Blog पृष्ठ 349




                                               

डेनिस टीटो

डेनिस टीटो संयुक्त राज्य अमेरिका के निवासी हैं जो सर्वप्रथम अंतरिक्ष पर्यटक बने। उन्होने २८ अप्रैल २००६ से ०६ मई २००६ के बीच अंतरिक्ष में रहकर यह् किर्तिमान स्थापित किया।

                                               

रेस्तरां

रेस्तरां, वो स्थान होता है, जहां भोजन और पेय पदार्थों को तैयार करके परोसा जाता है और इस सेवा के बदले ग्राहक से पैसे लिए जाते हैं। आमतौपर खाने को रेस्तरां की रसोई में तैयार किया जाता है और रेस्तरां परिसर में ही परोसा जाता है, लेकिन आजकल रेस्तरांओं ...

                                               

होटल प्रबंधक

होटल प्रबन्धक उस व्यक्ति को कहा जाता है जो होटल, मोटेल, रिसोर्ट अथवा अन्य अस्थायी-प्रवास से स्म्बंधित स्थापनाओं में संक्रियाओं के प्रबन्धन का काम करता है।

                                               

इण्डिया गेट

इण्डिया गेट, नई दिल्ली के राजपथ पर स्थित ४३ मीटर ऊँचा विशाल means है। यह स्वतन्त्र भारत का राष्ट्रीय स्मारक है, जिसे पूर्व में किंग्सवे कहा जाता था। इसका डिजाइन सर एडवर्ड लुटियन्स ने तैयार किया था। यह स्मारक पेरिस के आर्क डे ट्रॉयम्फ़ से प्रेरित ...

                                               

क़ुतुब मीनार

कुतुब समूह के अन्य उल्लेखनीय स्थलों एवं निर्माणों हेतु देखें मुख्य लेख 28.524355°N 77.185248°E  / 28.524355; 77.185248 कुतुब मीनार भारत में दक्षिण दिल्ली शहर के महरौली भाग में स्थित, ईंट से बनी विश्व की सबसे ऊँची मीनार है। इसकी ऊँचाई 72.5 मीटर 2 ...

                                               

केथेड्रल डि सेगोविआ

केथेड्रल डि सेगोविआ स्पेन के सेगोविआ नगर के मध्य प्लाज़ा मेयर के पास स्थित एक प्रसिद्ध रोमन कैथोलिक गिरजाघर है। नगर की सबसे ऊँची चोटी, समुद्रतल से १००६ मीटर की ऊँचाई पर स्थित स्थापत्य का यह शिल्प अत्यंत प्रभावशाली दिखाई देता है। यही कारण है कि इस ...

                                               

चारबाग शैली

चारबाग फारसी-शैली में बाग का खाका होता है। एक वर्गाकार बाग को चार छोटे भागों में, चार पैदल पथों द्वारा बाँटा जाता है। फारसी में, हिन्दी समान ही चार अर्थात चार, एवं बाग अर्थात बाग होता है। ताजमहल के बाग भी इसी शैली के उत्कृष्टतम उदाहरण हैं। अधिकतर ...

                                               

ताला: मूर्तिकला का अनूठा केन्द्र

छत्तीसगढ के रायपुर-बिलासपुर राजमार्ग पर बिलासपुर से 30 तथा रामपुर से 85 किलोमीटर की दूरी पर भोजपुर ग्राम से 7 किमी एवं रायपुर बिलासपुर रेल्वे मार्ग के दगौरी स्टेशन से मात्र 2किमी दूरी पर अमेठी -कांपा ग्राम के समीप मनियारी नदी के तट पर स्थित ताला ...

                                               

तेनरीफ़ सभागार

तेनरीफ़ सभागार, कैनरी द्वीपसमूह, सान्ता क्रूस दे तेनरीफ़, तेनरीफ़ में स्थित प्रदर्शन कलाओं का एक बहु-स्थलीय केंद्र है। यह वास्तुकार सेंटियागो कलाट्रावा द्वारा डिजाइन किया गया था। इसे 2003 में खोला गया। यह स्पेन में सबसे महत्वपूर्ण आधुनिक इमारतों ...

                                               

तोरण

तोरण किसी बड़े भवन, दुर्ग या नगर का वह बाहरी बड़ा द्वार जिसका ऊपरी भाग मंडपाकार हो और प्रायः पताकाओं, मालाओं आदि से सजाया जाता हो। तोरण, हिन्दू, बौद्ध तथा जैन वास्तुकला का प्रमुख अंग है और दक्षिण एशिया दक्षिणपूर्व एशिया तथा पूर्वी एशिया के पुराने ...

                                               

देहरादून की प्रमुख इमारतें

वन अनुसंधान संस्थान 1906 में इंम्पीरियल फोरेस्ट इंस्टीट्यूट के रूप में स्थापित यह इंडियन काउंसिल ऑफ फोरेस्ट्री रिसर्च एंड एडूकेशन के अंतर्गत एक प्रमुख संस्थान है। इसकी शैली ग्रीक रोमन वास्तुकला है। इसका मुख्य भवन राष्ट्रीय विरासत है जिसका उद्घघाट ...

                                               

बुलन्द दरवाज़ा

बुलन्द दरवाज़ा, भारत के उत्तर प्रदेश प्रांत में आगरा शहर से ४३ किमी दूर फतेहपुर सीकरी नामक स्थान पर स्थित एक दर्शनीय स्मारक है। इसका निर्माण अकबर ने १६०२ में करवाया था। बुलन्द शब्द का अर्थ महान या ऊँचा है। अपने नाम को सार्थक करने वाला यह स्मारक व ...

                                               

मंदिर कलश

मंदिर कालाश हिंदू मंदिरों के गुंबदों के शीर्ष पर इस्तेमाल किया जाने वाला एक वस्तु है। इसका उपयोग महानुवंशियों के समय से किया जाता है जैसे चालुक्यों, गुप्ता, मौर्य आदि।

                                               

मीनार

मीनार ऊँचा स्तंभ-नुमा स्थापत्य होता है जो देखने में किसी आम बुर्ज से अधिक लम्बा और खिंचा हुआ दिखता है। सामान्यतः मीनार बेलनाकार, लम्बे और ऊपर प्याज़-नुमा मुकुट से सुसज्जित होते हैं। वे आसपास की इमारतों से अधिक ऊँचे होते हैं और अक्सर मुस्लिम मस्जि ...

                                               

अलाई मीनार

यह मीनार दिल्ली के महरौली क्षेत्र में कुतुब परिसर में स्थित है। इसका निर्माण अलाउद्दीन खिलजी ने यह मीनार निर्माण योजना थी, जो कि इस मीनार से दुगुनी ऊंची बननी निश्चित की गयी थी, परंतु इसका निर्माण 24.5 मीटर पर प्रथम मंजिल पर ही आकस्मिक कारणों से र ...

                                               

राष्ट्रपति भवन

राष्ट्रपति भवन भारत सरकार के राष्ट्रपति का सरकारी आवास है। सन १९५० तक इसे वाइसरॉय हाउस बोला जाता था। तब यह तत्कालीन भारत के गवर्नर जनरल का आवास हुआ करता था। यह नई दिल्ली के हृदय क्षेत्र में स्थित है। इस महल में ३४० कक्ष हैं और यह विश्व में किसी भ ...

                                               

लाल क़िला

लाल किला या लाल क़िला, दिल्ली के ऐतिहासिक, क़िलेबंद, पुरानी दिल्ली के इलाके में स्थित, लाल बलुआ पत्थर से निर्मित है। इस किले को पाँचवे मुग़ल शासक शाहजहाँ ने बनवाया था। इस किले को "लाल किला", इसकी दीवारों के लाल-लाल रंग के कारण कहा जाता है। इस ऐति ...

                                               

शीत-महल

सेंट पीटर्सबर्ग का शीत-महल - 1754 से 1762 के समय में इटालियन वास्तुकार रस्त्रेल्ली द्वारा बनाया हुआ रूसी वास्तुकला का एक प्रसिद्ध नमूना है। सन् 1917 तक यह महल रूसी महाराजाधिराजों का शीतकालीन निवास-स्थान था। सन् 1917 की अक्टूबर समाजवादी क्रांति के ...

                                               

सफदरजंग का मकबरा

सफदरजंग का मकबरा दिल्ली की प्रसिद्ध एतिहासिक इमारतों में से एक है। यह मकबरा दक्षिण दिल्ली में श्री औरोबिंदो मार्ग पर लोधी मार्ग के पश्चिमी छोर के ठीक सामने स्थित है। सफदरजंग का मकबरा अंतिम मुगल बादशाह मुहम्मद शाह 1719-1748 के शक्तिशाली व कुशल प्र ...

                                               

सलीम चिश्ती की दरगाह

शेख सलीम चिश्ती की समाधि भारत के आगरा जिले में नगर से ३५ किलो मीटर दूर फतेहपुर सीकरी शहर में, ज़नाना रौजा के निकट, दक्षिण में बुलन्द दरवाजे़ की ओर मुख किये हुये, जामी मस्जिद की भीतर स्थित है। शेख सलीम चिश्ती एक सूफी संत थे उन्होंने अकबर और उसके ब ...

                                               

कृष (फ्रेंचाइजी)

कृष भारतीय विज्ञान आधारित फिल्म, टेलीविजन धारावाहिक, कॉमिक्स और वीडियो गेम की फ्रेंचाइजी है। इसके फिल्म का निर्माण, निर्देशन और लेखन का काम राकेश रोशन ने किया था। इसे भारतीय सिनेमा की पहली कड़ियों वाली फिल्म माना गया है। सभी तीन फिल्मों में राकेश ...

                                               

कोई मिल गया

कोई मिल गया 2003 में बनी हिन्दी भाषा की विज्ञान कथा साहित्य फिल्म है। इसका निर्देशन और निर्माण राकेश रोशन ने किया और मुख्य भूमिकाओं में ऋतिक रोशन और प्रीति जिंटा है। रेखा की भी महत्त्वपूर्ण सहायक भूमिका है। जारी होने पर फिल्म सफल रही थी और इसने क ...

                                               

टीनेज म्यूटेंट निंजा टर्टल्स (२००३ टीवी श्रृंखला)

टीनेज म्यूटेंट निंजा टर्टल्स जो TMNT 2003 के रूप में भी जाना जाता है, एक अमेरिकी एनिमेटेड टेलीविजन शृंखला है जो मुख्य रूप से न्यूयॉर्क शहर में कल्पित है। यह पहली बार अमेरिका में 8 फ़रवरी 2003 से प्रसारित होना शुरू हुआ और 28 फ़रवरी 2009 तक चला। यह ...

                                               

टीनेज म्यूटेंट निंजा टर्टल्स (२००३ टीवी श्रृंखला) एपिसोड की सूची

इस एपिसोड की एक सूची है कि टीनेज म्यूटेंट निंजा टर्टल्स २००३ टीवी श्रृंखल । संयुक्त राज्य अमेरिका में, शृंखला पर शुरू हुआ ८ फेब्रुअरी, २००३ फॉक्स नेटवर्क पर फॉक्स के हिस्से के रूप में ४किड्स टीवी शनिवार की सुबह लाइनअप, और पर समाप्त हो गया २८ फेब् ...

                                               

टीनेज म्यूटेंट निंजा टर्टल्स: आउट ऑफ़ द शैडोज

टीनेज म्यूटंट निन्जा टर्टल: आउट ऑफ़ द शैडोज एक आगामी २०१६ अमेरिकी ३डी विज्ञान कथा एक्शन कॉमेडी फ़िल्म है, निर्देशक डेव ग्रीन और द्वारा लिखित जोश अप्पेलबउम तथा आन्द्रे नेमेक पर आधारित टीनेज म्यूटेंट निंजा टर्टल्स वर्ण।

                                               

अंकुश चौधरी

अंकुश चौधरी एक भारतीय फ़िल्म अभिनेता, पटकथा लेखक, निर्माता और रंगमंच कलाकार हैं। वो महाराष्ट्र में मराठी अभिनेता के रूप में जाने जाते हैं। वर्ष 2015 में अंकुश चौधरी ने अदित्य सरपोतदार निर्देशित मराठी फ़िल्म क्लासमेट में सत्या का अभिनय किया था। फ़ ...

                                               

माया कृष्णा राव

माया कृष्णा राव एक भारतीय रंगमंच कलाकार, स्टैंड-अप कॉमेडियन, नृत्यांगना सामाजिक कार्यकर्ता हैं। उनके जाने-माने नाटकों में ॐ स्वाहा, दफा नं॰ १८०, रावणम् और हेड्स आर मैंट फॉर वॉकिंग इन्टू इत्यादि प्रमुख हैं। राव को २०१० में संगीत नाटक अकादमी पुरस्क ...

                                               

विभावरी देशपांडे

विभावरी को कई पुरस्कार प्राप्त 2004 की फिल्म श्वास में रिसेप्शनिस्ट के रूप में कैमियो भूमिका के लिए पहला अभिनय कार्य मिला। उनकी अगली भूमिका स्मिता तलवलकर की निर्मित सात्चया आत घारत में आई। यहाँ उन्होंने केतकी की भूमिका निभाई, जो कॉलेज के सात छात् ...

                                               

भारतीय रंगमंच

भारत में रंगमंच का इतिहास बहुत पुराना है। ऐसा समझा जाता है कि नाट्यकला का विकास सर्वप्रथम भारत में ही हुआ। ऋग्वेद के कतिपय सूत्रों में यम और यमी, पुरुरवा और उर्वशी आदि के कुछ संवाद हैं। इन संवादों में लोग नाटक के विकास का चिह्न पाते हैं। अनुमान क ...

                                               

श्यामानन्द जालान

श्यामानन्द जालान) भारतीय रंगमंच अभिनेता व निदेशक थे। मोहन राकेश के नाटक - लहरों के राजहंस और आधे अधूरे में अभिनय व नि‍देशन के लिये जाने जाते हैं।

                                               

कुट्टी

कार्टूनिस्ट कुट्टी का जन्म १९२१ में केरल में हुआ। अपनी पढ़ाई के दौरान ही कुट्टी को राजनीतिक कार्टूनों में रूचि पैदा हो गई थी। कुट्टी उस समय के अंग्रेज़़ी शासन में उपलब्ध पत्र पत्रिकाओं में छापे कार्टूनों को बड़े चाव से देखते थे और उन्हें दोबारा ब ...

                                               

हरीसा

हरीसा एक तूनिसीयाई मिर्च का पेस्ट होता है जो लाल मिर्च, बकलौती मिर्च, सेर्रानो मिर्च और अन्य मिर्चियों को पीसकर लहसुन, धनिये के बीज, कई मसालों और बूटियों, केसर, गुलाब और ज़ैतून के तेल के साथ मिलाकर बनता है। यह तूनिसीया, अल्जीरिया और लीबिया की पाक ...

                                               

अरावाक लोग

अरावाक दक्षिण अमेरिका और कैरिबियाई क्षेत्र में बसने वाला एक आदिवासी समुदाय है। यह शब्द दक्षिण अमेरिका के लोकोनो लोगों और कैरिबियाई क्षेत्र के ताईनो लोगों के लिए सामूहिक रूप से प्रयोग होता है क्योंकि यह सभी अरावाकी भाषाएँ बोलते थे।

                                               

इस्लामी परामर्शक सभा (ईरान)

ईरान की इस्लामी परामर्शक सभा, जिसे ईरानी संसद या जन सदन भी कहा जाता है, ईरान का राष्ट्रीय विधायी निकाय है। वर्तमान में संसद में कुल 290 प्रतिनिधि हैं, जबकि 18 फ़रवरी 2000 के चुनाव से पहले सीटों की संख्या 270 थी। संसद के मौजूदा अध्यक्ष अली लारीजान ...

                                               

ईरान की संस्कृति

ईरान की संस्कृति जिसे फारस की संस्कृति भी कहा जाता है, दुनिया में सबसे पुराना है। दुनिया में अपनी प्रमुख भू-राजनीतिक स्थिति और संस्कृति के कारण, ईरान ने इटली, मैसेडोनिया और ग्रीस को पश्चिम में, उत्तर में रूस, दक्षिण में अरब प्रायद्वीप, और दक्षिण ...

                                               

फ़ारस की खाड़ी का राष्ट्रीय दिवस

ईरान में 30 अप्रैल का दिन फ़ारस की खाड़ी का राष्ट्रीय दिवस के तौपर मनाया जाता है। इस दिन पूरे ईरान में विभिन्न प्रकार के कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। फारस की खाड़ी, मध्य पूर्व एशिया क्षेत्र में हिन्द महासागर का एक विस्तार है, जो ईरान और अरब ...

                                               

छिंग मिंग त्यौहार

छिंगमिंग त्यौहार शुद्ध चमक त्यौहार या साफ़ उज्ज्वल त्यौहार, पूर्वजों का दिन या कब्र सफाई का दिन पारंपरिक चीनी त्यौंहार है जो चीनी कालदर्शक के अनुसार वसंत विषुव के 15वें दिन और ग्रेगोरी कैलेंडर के अनुसार 5 अप्रैल को मनाया जाता है। छींग मिंग त्यौहा ...

                                               

टेराकोटा सेना

टेराकोटा सेना या टेराकोटा योद्धा एवं अश्व टेराकोटा की मूर्तियाँ हैं जो चीन के प्रथम सम्राट किन शी हुआंग की सेना का निरूपण करतीं हैं। ये मूर्तियाँ २१०-२०९ ईसा पूर्व सम्राट के शव के साथ दफन की गयीं थीं। ये मूर्तियाँ, १९७४ में जल आपूर्ति सम्बन्धी नि ...

                                               

एत्ची

एत्ची जापानी भाषा में लैंगिक क्रियाओं के लिए हँसी में अक्सर काम में लिया जाने वाला कठबोली शब्द है। विशेषण के रूप में यह शब्द "कामुक", "अश्लील" या "नटखट" के अर्थ में काम में लिया जाता है; क्रिया के रूप में एत्ची सुरु शब्द का प्रयोग यौन सम्बंध के ल ...

                                               

ओतोमो याकामोचि

ओतोमो याकामोचि Ōtomo no Yakamochi एक जापानी वाका कवि थे। वह एक मेधावी कवि और मान्योशू के अंतिम संग्रहकर्ता थे। उनकी रचनाओं में अद्भुत ओज और कवि व्यक्तित्व की स्पष्ट छाप है। यह मार्च, ७५० में लिखी गई दो कविताओं में से एक है। याकामोचि एक प्राचीन शक ...

                                               

जापान की संस्कृति

जापान की संस्कृति सहस्राब्दियों से देश के प्रागैतिहासिक जोम काल से बदलकर अपनी समकालीन आधुनिक संस्कृति में बदल गई है, जो एशिया, यूरोप और उत्तरी अमेरिका से प्रभावों को अवशोषित करती है। जापान की स्वदेशी संस्कृति मुख्य रूप से ययोय लोगों से उत्पन्न हु ...

                                               

जापानी सभ्यता

साँचा:Japanese जापानी संस्कृति विचारों, व्यवहार, जीवन, शिक्षा, मान्यताओं और मूल्यों के बारे में जापानी द्वीपों पर गठित भौतिक या गैर-भौतिक चीजों या प्रतीकों की एक श्रृंखला को संदर्भित करती है। चौथी शताब्दी से नौवीं शताब्दी तक, कोरियाई प्रायद्वीप स ...

                                               

मात्सुओ बाशो

मात्सुओ बाशो एक महान जापानी कवि थे जो हाइकु काव्य विधा के जनक माने जाते हैं। हाइकु कविता की लोकप्रियता और समृद्धि में उनका विशेष योगदान है।

                                               

मासाओका शिकि

मासाओका शिकि एक प्रख्यात जापानी कवि थे। इन्होंने विशिष्ट जापानी कविता" होक्कु” को हाइकु का नाम नाम दिया। इनका बचपन का नाम था ‘सुनेनोरी’। ‘शिकि’ उपनाम चुना जिसका अर्थ है -कोयल जो कण्ठ में र्क्त आने तक गाए। तत्कालीन हाइकु कृत्रिमता से भरे थे। इस्सा ...

                                               

द्ज़ोंग

द्ज़ोंग तिब्बत, भूटान और इनके कुछ पड़ोसी इलाक़ों में मिलने वाले तिब्बती शैली के क़िलों को कहा जाता है। इस शैली में ऊँची बाहरी दीवारों के भीतर मंदिर, कार्यकक्ष, भिक्षुओं के निवासकक्ष, खुले आंगन, इत्यादी बने होते हैं। ऐतिहासिक रूप से अक्सर किसी क्ष ...

                                               

एकांत के सौ वर्ष

एकांत के सौ वर्ष गेब्रियल गार्सिया मार्ख़ेस द्वारा लिखित एक उपन्यास है जो एक काल्पनिक बुएन्दीआ नामक परिवार की कई पीढ़ियों की दास्तान है। कहानी का घटनास्थल दक्षिण अमेरिका के कोलम्बिया देश में ओरिनोको नदी के किनारे स्थित माकोन्दो नाम का शहर है जिसे ...

                                               

आस्ट्रियाई साहित्य

जर्मन साहित्य से मूल का नाता होते हुए भी आस्ट्रियन साहित्य की निजी जातिगत विशेषताएँ हैं; जिनके निरूपण में आस्ट्रिया की भौगोलिक तथा ऐतिहासिक परिस्थितियों के अतिरिक्त काउंटर रिफ़ार्मेशन और पड़ासी देशों से घनिष्ठ, किंतु विद्वेषपूर्ण संबंधों का भी हा ...

                                               

पियेर पाउलो पसोलिनी

पियेर पाउलो पसोलिनी इतालवी फिल्म निर्देशक, लेखक, पत्रकाऔर विचारक थे। पसोलिनी यूरोपीय सिनेमा और साहित्य जगत में एक जाना पहचाना नाम है। हालांकि मार्क्सवादी विचारधारा और यौन वर्जनाओं पर उनकी साफगोई और बेबाक दृष्टिकोण के चलते उनको लेकर विवाद आज भी जा ...

                                               

नज़ीर अहमद देहलवी

नज़ीर अहमद देहलवी, जिन्हें औमतौपर डिप्टी नज़ीर अहमद बुलाया जाता था, १९वीं सदी के एक विख्यात भारतीय उर्दू-लेखक, विद्वान और सामाजिक व धार्मिक सुधारक थे। उनकी लिखी कुछ उपन्यास-शैली की किताबें, जैसे कि मिरात-उल-उरूस और बिनात-उल-नाश और बच्चों के लिए ल ...

                                               

नवाब मिर्ज़ा खान दाग़

नवाब मिर्जा खाँ दाग़, उर्दू के प्रसिद्ध कवि थे। इनका जन्म सन् 1831 में दिल्ली में हुआ। इनके पिता शम्सुद्दीन खाँ नवाब लोहारू के भाई थे। जब दाग़ पाँच-छह वर्ष के थे तभी इनके पिता मर गए। इनकी माता ने बहादुर शाह "ज़फर" के पुत्र मिर्जा फखरू से विवाह कर ...