Blog पृष्ठ 284




                                               

शृंखला अभिक्रिया

किसी अभिक्रिया का बार-बार इस प्रकार होना कि अभिक्रियाशील उत्पाद या उप-उत्पाद के द्वारा फिर वही अभिक्रिया होने लगे तो ऐसी अभिक्रिया को शृंखला अभिक्रिया या चेन रिएक्सन कहते हैं। शृंखला अभिक्रिया में धनात्मक फीडबैक की स्थिति रहती है और इससे अभिक्रिय ...

                                               

साम्य स्थिरांक

किसी रासायनिक अभिक्रिया का साम्य स्थिरांक या सन्तुलन स्थिरांक उस अभिक्रिया के साम्य अवस्था में अभिक्रिया भजनफल के मान के बार होती है।

                                               

इथेनॉल

इसको तैयार करने की दो विभिन्न विधियाँ हैं: १ संश्लेषण विधि -एथिलीन गैस को सांद्र सल्फ़्यूरिक अम्ल में शोषित कराने से एथिल हाइड्रोजन सल्फ़ेट बनता है जो जल के साथ उबालने पर उद्धिघटित हाइड्रोलाइज़ होकर एथिल ऐल्कोहल देता है। इस विधि का प्रचलन अभी अधि ...

                                               

एथिलीन

एथिलीन एक हाइड्रोकार्बन है जिसका अणुसूत्र C 2 H 4 or H 2 C=CH 2 है। यह एक रंगहीन, ज्वलनशील गैस है जिसकी गंध हल्की मीठी कस्तूरी होती है। रासायनिक उद्योगों में एथिलीन का बहुतायत में उपयोग होता है। २००६ में इसका वैश्विक उत्पादन 109 मिलियन टन से भी अ ...

                                               

ग्लीसरीन

ग्लिसरिन या ग्लीसरॉल एक कार्बनिक यौगिक है। यह तेल और वसा में पाया जाता है। यह रंगहीन, गंधहीन एवं श्यान द्रव है जिसका प्रयोग औषधि निर्माण में बहुतायत से होता है। ग्लिसरॉल का उपयोग मनुष्य अपने त्वचा पर लगाने में उपयोग करता है ग्लिसरॉल रॉल तीन जलप्र ...

                                               

नायलॉन

नायलॉन कुछ ऐलिफ़ैटिक यौगिकों पर आधारित कृत्रिम पॉलीमरों का सामूहिक नाम है। यह एक रेश्मी थर्मोप्लास्टिक सामग्री होती है जिसे रेशों, परतों और अन्य आकारों में ढाला जा सकता है। नायलॉन आर्थिक रूप से महत्वपूर्ण है और इसका प्रयोग दाँत के बुरुशों, वस्त्र ...

                                               

बेंजीन

साँचा:Chembox LambdaMaxसाँचा:Chembox MagSusसाँचा:Chembox DeltaHcसाँचा:Chembox HeatCapacity बेंज़ीन या धूपेन्य एक हाइड्रोकार्बन है जिसका अणुसूत्र C 6 H 6 है। बेंजीन का अणु ६ कार्बन परमाणुओं से बना होता है जो एक छल्ले की तरह जुड़े होते हैं तथा प्रत ...

                                               

मेथेनॉल

मेथेनॉल एक कार्बनिक यौगिक है जिसका अणुसूत्र CH 3 OH है। इसे मेथिल अल्कोहल, काष्ठ अल्कोहल, काष्ठ नैफ्था, मेथिल हाइद्रेट और काष्ठ स्पिरिट भी कहते हैं। इसको काष्ठ अल्कोहल इसलिये कहते थे क्योंकि एक समय में यह प्रायः लकड़ी के भंजक आसवन से प्राप्त की ज ...

                                               

यूरिया

यूरिया एक कार्बनिक यौगिक है जिसका रासायनिक सूत्र 2 CO होता है। कार्बनिक रसायन के क्षेत्र में इसे कार्बामाइड भी कहा जाता है। यह एक रंगहीन, गन्धहीन, सफेद, रवेदार जहरीला ठोस पदार्थ है। यह जल में अति विलेय है। यह स्तनपायी और सरीसृप प्राणियों के मूत्र ...

                                               

वसा अम्ल

वसा अम्ल कार्बन परमाणुओं की लम्बी श्रृंखला द्वारा गठित कार्बनिक अम्ल हैं, जिनके एक सिरे पर कार्बोक्सिलिक मूलक होता है। यह संतृप्त तथा असंतृप्त दोनों ही प्रकार का होता है। जिस वसा अम्ल के सभी बंध एकल होते हैं उसे संतृप्त तथा जिसमें एकल के अतिरिक्त ...

                                               

सॉर्बिटॉल

Sorbitol एक कार्बनिक अल्कोहल है जो चीनी या मिठास के लिए खाने और टूथपेस्ट जैसी चीज़ों में इस्तेमाल किया जाता है। यह कृत्रिम होता है लेकिन आजकल बहुत इस्तेमाल हो रहा है। साँचा:Chemistry-stub

                                               

कृष्णिका

एक ऐसी वस्तु जो अपने पृष्ठ पर आपतित सभी तरंगदैध्यो के विकिरणो का पूर्णतयः अवशोषण कर लेती है उसे कृष्णिका कहते है।। भौतिक विज्ञान में कृष्णिका पदार्थ की एक आदर्शीकृत अवस्था है, जो अपने ऊपर पड़ने वाले सभी विद्युत चुम्बकीय विकिरण अवशोषित कर लेता है। ...

                                               

ऊष्मा रोधन

दो वस्तुओं के बीच में ऊष्मा के प्रवाह में अवरोध को ऊष्मा अवरोधन कहते हैं। ऊष्मा के रोधन के लिये विशेष रूप से अभिकल्पित प्रक्रमों, विशेष आकर तथा उपयुक्त पदार्थों का चुनाव बहुत जरूरी है। दो अलग-अलग ताप वाली वस्तुओं के सीधे सम्पर्क में आने पर उनके ब ...

                                               

ऊष्मीय संतुलन

दो भौतिक तंत्र ऊष्मीय संतुलन में कहें जाते हैं जब उन दोनो के बीच ऊष्मा के लिए पारगम्य मार्ग हो लेकिन इसके बावजूद उनके बीच ऊष्मीय ऊर्जा का कोई औसत प्रवाह न हो। कोई भौतिक तंत्र स्वयं अपने भीतर ऊष्मीय संतुलन में तब कहा जाता है जब उसके सभी भागों में ...

                                               

कैलोरी

कैलोरी ऊर्जा की इकाई है। यह मापन की मीटरी पद्धति का अंग है और इसके संगत एस आई प्रणाली में अब जूल का प्रयोग किया जाता है किन्तु भोजन में निहित ऊर्जा तथा कुछ अन्य उपयोगों में अब भी कैलोरी का ही प्रयोग किया जाता है। १००० कैलोरी को १ किलोकैलोरी कहते ...

                                               

विकिरण

भौतिकी में प्रयुक्त विकिरण ऊर्जा का एक रूप है जो तरंगों या किसी परमाणु या अन्य निकाय द्वारा उत्सर्जित गतिशील उपपरमाणुविक कणों के रूप में उच्च से निम्न ऊर्जा अवस्था की ओर चलती है। विकिरण को परमाणु पदार्थ पर उसके प्रभाव के आधापर या विआयनीकारक के रू ...

                                               

अवमंदक विकिरण

अवमंदक विकिरण या ब्रेम्स्ट्रालुंग का संकीर्ण अर्थ उस विकिरण से है जो किसी आवेशित कण के अवमन्दित होने पर निकलता है। किन्तु व्यापक अर्थ में किसी आवेशित कण के त्वरित होने से पैदा होने वाले सभी प्रकार के विकरण ब्रेम्स्ट्रालुंग कहलाते हैं। किसी आवेशित ...

                                               

क्वान्टमी लब्धि

विकिरण से प्रेरित किसी प्रक्रम की क्वाण्टमी लब्धि) से तात्पर्य यह है कि एक फोटॉन के अवशोषित होने पर कितने गुना वह विशेष घटना घटित होती है। उदाहरण के लिए, किसी फोटोडीजनरेशन प्रक्रिया में, प्रकाश के अवशोषण के परिणामस्वरूप अणु विलगित होते हैं। इस प् ...

                                               

बीटा कण

कुछ रेडियोसक्रिय नाभिकों से उत्सर्जित होने वाले उच्च-ऊर्जा तथा उच्च-वेग वाले इलेक्ट्रॉन या पॉजिट्रॉनों को बीटा कण कहते हैं। ये एक प्रकार के आयनकारी विकिरण हैं। इन्हें बीटा किरण भी कहते हैं। रेडियोसक्रिय नाभिक से बीटा कणों का निकलना बीटा-क्षय कहा ...

                                               

ब्रह्माण्ड किरण

ब्रह्माण्ड किरणें अत्यधिक उर्जा वाले कण हैं जो बाहरी अंतरिक्ष में पैदा होते हैं और छिटक कर पृथ्वी पर आ जाते हैं। लगभग ९०% ब्रह्माण्ड किरण प्रोटॉन होते हैं; लगभग १०% हिलियम के नाभिक होते हैं; तथा १% से कम ही भारी तत्व तथा इलेक्ट्रॉन होते हैं। वस्त ...

                                               

भोज्य पदार्थों का किरणन

भोज्य पदार्थों के ऊपर आयनकारी विकिरण डालने से उसमें उपस्थित सूक्ष्मजीव, जीवाणु, विषाणु एवं कीट आदि नष्ट हो जाते हैं। इस क्रिया को खाद्य पदार्थों का किरणन या खाद्य पदार्थों का विकिरणन कहा जाता है। इसके अलावा खाद्य पदार्थों के विकिरणन के फलस्वरूप अ ...

                                               

विकिरण दाब

विकिरण दाब किसी सतह पर विद्युतचुंबकीय विकिरण पड़ने से पैदा होने वाले दाब को कहते हैं। यह दाब भिन्न प्रकार की वस्तुओं पर विकिरण के अवशोषण, परावर्तन या इनके मिले-जुले प्रभाव के कारण उत्पन्न होता है। क्योंकि प्रकाश भी एक प्रकार का विद्युतचुंबकीय विक ...

                                               

विकिरण सुरक्षा

आयनकारी विकिरण के हानिकारक प्रभावों से व्यक्तियों एवं पर्यावरण को सुरक्षित रखने वाले विज्ञान एवं व्यवहार का नाम विकिरण संरक्षा या विकिरण सुरक्षा है। उद्योग एवं चिकित्सा में आयनकारी विकिरण का बहुतायत से उपयोग होता है। इस कारण यह स्वास्थ्य के लिये ...

                                               

सिंक्रोट्रॉन विकिरण

सिंक्रोट्रॉन विकिरण वह विद्युत्चुम्बकीय विकिरण है जो आवेशित कणों को उनके पथ के लम्बवत दिशा में त्वरित करने पर उत्पन्न होता है। सिंक्रोट्रॉन विकिरण स्रोतों से प्राप्त सिंक्रोट्रॉन विकिरण उनमें लगे द्विध्रुवी चुम्बकों तथा अनडुलेटर और/या विगलर से प् ...

                                               

स्वतः उत्सर्जन

स्वतः उत्सर्जन वह प्रक्रम है जिसमें कोई क्वान्टमयांत्रिक प्रणाली किसी उत्तेजित अवस्था से कम ऊर्जा की अवस्था में लौटते हैं तथा इस क्रिया में फोटॉन उत्सर्जित करते हैं। हमारे आसपास जो अधिकांश प्रकाश है, वह स्वतः उत्सर्जन से ही निकली हुई है। यदि परमा ...

                                               

स्वास्थ्य भौतिकी

स्वास्थ्य भौतिकी, विकिरण संरक्षा से सम्बन्धित अनुप्रयुक्त भौतिकी की शाखा है। यह वह विज्ञान है जो आयनकारी विकिरण के उपयोग में आने वाले स्वास्थ्य खतरों की पहचान करने, उनका सही मूल्यांकन करने, तथा उनका नियन्त्रण करने से सम्बन्धित है।

                                               

कारेज़

कारेज़, कारीज़ या क़नात शुष्क या अर्ध-शुष्क और गरम इलाक़ों में नियमित रूप से लगातार पानी उपलब्ध कराने की एक व्यवस्था है।

                                               

कुआँ

Well कुआँ:--धरती से स्वक्ष पानी निकालने का सबसे पहला और सरल तरीका कुआँ है।कुआँ का आकार गोलाकार या वृत के समान होते हैं।इसका ब्यास 3 फिट से 8फिट तक हो सकती है।इसकी गहराई 30फिट से लेकर 100फिट तक हो सकती है ।इसका निर्माण मनुष्य आज के किसी भी प्रकार ...

                                               

गंगा नदी घाटी प्राधिकरण

राष्ट्रीय गंगा नदी घाटी प्राधिकरण गंगा नदी के लिए वित्तपोषण, योजना, कार्यान्वयन, निगरानी और समन्वय प्राधिकरण है जो भारत के जल संसाधन मंत्रालय के अधीन काम करता है।

                                               

तटबन्ध

तटबंध, ऐसे बाँध अर्थात् पत्थर या कंक्रीट के पलस्तर से सुरक्षित, मिट्टी या मिट्टी तथा कंकड़ इत्यादि के मिश्रण से बनाए तटों या ऊँचे, लंबें टीलों, को कहते हैं, जिनसे पानी के बहाव को रोकने अथवा सीमित करने का काम लिया जाता है, जैसे ३ समुद्र के किनारे ...

                                               

औद्योगिक गैस

औद्योगिक गैस ऐसी गैस को कहा जाता है जिसका प्रयोग किसी औद्योगिक प्रक्रिया में हो। अक्सर यह गैसें इन्हीं इस्तेमालों के लिये विषेश रूप से बनाई या शुद्ध की जाती हैं। नाइट्रोजन, ओक्सीजन, कार्बन डायोक्साइड, आर्गन, हायड्रोजन, हीलीयम और ऐसिटलीन सबसे ज़्य ...

                                               

फ़ॉस्फ़ीन

फ़ॉस्फ़ीन फास्फोरस का एक यौगिक है जिसका रासायनिक सूत्र PH 3 है। यह रंगहीन, ज्वलनशील एवं विषैली गैस है। शुद्ध फॉस्फीन गंधहीन होती है किन्तु तकनीकी ग्रेड के नमूनों में सड़ी मछली जैसी या सिरके जैसी अत्यन्त खराब गन्ध होती है। फॉस्फीन में P 2 H 4 की अ ...

                                               

फ्लोरीन

फ्लोरीन एक रासायनिक तत्व है। यह आवर्त सारणी periodic table के सप्तसमूह का प्रथम तत्व है, जिसमें सर्वाधिक अधातु गुण वर्तमान हैं। इसका एक स्थिर समस्थानिक भारसंख्या 19 प्राप्त है और तीन रेडियोधर्मिता समस्थानिक भारसंख्या 17.18 और 20 कृत्रिम साधनों से ...

                                               

मिथेन

मिथेन एक रंगहीन तथा गन्धहीन गैस है जो ईंधन के रूप में उपयोग की जाती है। यह प्राकृतिक गैस का मुख्य घटक है। मिथेन गैस का रासायनिक सूत्र CH 4 है। यह अल्केन श्रेणी का प्रथम सदस्य है और सबसे साधारण हाइड्रोकार्बन है। जब यह सतह और वातावरण पहुंचता है, यह ...

                                               

हाइड्रोजन

हाइड्रोजन की खोज 1766 में हेनरी केवेण्डिस ने की थी । इन्होने इसे लोहा पर तनु सल्फ्यूरिक अम्ल की अभिक्रिया से प्राप्त किया था तथा ज्वलनशील वायु नाम था। 1883 में लैवाशिए ने इसका नाम हाइड्रोजन रखा क्योकि यह ऑक्सीजन के साथ जलकर जल बनाती है। हाइड्रोजन ...

                                               

प्रक्रम अभियान्त्रिकी

प्रक्रम अभियान्त्रिकी अभियान्त्रिकी की वह शाखा है जिसमें किसी लाभदायक जीववैज्ञानिक, रासायनिक या भौतिक प्रक्रिया की रूपरेखा निर्धारित, उसकी गति व उत्पादन पर नियंत्रण और उसके चालन में सबसे अधिक दक्षता प्राप्त की जाती है।

                                               

प्रकाशिक संचार

प्रकाशिक संचार प्रकाश द्वारा सूचना के संचार व प्रसारण को कहते हैं। यह व्योम, वायु, द्रव या ठोस में प्रकाश के खुले प्रसार द्वारा या इलैक्ट्रॉनिक उपकरणों के प्रयोग के साथ प्रकाश के प्रसार के साथ किया जाता है।

                                               

बेतार

बेतार का मतलब बिना किसी तार के सूचना सन्केतों के स्थानान्तरण से है।बेतार का तार का अविष्कार "मार्कोनी" ने सन् 1901 में किया था। सूचना प्रौद्योगिकी के आने से पहले बेतार का अर्थ रेडियो माना जाता था। आजकल बेतार का उपयोग कई जगहों पे होता है और इसके क ...

                                               

ब्लूटूथ

ब्लूटूथ बेतार संचार के लिए एक प्रोटोकॉल है। मोबाइल फोन, लैपटॉप, संगणक, प्रिंटर, अंकीय कैमरा और वीडियो गेम जैसे उपकरण इसके माध्यम से एक दूसरे से जुड़ कर जानकारी विनिमय कर सकते हैं। जुड़ने के लिए उपकरण रेडियो तरंगों का उपयोग करते हैं। ब्लूटूथ को मू ...

                                               

विकिरण ऊर्जा

विकिरण ऊर्जा विद्युतचुंबकीय और गुरुत्वीय विकिरण की ऊर्जा होती है। अगर विकिरण प्रकाश के रूप में हो तो यह आँखों द्वारा देखी जा सकती है लेकिन कई विकिरण मानवीय आँखों को प्रतीत नहीं होती है। सूरज में इसी विकिरण ऊर्जा द्वारा गरम करनी की क्षमता होती है।

                                               

विकिरण फ़्लक्स

रेडियोमिति में विकिरण फ़्लक्स या विकिरण शक्ति किसी स्रोत द्वारा या किसी स्थान पर विकिरण ऊर्जा की प्रति इकाई समय के प्रवाह को कहते हैं। विकिरण फ़्लक्स को अन्य किसी भी शक्ति की तरह वॉट या जूल प्रति सैकिंड में मापा जाता है।

                                               

उच्च वोल्टता

उच्च वोल्टता उस प्रणाली को कहते हैं जो निम्नलिखित से अधिक वोल्टता पैदा करे, संप्रेषित करे, उसका परिमाण बदले, तथा वितरित करे- प्रत्यावर्ती धारा: 1000 वोल्ट RMS से अधिक डीसी: 1500 वोल्ट से अधिक

                                               

टेसला कुंडली

टेसला कुण्डली निकोला टेसला द्वारा १८९१ में आविस्कृत एक अनुनादी ट्रांसफार्मर है। इसका उपयोग उच्च आवृत्ति, कम धारा तथा उच्च वोल्टता की विद्युत शक्ति उत्पन्न करने के लिये किया जाता है। यह इलेक्ट्रोमैग्नेटिक इंडक्शन पर काम करता है

                                               

पाशन नियम

पाशन नियम एक समीकरण है जो दो इलेक्ट्रोडों के बीच भरी गैस की भंजन वोल्टता बताता है। इस नियम का नाम फ्रेड्रिख पाशन के नाम पर पड़ा है जिसने १८८९ में यह नियम दिया था। V b = B p d l n A p d − l n }}}, जहाँ A {\displaystyle A} तथा B {\displaystyle B} न ...

                                               

ज्वारीय शक्ति

ज्वारीय शक्ति या ज्वारीय ऊर्जा जल विद्युत का एक रूप है जो ज्वार से प्राप्त ऊर्जा को मुख्य रूप से बिजली के उपयोगी रूपों में परिवर्तित करती है। समुद्र में आने वाले ज्वार-भाटा की उर्जा को उपयुक्त टर्बाइन लगाकर विद्युत शक्ति में बदल दिया जाता है। इसम ...

                                               

पवन ऊर्जा

बहती वायु से उत्पन्न की गई उर्जा को पवन ऊर्जा कहते हैं। वायु एक नवीकरणीय ऊर्जा स्रोत है। पवन ऊर्जा बनाने के लिये हवादार जगहों पर पवन चक्कियों को लगाया जाता है, जिनके द्वारा वायु की गतिज उर्जा, यान्त्रिक उर्जा में परिवर्तित हो जाती है। इस यन्त्रिक ...

                                               

उपक्रांतिक रिएक्टर

जो नाभिकीय विखण्डन रिएक्टर बिना क्रान्तिक हुए भी सतत नाभिकीय विखण्डन प्रदान करे उसे उपक्रांतिक रिएक्टर कहते हैं। इसमें शृंखला अभिक्रिया को बनाये रखने के लिए आवश्यक कुल न्यूट्रानों का कुछ भाग किसी वाह्य स्रोत से लिया जाता है। किसी कण त्वरक के साथ ...

                                               

कुडनकुलम नाभिकीय विद्युत परियोजना

कुंड़नकुलम नाभिकीय विद्युत परियोजना भारत के तमिलनाडु प्रदेश के कुंड़नकुलम में स्थित है। इसका निर्माण सन् २००२ में आरम्भ हुआ और १३ जुलाई २०१३ को यह क्रान्तिक हुआ। इस परियोजना में 1000 मेगावाट विद्युत क्षमता वाले दो यूनिट हैं। पहले यूनिट ने २२ अक्ट ...

                                               

क्रान्तिकता (की अवस्था)

नाभिकीय शृंखला अभिक्रिया के सन्दर्भ में क्रान्तिकता उस अवस्था को कहते हैं जिसमें शृंखला अभिक्रिया स्वतःस्फूर्त या स्वपोषी हो जाती है। इस अवस्था में अपक्रान्तिकता का मान शून्य होता है। क्रान्तिकता की अवस्था में, किसी निश्चित समय में जितने न्यूट्रॉ ...

                                               

थोरियम

थोरियम Thorium आवर्त सारणी के ऐक्टिनाइड श्रेणी actinide series का प्रथम तत्व है। पहले यह चतुर्थ अंतर्वर्ती समूह fourth transition group का अंतिम तत्व माना जाता था, परंतु अब यह ज्ञात है कि जिस प्रकार लैथेनम La तत्व के पश्चात् 14 तत्वों की लैथेनाइड ...