Blog पृष्ठ 278




                                               

अनुकंपी अनुकारी औषधि

अनुकंपी अनुकारी औषधि उद्दीपक औषधियां हैं जो अनुकंपी तंत्रिका तंत्र के अंतर्जात प्रचालक के प्रभाव के जैसा प्रभाव उत्पन्न करते हैं।

                                               

अर्गट

अर्गट एक दवा है जिससे अनैच्छिक मांसपेशियों में संकोच होता है और इसलिए प्रसव के बाद असामान्य रक्तस्राव रोकने के लिए स्त्रियों को दिया जाता है। अधिक मात्रा में खाने पर यह तीव्र विष का गुण दिखाता है। नीवारिका नाम के निकृष्ट अन्न में बहुधा एक विशेष प ...

                                               

अवसादक

अवसादक वे नारकोटिक औषधियाँ हैं जो न्यूरोट्रांसमिशन के स्तर को घाटाती हैं जिससे अवसाद बढ़ता है तथा कोई भी कार्य करने की क्षमता और उत्तेजना कम होती है। अवसादक अवैध पदार्थ और दवाइयों के सामान इस्तेमाल किये जाते हैं। इन्हें लेने से शारीरिक क्रियाशीलत ...

                                               

आवश्यक औषधि

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने आवश्यक औषधियों की निम्नलिखित परिभाषा की है: वे औषधियाँ जो बहुसंख्यक लोगों स्वास्थ्य संबन्धी आवश्यकताओं को संतुष्ट करती हैं, आवश्यक औषधि कहलाती हैं। इसलिए वे सदा पर्याप्त मात्रा में, समुचित रूप में तथा जनता द्वारा वहन करने ...

                                               

इमिपेनेम

इमिपेनेम एक प्रकार का औषधि है। यह एन्टिबायोटिक बेटा लॅक्टम एन्टिबायोटिक है। इसे इन्ट्राभेनस मार्ग से दिया जाता है। यह एन्टिबायोटिक का प्रयोजन ग्राम पोजिटिभ, ग्राम नेगेटिभ एवम्‌ एनेरोबिक बॅक्टेरिया के विरुद्ध में किया जा सकता है। इस औषधि को गर्भवत ...

                                               

उद्दीपक

उद्दीपक वह साईकोएक्टिव औषधि है जिनसे मनुष्य के शारीर की और मस्तिष्क की अस्थायी स्थिति को रोकती है। यह वह औषधियाँ है जो मनुष्य के शरीर की कार्यशीलता को बढ़ाती है। इनका सेवन करने से सतर्कता बढती है, नींद कम होती है। उद्दीपक औषधि दुनिया भर में व्याप ...

                                               

एमोबार्बिटल

एमोबार्बिटल जिसे पहले एमाइलोबार्बिटोन के नाम से जाना जाता था, बार्बिट्यूरेट से व्युतपन्न औषधि है। इसमें शामक-स्वापक और दर्दनिवारक गुण होते हैं। यह एक गंधहीन और हल्के कड़वे स्वाद का सफेद क्रिस्टलीय पाउडर है। यह पहली बार 1923 में जर्मनी में संश्लेष ...

                                               

ननस्टेरोइडल एन्टी इन्फ़्लामेटरी औषधि

ननस्टेरोइडल एन्टी इन्फ़्लामेटरी औषधि औषधि का एक समूह है। यह समूह की औषधि पीडा घटाने मै, तापक्रम घटाने मै और इन्फ़्लामेसन को नियन्त्रण करने के लिए प्रयोग होते है।

                                               

नागबेली

नागबेली नेपाल, सिक्किम आदि हिमालयीय क्षेत्रों में पाई जाने वाली वनस्पति है। इस आकर्षक वनस्पति का विवाह तथा अन्य अवसरों पर सजावटी कार्यों में प्रयोग किया जाता है। वनस्पति जगत के लाइकोपोडियासी परिवार अन्तर्गत का यह वनस्पति का वैज्ञानिक नाम लाइकोपोड ...

                                               

प्रत्यम्ल

प्रत्यम्ल वे पदार्थ हैं जो आमाशय की अम्लता को उदासीन करने का काम करते हैं जिससे आमाशय की जलन, अपच आदि से छुटकारा मिलता है।

                                               

बुख़ारी दौरे

नन्हें शिशुओं और छोटे बच्चों में बुखार के दौरान आने वाले झटकों, अकड़न और बेहोशी के दौरों को फेब्राइल कन्वल्शन या बुख़ारी दौरे कहते हैं। इस दौरान आंखे खुली रह जाती है या ऊपर की दिशा में मुड जाती है। बच्चे को आसपास का ध्यान नहीं रहता। हाथ, पैऔर चेह ...

                                               

मजून

मजून यूनानी चिकित्सा में प्रयुक्त एक दवा है जो मिथुन वर्धन के उपयोग में लाई जाती है। उत्तरी पाकिस्तान में इसका प्रयोग अब भी किया जाता है। कहा जाता है कि सिकन्दर और बाबर ने भारत प्रवेश करते वक़्त इसका पान किया था। इसको बनाने के लिए हिरण की नाभि, स ...

                                               

लीसर्जिक एसिड डाईएथिलेमाइड

लीसर्जिक एसिड डाईएथिलेमाइड एक अर्धसंश्लेषित औषधि है जो मनोवैज्ञानिक प्रभाव देती है। इसको खाने से व्यक्ति अपना संतुलन खो देता है और आस-पास के वातावरण से बिलकुल ही अलग हो जाता है। वह सब बातें सोचने लगता है जिसका वास्तविक जीवन से कोई लेना देना नही ह ...

                                               

विकिरण औषधि

विकिरण औषधि औषधियों के उस समूह को हकते हैं जिनमें रेडियोसक्रिय समस्थानिक होते हैं। विकिरण औषधियों का उपयोग निदानात्मक कार्यों के लिए किया जाता है या चिकित्सा के लिए।

                                               

सम्मोहक

सम्मोहक एक मनोसक्रिय भेषज है जिसका प्राथमिक कार्य निद्रा लाना या निद्रावस्था को प्रेरित करना है। इसके साथ ही इसे अनिद्रा के उपचार में और शल्य चिकित्सा के दौरान एक निश्चेतक के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। इसे निद्राजनक भी कहा जाता है।

                                               

सल्फोनेमाइड

सल्फ़ोनेमाइड द्रव्यों का एक वर्ग जिसके आधापर अनेकों दवाएँ बनायी जाती हैं। इसमें पैरा-ऐमिनो-बेंजीन सल्फ़ोनेमाइड का मूल-रचना-सूत्र विद्यमान है। पैराऐमिनो बेंजीन सल्फ़ोनेमाइड को सल्फ़ोनिल ऐमाइड भी कहते हैं और इस यौगिक में सल्फ़ोनेमाइड मूलक के हाइड्र ...

                                               

सेफालोस्पोरिन

सेफालोस्पोरिन एक प्रकार का बेटा लेक्टम एन्टिबायोटिक परिवार है। इस परिवार मै जेनेरेसन अनुसार विभिन्न औषधि होते है। इस प्रकार के औषधि प्रायः ग्राम पोजिटिभ और ग्राम नेगेटिभ ब्याक्टेरियाऔं के विरुद्ध में दिया जाता है।

                                               

स्वापक

वह पदार्थ जिसे मनुष्य द्वारा सेवन करने पर उसकी सामान्य कार्य प्रणाली पर प्रभाव पड़ता है, वह पदार्थ स्वापक या नारकोटिक औषधि कहलाते हैं। यह वह मनोसक्रिय औषधि है जो सेवन के बाद नींद उत्पन्न करते हैं। नारकोटिक औषधियां जैसे की गांजा, अफीम, चरस, भांग आ ...

                                               

हृदय की दर

समय की प्रत्येक इकाई में होने वाली ह्रदय की धड़कनों की संख्या को ह्रदय की दर कहते हैं – इसे धड़कन प्रति मिनट के रूप में व्यक्त किया जाता है – जो शरीर की आक्सीजन का अवशोषण और कार्बन डाई आक्साइड का उत्सर्जन करने की आवश्यकता के अनुसार भिन्न हो सकती ...

                                               

अतिवसारक्तता (हाइपरलिपीडेमिया)

हाइपरलिपीडेमिया, हाइपरलिपोप्रोटीनेमिया, या हाइपरलिपीडाएमिया रक्त में लिपिड तथा/अथवा लाइपोप्रोटीन के किसी अथवा सभी स्तरों की असामान्य रूप से बढ़ी हुई स्थिति होती है। thefreedictionary.com> hyperlipidemia उल्लेख करता है: उपभोक्ताओं के लिए डोरलें ...

                                               

इकोकार्डियोग्राफी

इकोकार्डियोग्राम, चिकित्सकीय समुदाय में अक्सर हृदयीय अनुनाद कार्दियाक इको या बस इको के रूप में जाना जाता है, जो हृदय का सोनोग्राम है. इसके अलावा यह हृदयीय अल्ट्रासाउंड के रूप में भी जाना जाता है, यह ह्रदय के दो आयामी छोटे-छोटे हिस्सों की छवि के ल ...

                                               

स्टेंट

स्टेंट आयुर्विज्ञान में एक कृत्रिम उपकरण को कहा जाता है जो शरीर के प्राकृतिक मार्ग/नाली में रोगग्रस्त प्रवाह अथवा आकुंचन को रोकने के लिये या प्रतिक्रिया देने के लिये प्रयुक्त होता है। इस शब्द का सन्दर्भ अस्थायी रूप से उपयोग की जाने वाली नलिका के ...

                                               

अनुर्वरता

अनुर्वरता, नपुंसकता या बाँझपन मूलरूप में संतानोत्पत्ति की स्थायी अक्षमता की अवस्था है। मनुष्यों में एक वर्ष तक प्रयास करते रहने के बाद अगर गर्भधारण नहीं होता तो उसे बन्ध्यता या अनुर्वरता कहते हैं। यह केवल स्त्री के कारण नहीं होती। केवल एक तिहाई म ...

                                               

कृत्रिम वीर्यसेचन

कृत्रिम वीर्यसेचन Intrauterine insemination गर्भधारण कराने के उद्देश्य से मैथुन के बजाय अन्य तरीके से मादा के गर्भाशय में नर का शुक्राणु पहुँचाना होता है। मानवों में यह कार्य मुख्यतः बाँझपन की चिकित्सा के रूप में प्रयोग किया जाता है जबकि गाय-भैस ...

                                               

पात्रे निषेचन

पात्रे निषेचन या इन विट्रो फर्टिलाइजेशन, निषेचन की एक कृत्रिम प्रक्रिया है जिसमें किसी महिला के अंडाशय से अंडे निकालकर उसका संपर्क द्रव माध्यम में शुक्राणुओं से कराया जाता है। इसके बाद निषेचित अंडे को महिला के गर्भाशय में रख दिया जाता है। और इस त ...

                                               

डिम्बग्रंथि

डिम्बग्रंथि स्त्री जननांग या स्त्री प्रजनन प्रणाली का एक भाग हैं। महिलाओं में गर्भाशय के दोनों ओर डिम्बग्रंथियां होती है। यह देखने में बादाम के आकार की लगभग ३.५ सेमी लम्बी और २ सेमी चौड़ी होती है। इसके ऊपर ही डिम्बनलिकाओं कि तंत्रिकाएं होती है जो ...

                                               

अनिल कुमार भल्ला

अनिल कुमार भल्ला जिन्हें डॉ ए. के. भल्ला के नाम से भी जाना जाता है दिल्ली स्थित एक भारतीय किडनी प्रत्यारोपण सर्जन हैं। वर्तमान में वह सर गंगा राम अस्पताल के नेफ्रोलॉजी विभाग के सह-अध्यक्ष हैं। मेडिकल साइंस के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए भल्ला ...

                                               

अब्बास इब्न फ़िरनास

‎‏ ‏ अब्बास इब्न फ़िरनास ; Abbas Ibn Firnas, अरबी: عباس بن فرناس ‎,‏‎ पूरा नाम: अबू अल-कासिम अब्बास इब्न फ़िरनास इब्न वर्दास अल-टकूरिनी, 810-887 ईस्वी एक आविष्कारक, चिकित्सक, रसायन, तथा इंजीनियर अल अंदूलसी संगीतकाऔर अरबी भाषा के एक कवी थे वह बर्ब ...

                                               

अरविंदर सिंह सोइन

अरविंदर सिंह सोइन एक सर्जन और लीवर प्रत्यारोपण के क्षेत्र में अग्रणी है। वर्तमान में, वह लिवर प्रत्यारोपण और रीजनेटिव चिकित्सा संस्थान, मेदांता-द मेडिसिटी, गुड़गांव, भारत के अध्यक्ष हैं। 2010 में, डॉक्टरी के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए भारत के ...

                                               

एण्ड्रयू टेलर स्टिल

एण्ड्रयू टेलर स्टिल अस्थिचिकित्सा के जनक माने जाते हैं। वे चिकित्सक और सर्जन, अन्वेषक थे। वे बेकर विश्वविद्यालय के संस्थापकों में से एक थे।

                                               

के. के. अग्रवाल

डॉ के के अग्रवाल एक भारतीय चिकित्सक और हृदय रोग विशेषज्ञ हैं जो भारत के हार्ट केयर फाउंडेशन के अध्यक्ष और गैर सरकारी संगठन के तत्काल पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष भारतीय चिकित्सा संघ हैं। उन्हें भारत सरकार ने दवा के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए, देश ...

                                               

कोदगानुर एस. गोपीनाथ

डॉ कोडगनुर एस गोपीनाथ एक भारतीय सर्जिकल ऑन्कोलॉजिस्ट हैं, जो ऑन्कोलॉजिकल अनुसंधान पर अपने अग्रणी काम के लिए जाना जाता है। वह डॉ सी रॉय अवॉर्ड सहित कई पुरस्कार के प्राप्तकर्ता हैं जिन्हें देश में प्रमुख मेडिकल सम्मान माना जाता है। भारत के राष्ट्रप ...

                                               

ख़ालेद हुसैनी

खालेद हुसैनी का जन्म अफगानिस्तान में हुआ था। पांच बच्चो में से वे सबसे बड़े थे। उन्होंने अपना बचपन काबुल में बिताया था। उनके पिता विदेश मंत्रालय में काम करते थे जबकि उनकी माँ फारसी साहित्य सिखाया करती थी। वह भारतीय सिनेमा से बहुत उत्कृस्ट हो गए थ ...

                                               

फिलिप अगस्तिन

डॉ फिलिप अगस्तिन एक भारतीय गैस्ट्रोएन्टरोलॉजिस्ट, जठरांत्र संबंधी एंडोस्कोपी में विशेषज्ञ और केरल के एर्नाकुलम के एक अस्पताल प्रशासक हैं। उन्होंने 2003 में लखशेर अस्पताल और रिसर्च सेंटर की स्थापना की जो दक्षिण भारत में सबसे बड़ी मल्टीस्पेशियल अस् ...

                                               

फ्रांसिस बुकानन

फ्रांसिस बुकानन एक चिकित्सक था जो बंगाल चिकित्सा सेवा में १७९४ से १८१५ तक कार्यरत रहा। कुछ समय के लिए वह लार्ड वेलेजली का शल्य चिकित्सक भी रहा। कोलकाता में उसने एक चिड़ियाघर की स्थापना की जो कलकत्ता अलीपुर चिड़ियाघर के नाम से मशहूर हुआ। 1वह एक डॉ ...

                                               

भक्ति यादव

डॉक्टर भक्ति यादव भारत की एक् समाजसेवी चिकित्सक थीं। वे निर्धन लोगों की निःशुल्क चिकित्सा करतीं थीं। उन्हें वर्ष २०१७ मे पद्मश्री से सम्मानित किया गया। अधिक उम्र होने की वजह से डॉक्टर उस कार्यक्रम में शामिल नहीं हो सकी थीं अतः नियमानुसार इंदौर कल ...

                                               

मार्गरेट रिया सेडन

मार्गरेट रिया सेडन एक चिकित्सक और NASA की रिटायर्ड अंतरिक्ष यात्री है। अपनी पहली अंतरिक्ष यात्रा के बाद उन्होंने तीन अंतरिक्ष शटल उड़ानों पर उड़ान भरी मिशन विशेषज्ञ के रूप में STS-51-D,STS-40 में और STS-58 में पेलोड कमांडर के रूप में। अपने अंतरिक ...

                                               

रवीन्द्र नारायण सिंह

रवीन्द्र नारायण सिंह एक भारतीय हड्डी रोग चिकित्सक और बिहार ओर्थोपेडिक एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष हैं। वह पटना स्थित आर्थोपेडिक हेल्थकेयर सेंट्रैण्ड अनूप मेमोरियल ऑर्थोपेडिक सेंटर और रिसर्च इंस्टीट्यूट में एक माननीय परामर्शदाता हैं और अनूप इंस्टीट् ...

                                               

विलियम जेनर

सर विलियम जेनर प्रसिद्ध अंग्रेज कायचिकित्सक । वे टाइफस और टाइफायड ज्वर के अन्तर को बताने के लिये प्रसिद्ध हैं। इनका जन्म ३० जनवरी, १८१५ को चैथम में हुआ था। इन्होंने यूनिवर्सिटी कालेज लंदन में शिक्षा प्राप्त की। सन् १८४७ में इन्होंने अविराम ज्वर c ...

                                               

सत्यनारायण शास्त्री

पंडित सत्यनारायण शास्त्री आधुनिक आयुर्वेदजगत्‌ के प्रख्यात पंडित और चिकित्साशास्त्री थे। आयुर्वेद की धवल परंपरा को सजीव बनाए रखने के लिए आपने जीवन भर कार्य किया। उन्हें चिकित्सा विज्ञान क्षेत्र में पद्म भूषण से १९५४ में सम्मानित किया गया।

                                               

सत्यव्रत सिद्धांतालंकार

सत्यव्रत सिद्धांतालंकार भारत के शिक्षाशास्त्री तथा सांसद थे। वे उपनिषदों के एक मूर्धन्य ज्ञाता थे। वे गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय के उपकुलपति रहे तथा उन्होने शिक्षाशास्त्र एवं समाजशास्त्पर कई पुस्तकें लिखीं। इन्होने स्वाधीनता अान्दोलन के दौरान ...

                                               

हेरमान बूरहावे

हेरमान बूरहावे पूरे यूरोप में प्रसिद्ध डेनमार्क का चिकित्साविद, वनस्पतिविज्ञानी, इसाई मानतावादी था। वह नैदानिक शिक्षा का संस्थापक तथा कभी-कभी आधुनिक शरीरक्रियाविज्ञान का जनक भी माना जाता है। । उसका सिद्धान्त था- सरलता सत्य की पहचान है। हेरमान का ...

                                               

अक्षिदोलन

अक्षिदोलन वह लक्षण है जिसमे नेत्रों की ऐच्छिक या अनैच्छिक गति होती है। यह बचपन में या बाद में हो सकती है। इसके कारण दृष्टि कम या सीमित हो सकती है। चक्षुदोलन के दो रूप होते हैं: विकृतिजन्य पैथोलॉजिकल और शरीरक्रियात्मक फिजियोलॉजिकल।

                                               

ड्रॉप्सी

जब त्वचा के नीचे स्थित अंतराकाश या शरीर के एक या अधिक कोटरों में असामान्य रूप से द्रव इकट्ठा हो जाता है तो इस लक्षण को शोफ या एडेमा कहते हैं। पहले इसे जलशोथ, ड्रॉप्सी कहते थे।

                                               

कर्णविज्ञान

कर्णविज्ञान आयुर्विज्ञान की वह शाखा है जिसमें कान और उसकी शारीरिकी व कार्यिकी से सम्बन्धित रोगों और विकृतियों का अध्ययन व चिकित्सा करी जाती है। कान का भीतरी भाग शरीर में संतुलन रखने के लिए आवश्यक भी होता है इसलिए इसकी चिकित्सा भी कर्णविज्ञान का भ ...

                                               

टोमोग्राफी

कम्प्यूटर टोमोग्राफी या सीटी एक प्रकार की चिकित्सीय चित्रांकन तकनीक है जो टोमोग्राफी पर आधारित है। इसे सबसे पहले विकसित करने वाली कम्पनी के नाम पर इसे पूर्व में "ईएमआई" भी कहा जाता था। बाद में इसे "कम्प्यूटर ऐक्सिअल टोमोग्राफी" के नाम से भी जाना ...

                                               

डॉ. बी. सी. रॉय राष्ट्रीय पुरस्कार

डॉ. बी. सी. रॉय राष्ट्रीय पुरस्कार अथवा बिधान चंद्र रॉय राष्ट्रीय पुरस्कार की स्थापना 1962 में भारतीय चिकित्सा परिषद द्वारा बिधान चंद्र रॉय की स्मृति में की गई थी। राज्यमत्व, मेडिकल मैन-कम-स्टेटनैन, प्रख्यात मेडिकल व्यक्ति, दर्शन में प्रख्यात व्य ...

                                               

मध्यान्त्र

मध्यान्त्र को अंग्रेजी में जेजुनम कहा जाता है। यह छोटी आंत का मध्य भाग है जो ग्रहणी को शेषांत्र से जोड़ता है। यह लगभग 2.5 मीटर लंबा होता है। इसमें प्लिकाई सरकुलरीज और विलाई नामक संरचनाएं होती हैं जो क्षेत्रफल बढ़ाती हैं। पाचन के बाद सुगर, फैटी एस ...

                                               

आटोक्लेव

साँचा:Infobox Laboratory equipment आटोक्लेव एक ऐसा साधन है, जो उपकरणों और सामग्रियों को उनके भाऔर अन्तर्वस्तु के आधार पर, विशेषतः 15 से 20 मिनट तक, 121 °C या अधिक के उच्च दबाव वाले वाष्प के अधीन रख कर, उन्हें निष्कीटित करता है। 1879 में चार्ल्स च ...

                                               

ऋणात्मक दाब श्वासयंत्र

नकारात्मक दाब श्वासयंत्र जिसे प्रायः लौह फेफड़े के नाम से भी संदर्भित किया जाता है, श्वासयंत्र का एक प्रकार है जो फेफड़ों की मांसपेशी नियंत्रण खोने से सांस लेने में असमर्थ या कमजोर होने की स्थिति में व्यक्ति को सांस लेने में समर्थ बनाता है। अब नक ...