही इसके भूमि पर होने ...

                                               

ध्रुवीय हवा

ध्रुवीय हवा en: Polar wind ध्रुवीय क्षेत्र से प्लाज्मा की एक स्थायी बहिर्वाह है। जो कि पृथ्वी की मैगनेटोस्फीयर के ध्रुवीय क्षेत्रों से बहती है। यह सौर हवा और पृथ्वी के वायुमंडल के बीच संपर्क की वजह से बहती है। सौर हवा ऊपरी वायुमंडल में गैस के अणु ...

                                               

इंडोचायना

हिन्द - चीन प्रायद्वीप दक्षिण पूर्व एशिया का एक उप क्षेत्र है। यह इलाक़ा लगभग चीन के दक्षिण-पश्चिम और भारत के पूर्व में पड़ता है। सही मायने में हिन्द - चीन के अंतर्गत भूतपूर्व फ्रा़न्सीसी भारत - चीन के अधिकार क्षेत्र आते हैं, जैसे:- वियतनाम कंबोड ...

                                               

कमचातका प्रायद्वीप

कमचातका प्रायद्वीप रूस के साइबेरिया क्षेत्र के सुदूर पूर्व में एक 1.250 किमी लम्बा प्रायद्वीप है। इसका क्षेत्रफल 472.300 वर्ग किमी है । यह उत्तर में साइबेरिया से जुड़ा हुआ है। इसके पूर्व में प्रशांत महासागर है और पश्चिम में ओख़ोत्स्क सागर है। प्र ...

                                               

तैमिर प्रायद्वीप

तैमिर प्रायद्वीप, साइबेरिया में एक प्रायद्वीप है, जो यूरेशिया और एशिया की मुख्य भूमि के उत्तरी भागों की रचना करता है। यह रूस के क्रस्नोयार्स्क क्राय, में कारा सागर की येनिसी खाड़ी और लाप्टेव सागर की खटांगा खाड़ी के बीच स्थित है। तैमिर झील और बिरा ...

                                               

पेलोपोनीज़

पेलोपोनीज़ यूनान के दक्षिणी भाग में स्थित एक बड़ा प्रायद्वीप है। इसके और यूनान के मुख्य भाग के बीच में कौरिन्थ की खाड़ी आती है। उस्मानी साम्राज्य के काल में, जब यूनान पर तुर्की-केन्द्रित उस्मानियों का राज था, वे इस प्रायद्वीप को मोरेआ कहा करते थे ...

                                               

भारतीय उपमहाद्वीप

भारतीय उपमहाद्वीप, एशिया के दक्षिणी भाग में स्थित एक उपमहाद्वीप है। इस उपमहाद्वीप को दक्षिण एशिया भी कहा जाता है भूवैज्ञानिक दृष्टि से भारतीय उपमहाद्वीप का अधिकांश भाग भारतीय प्रस्तर पर स्थित है, हालाँकि इस के कुछ भाग इस प्रस्तर से हटकर यूरेशियाई ...

                                               

मध्य अमेरिका

मध्य अमेरिका अमेरिकी महाद्वीप का मध्य भौगोलिक क्षेत्र है। यह उत्तर अमेरिकी महाद्वीप का सबसे दक्षिणी हिस्सा है, जो दक्षिण में दक्षिण अमेरिका के साथ जोड़ता है। कभी-कभी इसे अमेरिका के एक उपमहाद्वीप के रूप में परिभाषित किया जाता है। इस क्षेत्र की सीम ...

                                               

ग्वाटेमाला

ग्वाटेमाला मध्य अमेरिका में स्थित एक देश है, जिसके उत्तर-पश्चिम में मेक्सिको, दक्षिण पश्चिम में प्रशांत महासागर, उत्तर-पूर्व में बेलीज़, पूर्व में कैरेबियन और दक्षिण पूर्व में होंडुरास और अल साल्वाडोर स्थित है। महज १,१०,००० वर्ग किमी क्षेत्रफल वा ...

                                               

निकारागुआ नहर

निकारागुआ नहर या महान निकारागुआ नहर एक प्रस्तावित जहाज़ी नहर है जो निकारागुआ में बनाई जानी है और यह प्रशांत महासागर और अटलांटिक महासागर को जोड़ने के लिये बनाई जानी है। इसके बनाने में चीन की कंपनी की सहायता ली जानी है। हालाँकि इसके बनाये जाने से ह ...

                                               

मेक्सिको

संयुक्त राज्य मेक्सिको, सामान्यतः मेक्सिको के रूप में जाना जाता एक देश है जो की उत्तर अमेरिका में स्थित है। यह एक संघीय संवैधानिक गणतंत्र है। यह संयुक्त राज्य अमेरिका के उत्तर पर सीमा से लगा हुआ हैं। दक्षिण प्रशांत महासागर इसके पश्चिम में, ग्वाटे ...

                                               

अल साल्वाडोर

एल साल्वाडोर मध्य अमेरिका में स्थित सबसे छोटा और सबसे सघन आबादी वाला देश है। ग्वाटेमाला और हॉण्डुरास के बीच इसकी सीमाएं प्रशांत महासागर से मिलती है। यह फोंसेका खाड़ी पर स्थित है, जिस तरह निकारागुआ दक्षिण की ओर मिलती है। 21.000 वर्ग किमी क्षेत्र म ...

                                               

हौण्डुरस

हौन्डुरस मध्य अमेरिका में स्थित देश है। पूर्व में ब्रिटिश हौन्डुरस से अलग पहचान के लिए इसे स्पेनी हौन्डुरस के नाम से जाना जाता था। देश की सीमा पश्चिम में ग्वाटेमाला, दक्षिण पश्चिम में अल साल्वाडोर, दक्षिणपूर्व में निकारागुआ, दक्षिण में प्रशांत मह ...

                                               

मध्य पूर्व

मध्य पूर्व) दक्षिण पश्चिम एशिया, दक्षिण पूर्वी यूरोप और उत्तरी पूर्वी अफ़्रीका में विस्तारित क्षेत्र है। इसकी कोई स्पष्ट सीमा रेखा नहीं है, अक्सर इस शब्द का प्रयोग पूर्व के पास के एक पर्याय के रूप में प्रयोग किया जाता, ठीक सुदूर पूर्व के विपरित। ...

                                               

उर्वर अर्धचंद्र

उर्वर अर्धचंद्र मध्य पूर्व में स्थित एक क्षेत्र है। इस क्षेत्र में अपने आसपास के इलाक़ों की तुलना में धरती उपजाऊ है और सिंचाई के लिए पानी पार्यप्त है। उर्वर अर्धचंद्र के इलाक़े में इराक़ और फ़ुरात नदियों के बीच का क्षेत्र), दक्षिण-पश्चिमी ईरान का ...

                                               

कॉकस

कॉकस या कौकसस यूरोप और एशिया की सीमा पर स्थित एक भौगोलिक और राजनैतिक क्षेत्र है। इस क्षेत्र में कॉकस पर्वत शृंखला भी आती है, जिसमें यूरोप का सबसे ऊंचा पहाड़, एल्ब्रुस पर्वत शामिल है। कॉकस के दो मुख्य खंड बताये जाते हैं: उत्तर कॉकस और दक्षिण कॉकस। ...

                                               

ग़ज़ा

ग़ज़ा पट्टी एक फिलिस्तानी क्षेत्र है। यह इसरायल के दक्षिण-पश्चिम में एक 45 किलोमीटर लम्बी तथा 6-12 किलोमीटर चौड़ी पट्टी के रूप में हैं। इसका दक्षिणी छोर मिस्र से जुड़ा हुआ है पर बाकी दिशाओं से यह इसरायल द्वारा घिरा है। य हाँ तक कि इसकी पश्चिमी सी ...

                                               

गाजा इज़राइल संघर्ष

गाजा इजरायल संघर्ष, गाजा पट्टी और दक्षिणी इसराइल के क्षेत्र में हो रहा, लंबी अवधि का इजरायल-फिलीस्तीनी संघर्ष का एक हिस्सा है। यह 2006 की गर्मियों में शुरू हुआ था और अभी भी चल रहा है।

                                               

मुहाफ़ज़ाह

मुहाफ़ज़ाह, कई अरब देशों के प्रथम स्तर के प्रशासनिक प्रभाग और सऊदी अरब के दूसरे स्तर के प्रशासनिक प्रभाग को कहते हैं। हिन्दी में इसे प्रांत, प्रदेश या फिर राज्य कहा जाता है। किसी मुहाफ़ज़ाह का प्रमुख, मुहाफ़िज़ कहलाता है।

                                               

लेवंट

लेवंट या बिलाद अश-शाम या शाम पश्चिमी एशिया का भूमध्य सागर के पूर्वी छोर से लगा हुआ एक ऐतिहासिक क्षेत्र है। यह सीरिया पर केन्द्रित है लेकिन लेबनान, जोर्डन, इस्राइल, फ़िलिस्तीन, सायप्रस और दक्षिणी तुर्की का कुछ भाग भी इसमें सम्मिलित हैं। कभी-कभी इर ...

                                               

प्रथम हिन्दचीन युद्ध

प्रथम हिन्दचीन युद्ध, फ्रांस और वियत मिन्ह के बीच १९४० से १९५४ तक चला। वियतनामी लोग हिन्दचीन पर फ्रांस के पुनः कब्जे से स्वतंत्रता चाहते थे। इसमें संयुक्त राज्य अमेरिका भी फ्रांस की सहायता कर रहा था। अन्ततः १९५४ में फ्रांस की पराजय हुई, चार देश स ...

                                               

चन्द्रमा

चन्द्रमा पृथ्वी का एकमात्र प्राकृतिक उपग्रह है। यह सौर मंडल का पाचवाँ,सबसे विशाल प्राकृतिक उपग्रह है। इसका आकार क्रिकेट बॉल की तरह गोल है। और यह खुद से नहीं चमकता बल्कि यह तो सूर्य के प्रकाश से प्रकाशित होता है। पृथ्वी से चन्द्रमा की दूरी ३८४,४०३ ...

                                               

आदि भीषण बमबारी

आदि भीषण बमबारी, लगभग ४.१ से ३.८ अरब वर्षों पूर्व की एक अवधि है, जिसके दरम्यान माना जाता है कि चन्द्रमा पर बड़ी संख्या के संघात क्रेटरों का गठन हुआ |

                                               

कैंटर (गड्ढा)

कैंटर चंद्रमा के फार साइड की ओर उत्तरी गोलार्ध में स्थित एक चंद्र इम्पैक्ट गड्ढा है। गड्ढा के बाहरी रिम में एक स्पष्ट रूप से हेक्सागोनल आकार है और उत्तर-दक्षिण दिशा में थोड़ा अधिक बड़ा है। आंतरिक दीवारें बहुत सीढ़ीदार हैं, हालांकि पश्चिमी रिम यह ...

                                               

चंद्रमा का विमुख फलक

चंद्रमा का विमुख फलक, जिसे पहले चंद्रमा का अंधकार पक्ष कहा गया, चंद्रमा का एक गोलार्ध है जिसका मुखड़ा हमेशा पृथ्वी से दूर रहता है। उस पार का इलाका असंख्य प्रहार क्रेटर की भीड़ एवं अपेक्षाकृत कुछ समतल चंद्र मारिया के साथ पूर्णतः बीहड़ है। यहाँ दक् ...

                                               

चंद्रमा की उत्पत्ति

अरसे तक चंद्रमा के इतिहास का मूलभूत प्रश्न इसकी उत्पत्ति रही थी। पूर्व की परिकल्पनाओं में पृथ्वी से विखंडन, अधिग्रहण और सह-अभिवृद्धि शामिल थी। आज भीमकाय टक्कर परिकल्पना व्यापक रूप से वैज्ञानिक समुदाय द्वारा स्वीकार्य है। सह-अभिवृद्धि सिद्धांत कहत ...

                                               

दक्षिण ध्रुव-ऐटकेन घाटी

दक्षिण ध्रुव-ऐटकेन घाटी चंद्रमा के विमुख फलक पर स्थित एक विशाल प्रहार क्रेटर है। तकरीबन 2.500 किमी चौड़ा और 13 किमी गहरा, यह सौरमंडल के ज्ञात सबसे बड़े प्रहार क्रेटरों में से एक है। चंद्रमा पर मान्यता प्राप्त यह सबसे बड़ी, सबसे पुरानी और सबसे गहर ...

                                               

सेलेन

सेलेन, जापान में अपने उपनाम कागुया से बेहतर जाना जाता है, एक द्वितीय जापानी चंद्र परिक्रमा अंतरिक्ष यान था।

                                               

बलुआ पत्थर

बालुकाश्म या बलुआ पत्थर ऐसी दृढ़ शिला है जो मुख्यतया बालू के कणों का दबाव पाकर जम जाने से बनती है और किसी योजक पदार्थ से जुड़ी होती है। बालू के समान इसकी रचना में भी अनेक पदार्थ विभिन्न मात्रा में हो सकते हैं, किंतु इसमें अधिकांश स्फटिक ही होता ह ...