Blog पृष्ठ 357




                                               

शैलशिल्प (चित्र)

शैलशिल्प चित्र यह प्राक इतिहासकालींन संकल्पना है | पत्थरों में खुदाई करके यह शिल्प बनायी गई है | यह चित्र बनानेका कारण इतिहाससे पता लगाना कठीन है | पशु, पक्षी, समझ में न आनेवाली आकृतियाँ इन चित्रोंमें नजर आती है|भीमबेटका के शिल्प जागतिक स्थल नामक ...

                                               

मिनोआई सभ्यता

मिनोआई सभ्यता कांस्य युग में यूनान के दक्षिण में स्थित क्रीत के द्वीप पर उभरकर २७वीं सदी ईसापूर्व से १५वीं सदी ईसापूर्व तक फलने-फूलने वाली एक संस्कृति थी। यह यूरोप की सबसे प्राचीनतम सभ्यताओं में से एक मानी जाती है। इतिहासकारों को मिले सुराग़ों से ...

                                               

अफ्रीका का विभाजन

सन १८८१ और १९१४ के बीच यूरोपीय शक्तियों द्वारा अफ्रीकी भूभाग पर आक्रमण करके उस पर अधिकार, उपनिवेशीकरण, और उस भूभाग को हड़प लेने को अफ्रीका का विभाजन कहते हैं। इसको अफ्रीका के लिये हाथापाई और अफ्रीका पर विजय भी कहते हैं। इस समयावधि को नव उपनिवेशवा ...

                                               

एल्जीसिराज सम्मेलन

सन १९०६ का एल्जीसिराज सम्मेलन स्पेन के एल्जीसिराज नगर में 16 जनवरी से 7 अप्रैल तक चला। इस अनतरराष्ट्रीय सम्मेलन का उद्देश्य १९०५ के मोरक्को संकट का समाधान निकालना था। तीन महीने के वाद-विवाद के उपरांत एल्जीसिराज अधिनियम बना जिसके द्वारा निम्न बाते ...

                                               

थाईलैण्ड का इतिहास

थाई लोग अपनी जातीय विशेषताओं में चीनियों के निकट हैं। इन लोगों ने चीन के दक्षिण भाग में नान चाऊ नामक एक शक्तिशाली राज्य स्थापित किया था। किंतु उत्तरी चीनियों और तिब्बतियों के दबाव तथा 1253 में कुबलई खाँ के आक्रमणों के कारण थाई लोगों को दक्षिणी पू ...

                                               

नीरो

नीरो रोम का सम्राट् था। उसकी माता ऐग्रिप्पिना, जो रोम के प्रथम सम्राट् आगस्टस की प्रपौत्री थी, बड़ी ही महत्वाकांक्षिणी थी। उसने बाद में अपने मामा नि:परवाह सम्राट् क्लाडिअस प्रथम से विवाह कर लिया और अपने नए पति को इस बात के लिए राजी कर लिया कि वह ...

                                               

पहला विश्व युद्ध

पहला विश्व युद्ध 1914 से 1918 तक मुख्य तौपर यूरोप में व्याप्त महायुद्ध को कहते हैं। यह महायुद्ध यूरोप, एशिया व अफ्रीका तीन महाद्वीपों और समुद्र, धरती और आकाश में लड़ा गया। इसमें भाग लेने वाले देशों की संख्या, इसका क्षेत्र तथा इससे हुई क्षति के अभ ...

                                               

फ्रांसीसी जर्मन युद्ध

फ्रांस और जर्मनी के बीच लगभग 13 महीने तक चलनेवाली लड़ाई फ्रांसीसी जर्मन युद्ध कहलाती है जिसके परिणाम फ्रांस की पराजय, नेपोलियन राजवंश की सत्ता का अंत तथा तृतीय गणतंत्र की स्थापना और प्रशा के नेतृत्व में एकीकृत जर्मन राज्य के उदय के रूप में हुए।

                                               

बगदाद का युद्ध (१२५८)

हलाकु ख़ान के नायकत्व में मंगोल सेनाओं ने २९ जनवरी से १० फरवरी तक अब्बासी ख़िलाफ़त की राजधानी बगदाद को घेरे रखा और अन्ततः इस पर अधिकार करके खलीफा की हत्या कर दी। मंगोल फ़ौज ने पिछले 13 दिन से बग़दाद को घेरे में ले रखा था. जब प्रतिरोध की तमाम उम्म ...

                                               

बर्लिन कांग्रेस

बर्लिन कांग्रेस बर्लिन में सम्पन्न एक सम्मेलन था जिसमें उस समय की महाशक्तियाँ, चार बाल्कन राज्य और उस्मानी साम्राज्य ने भाग लिया था। इसका उद्देश्य 1877-78 के रूस-तुर्की युद्ध के बाद बाल्कन प्रायद्वीप के राज्यों की सीमायें तय करना था। इस सम्मेलन क ...

                                               

राष्ट्रवाद का इतिहास

राष्ट्रवाद और आधुनिक राज्य के इतिहास के बीच एक संरचनागत संबंध है। सोलहवीं और सत्रहवीं सदी के आस-पास यूरोप में आधुनिक राज्य का उदय हुआ जिसने राष्ट्रवाद के उभार में सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण भूमिका निभायी। राज्य का यह रूप अपने पहले के रूपों से भिन्न था ...

                                               

लुसाने की संधि

लुसाने की संधि स्विट्जरलैण्ड के लुसाने नगर में २४ जुलाई १९२३ को किया गया एक शान्ति समझौता था। इसके परिणामस्वरूप तुर्की, ब्रिटिश साम्राज्य, फ्रेंच गणराज्य, इटली राजतंत्र, जापान साम्राज्य, ग्रीस राजतंत्र, रोमानिया राजतंत्र तथा सर्व-क्रोट-स्लोवीन रा ...

                                               

विश्वयुद्धों के मध्य की अवधि

प्रथम विश्वयुद्ध 1919 ई. को समाप्त हुआ एवं इसके ठीक 20 वर्ष बाद 1939 ई. में द्वितीय विश्वयुद्ध आंरभ हो गया। इन दो विश्वयुद्धों के मध्य विश्व राजनीतिक का कई कटु अनुभवों से सामना हुआ। प्रथम विश्वयुद्ध की विभीषिका से यूरोपीय राजनीतिज्ञों ने कोई सबक ...

                                               

स्पेनी साम्राज्य

विश्व के इतिहास में स्पेनी साम्राज्य सबसे बड़े साम्राज्यों में से एक था। इसके साथ ही स्पेनी साम्राज्य की गणना इतिहास के सबसे पहले वैश्विक साम्राज्यों में होती है। १६वीं और १७वीं शताब्दी में हस्बर्ग स्पेन के काल में यह साम्राज्य अपने सैनिक, राजनित ...

                                               

दमिश्क

दमिश्क सीरिया की राजधानी और सीरिया का सबसे बड़ा नगर है। देश के दक्षिण-पश्चिमी कोने में, लेबनॉन की सीमा के निकट बसा ये शहर ऐतिहासिक है, आज इसकी जनसंख्या ४५ लाख है। दमिश्क विश्व के प्राचीनतम नगरों में गिना जाता है और जहाँ आज भी लोग रह रहे हैं। ऐसा ...

                                               

अर्बेला का युद्ध

अर्बेला का संग्राम या गौगेमेला का युद्ध सिकंदर के युद्धों में से एक था। यह युद्ध यूनान के सम्राट सिकंदर व ईरान के हख़ामनी साम्राज्य के राजा दारा तृतीय के बीच 331 ई.पू. में दुहोक के समीप हुआ था। 30 सितंबर, 331 ई.पू. को हुआ था। इसमें सिकंदर की सेना ...

                                               

द्वितीय विश्वयुद्ध

द्वितीय विश्वयुद्ध १९३९ से १९४५ तक चलने वाला विश्व-स्तरीय युद्ध था। लगभग ७० देशों की थल-जल-वायु सेनाएँ इस युद्ध में सम्मलित थीं। इस युद्ध में विश्व दो भागों मे बँटा हुआ था - मित्र राष्ट्और धुरी राष्ट्र। इस युद्ध के दौरान पूर्ण युद्ध का मनोभाव प्र ...

                                               

प्रथम चीन-जापान युद्ध

चीन-जापान युद्ध 1894-95 के दौरान चीन और जापान के मध्य कोरिया पर प्रशासनिक तथा सैन्य नियंत्रण को लेकर लड़ा गया था। जापान की मेइजी सेना इसमें विजयी हुई थी और युद्ध के परिणाम स्वरूप कोरिया, मंचूरिया तथा ताईवान का नियंत्रण जापान के हाथ में चला गया। इ ...

                                               

बाल्कन युद्ध

जर्मनी, फ्रांस, रूस, ऑस्ट्रिया-हंगरी, और ब्रिटेन में हो रहे एक सामान्य यूरोपीय युद्ध को रोकने के लिए बाल्कन में साम्राज्यवादी और राष्ट्रवादी तनावों से सिहर हंडा पर ढक्कन रखने के लिए प्रयास किया गया। वे 1912 और 1913 में सफल रहे, लेकिन 1914 में असफ ...

                                               

मैराथन का युद्ध

मैराथन का युद्ध प्राचीन यूनान में लडा गया जिसमें फारस की सेना परास्त हुई। इस घटना की सूचना देने हेतु एक सेनिक ने पहली बार मैराथन की दोड लगाई थी।

                                               

स्टालिनग्राड का युद्ध

द्वितीय विश्व युद्ध की एक महत्व्पूर्ण लडाई जिसमे लाल सेना ने नाजी सेना को बुरी तरह से परास्त किया था। सोवियत संघ के इस नायक ने द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान स्टेलिनग्राद की लड़ाई में 300 से अधिक नाजी सैनिक मार गिराए थे

                                               

एनिग्मा (मशीन)

एनिग्मा विद्युत-यांत्रिक रोटर मशीनों के एक परिवार का नाम है जो जर्मन सेना द्वारा द्वितीय विश्वयुद्ध के समय गुप्त सन्देशों के कूटलेखन या कूटलेखों के पठन के लिये प्रयुक्त हुई थी। प्रथम एनिग्मा मशीन जर्मनी के इंजीनियर आर्थर सर्बिअस द्वारा प्रथम विश् ...

                                               

चिरसम्मत यांत्रिकी की समयरेखा

त्वरण की पहचान असमान गति से सम्बंध। 260 ई. पूर्व - आर्किमिडिज़ ने उत्तोलक का सिद्धान्त और उत्प्लावन बल के सिद्धान्तों की खोज को गणितीय रूप से ज्ञात किया। 60 ई. - हीरो ऑफ़ अलेक्जेंड्रिया ने मेट्रिका Metrica, मैकेनिक्स यांत्रिकी, और न्यूमेटिक्स वाय ...

                                               

प्रोग्रामन भाषाओं की समयरेखा

प्रविष्टि का अर्थ है एक गैर-सार्वत्रिक प्रोग्रामन भाषा non-universal programming language * का अर्थ है एक अद्वितीय unique भाषा जिसका कोई पूर्ववर्ती न रहा हो।

                                               

रसायन विज्ञान की समयरेखा

इस समयरेखा में उन महत्वपूर्ण कृतियों, खोजों, विचारों एवं प्रयोगों को सूचीबद्ध किया गया है जिनके कारण पदार्थों की संरचना एवं उनके परस्पर क्रियाओं से सम्बन्धित मानव के ज्ञान में पर्याप्त वृद्धि हुई तथा जिसे आधुनिक विज्ञान में "रसायन विज्ञान" के नाम ...

                                               

ब्रिटिश राज के दौरान भारत में प्रमुख अकाल की समयरेखा

यह ब्रिटिश राज के दौरान भारत में पड़ने वाले प्रमुख अकालों की समयसरेखा है। ये सन् 1765 से 1947 तक का कालखन्ड दर्शाती है। इसमें वे सभी अकाल शामिल हैं, जो इस कालखंड में भारतीय उपमहाद्वीप में घटित हुए- मसलन रियासतें, ब्रिटिश भारत और मराठा साम्राज्य ज ...

                                               

सत्यशोधक समाज

सत्यशोधक समाज 24 सितम्बर सन् १८७३ में ज्योतिबा फुले द्वारा स्थापित एक पन्थ है। यह एक छोटे से समूह के रूप में शुरू हुआ और इसका उद्देश्य शूद्र एवं अस्पृष्य जाति के लोगों को विमुक्त करना था। इनकी विचार "गुलामगिरी,सार्वजनिक सत्यधर्म "में निहित है । ड ...

                                               

विश्व सामाजिक मंच

विश्व सामाजिक मंच एक नागरिक समाज संगठनों की एक वार्षिक बैठक है, जिसे पहली बार ब्राजील में आयोजित किया गया था। यह मंच वैश्वीकरण के समकालीन नज़रिए को चुनौती देकर एक वैकल्पिक भविष्य के विकास के लिए आत्म-सचेत प्रयास करता है। भारत में पहली बार विश्व स ...

                                               

साम्राज्य

राज्य जहां कई जातियां रहती हैं, जो क्षेत्र में विशाल है और जहां सम्राट के पास समस्त अधिकार हैं, साम्राज्य कहलाता है। यह एक राजनैतिक क्षेत्र है जो किसी एक राजा अथवा कुछ मुख्य-पतियों द्वारा साझेदारी में संभाला जाता है। साम्राज्य छोटे समय के अंतराल ...

                                               

चिंग राजवंश

चिंग राजवंश चीन का आख़री राजवंश था, जिसनें चीन पर सन् १६४४ से १९१२ तक राज किया। चिंग वंश के राजा वास्तव में चीनी नस्ल के नहीं थे, बल्कि उनसे बिलकुल भिन्न मान्छु जाति के थे जिन्होंने इस से पहले आये मिंग राजवंश को सत्ता से निकालकर चीन के सिंहासन पर ...

                                               

ब्राज़ीली साम्राज्य

ब्राजील का साम्राज्य या ब्राज़ीली साम्राज्य 19वीं शताब्दी का एक राजशाही राज्य था, जिसमें आधुनिक ब्राज़ील और उरुग्वे देश के क्षेत्र शामिल थे। यहाँ की सरकार, एक संसदीय संवैधानिक राजतंत्र के अंतर्गत सम्राट डोम पेड्रो प्रथम और उनके पुत्र डोम पेड्रो द ...

                                               

सबसे बड़े साम्राज्यों की सूची

यह विश्व इतिहास के सबसे बड़े साम्राज्यों की सूची हैं, लेकिन इस सूची को पूरी तरह से माना नहीं जा सकता हैं क्योकि किस "साम्राज्य" को इस श्रेणी में रखा जाये बहुत ही कठिन हैं, और विद्यमानो की बीच विवाद का विषय रहा हैं।

                                               

एरागॉन की कैथरीन

एरागॉन की कैथरीन जून १५०९ से मई १५३३ ई॰ तक हेनरी अष्टम की पहली पत्नी के तौपर इंग्लैंड की पटरानी थीं। रानी बनने से पहले वह हेनरी के बड़े भाई आर्थर की पत्नी के तौपर वेल्स की राजकुमारी रह चुकी थीं। कैस्टिले की इसाबेल प्रथम और एरागॉन के राजा फर्डीनंड ...

                                               

बैजू बावरा

बैजू बावरा भारत के ध्रुपदगायक थे। उनको बैजनाथ प्रसाद और बैजनाथ मिश्र के नाम से भी जाना जाता है। वे ग्वालियर के राजा मानसिंह के दरबार के गायक थे और अकबर के दरबार के महान गायक तानसेन के समकालीन थे। उनके जीवन के बारे में बहुत सी किंवदन्तियाँ हैं जिन ...

                                               

लेडी जेन ग्रे

साँचा:ब्रिटिश राजशाही आधार लेडी जेन ग्रे 1536/1537 – 12 फ़रवरी 1554, को लेडी जेन डुडली या नौ दिनों की रानी, भी कहा जाता है एक कुलीन घराने की अंग्रेज महिला थी और वास्तविकता में 10 जुलाई से 19 जुलाई 1553 ई॰ तक इंग्लैंड की रानी थीं। अपनी नानी मैरी ट ...

                                               

अमेरिकी क्रन्तिकारी युद्ध

अमेरिकी क्रन्तिकारी युद्ध, जिसे संयुक्त राज्य में अमेरिकी स्वतन्त्रता युद्ध या क्रन्तिकारी युद्ध भी कहा जाता है, ग्रेट ब्रिटेन और उसके तेरह उत्तर अमेरिकी उपनिवेशों के बीच एक सैन्य संघर्ष था, जिससे वे उपनिवेश स्वतन्त्र संयुक्त राज्य अमेरिका बने। श ...

                                               

स्वतंत्रता संग्राम

किसी देश या प्रदेश की स्वाधीनता या स्वायत्ता के लिये उसके विरोधियों से युद्ध करने को स्वतंत्रता संग्राम कहते है। उदाहरणार्थ सुभाष चन्द्र बोस ने भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में हिस्सा लिया । हिन्दी के महान लेेखक फणीश्वर नाथ रेणु 1942 में स्वत्त्रता ...

                                               

स्वशासन

स्वशासन या होम रूल का अर्थ है - राज्य के किसी अंग द्वारा कुछ शक्तियों का उपभोग जो केन्द्रीय शासन द्वारा उसे प्रदान की जांय। इंग्लैण्ड के सन्दर्भ में होम रूल का अर्थ आयरलैण्ड, स्कॉटलैण्ड, वेल्स और उत्तरी आयरलैण्ड आदि को अपना शासन करने का अधिकार या ...

                                               

महान इतिहासकार के अभिलेख

महान इतिहासकार के अभिलेख प्रसिद्ध चीनी इतिहासकार सीमा चिआन द्वारा लिखित एक ग्रन्थ है जिसमें उसने पीले सम्राट से लेकर अपने युग तक के चीनी इतिहास का बखान किया है। पीले सम्राट के काल को चीनी मिथ्य-कथाएँ लगभग २६०० ईसापूर्व के काल का समझती हैं, यानि क ...

                                               

सम्पत्ति

भाषाविज्ञान के अनुसार संपत्ति शब्द की व्युत्पत्ति लैटिन क्रियाविशेषण "प्राप्टर" से हुई है। इसका विकास "प्रोप्राइर्टस" नामक शब्द से हुआ। प्रोप्राइटैस शब्द रोमन विधिज्ञों द्वारा बौद्धिक स्तर पर प्रयोग में लाया जाने लगा तथा फ्रांस की बोलचाल की भाषा ...

                                               

अचल सम्पत्ति

घर, जमीन आदि सम्पत्तियाँ अचल सम्पत्ति कहलाती हैं। इन्हें मुद्रा, सोना, एवं अन्य चल सम्पत्तियों की तरह एक स्थान से दूसरे स्थान पर स्थानान्तरित नहीं किया जा सकता। इसे रीयल एस्टेट या वास्तविक सम्पत्ति भी कहते हैं।

                                               

लखपति

लखपति वह व्यक्ति होता है जिसके पास १ लाख या इससे अधिक की सम्पत्ति हो। यह सम्पत्ति चल या अचल दोनो प्रकार की हो सकती है। चल सम्पत्ति के अन्तर्गत रुपया-पैसा, धन-दौलत, आभूषण इत्यादि आते है और अचल सम्पत्ति यानी वह सम्पत्ति जो एक ही स्थान पर रहती है जै ...

                                               

स्थावर सम्पदा

भूमि तथा उसके उपर स्थित भवन आदि को सम्मिलित रूप से स्थावर सम्पदा कहते हैं। इसमें प्राकृतिक संसाधन जैसे फसलें, खनिज, जल, अचल सम्पत्तियाँ आदि भी सम्मिलित हैं। इसको हिन्दी में भूमि-भवन, भू-सम्पदा, अचल सम्पदा, जमीन-जायजाद आदि नामों से भी जाना जाता है ...

                                               

चीन बनाम फिलिपींस

चीन बनाम फिलिपींस एक मध्यस्थता का वाद था जिसे दक्षिण चीन समुद्र से सम्बन्धित कुछ मुद्दों को लेकर फिलिपींस ने समुद्री कानून पर संयुक्त राष्ट्र अभिसमय) में उठाया था। १२ जुलाई २०१६ को मध्यस्थ ने फिलिपींस के पक्ष में निर्णय दिया।

                                               

यथार्थवाद (अंतरराष्ट्रीय संबंध)

यथार्थवाद या राजनीतिक यथार्थवाद, अंतरराष्ट्रीय संबंधों के शिक्षण की शुरुआत के बाद से ही अंतरराष्ट्रीय संबंधों का प्रमुख सिद्धांत रहा है। यह सिद्धांत उन प्राचीन परम्परागत दृष्टिकोणों पर भरोसा करने का दावा करता है, जिसमें थूसीडाइड, मैकियावेली और हो ...

                                               

अन्तरराष्ट्रीय सम्बन्ध

अंतरराष्ट्रीय संबंध विभिन्न देशों के बीच संबंधों का अध्ययन है, साथ ही साथ सम्प्रभु राज्यों, अंतर-सरकारी संगठनों, अंतरराष्ट्रीय गैर सरकारी संगठनों, गैर-सरकारी संगठनों और बहुराष्ट्रीय कंपनियों की भूमिका का भी अध्ययन है। अन्तर्राष्ट्रीय सम्बन्ध को क ...

                                               

अन्तरराष्ट्रीय सहयोग परिषद्

अन्तरराष्ट्रीय सहयोग परिषद् भारत की एक अराजनीतिक, लाभ-निरपेक्ष, स्वयंसेवी संस्था है जो दुनियाभर में रह रहे भारतवंशियों और भारत के बीच वह सांस्कृतिक कड़ी है। यह उन्हें अपने पूर्वजों की मातृभूमि से जोड़कर रखती है। आज विश्व के कोने-कोने में फैले 2.5 ...

                                               

अन्तर्राष्ट्रीय संगठन

अंतर्राष्ट्रीय संगठन उन संस्थाओं को कहते हैं जिसके सदस्य, कार्यक्षेत्र तथा उपस्थिति वैश्विक स्तर पर हो। ये दो प्रकार की होती हैं- २अन्तरशासकीय संगठन Intergovernmental organizations, या international governmental organizations १ अन्तर्राष्ट्रीय अश ...

                                               

आदर्शवाद (अन्तरराष्ट्रीय सम्बन्ध)

फ्रांसीसी क्रांति व अमेरिकी क्रान्ति को अन्तरराष्ट्रीय सम्बन्धों में आदर्शवादी उपागम की प्रेरणा माना गया है। इसके प्रमुख समर्थक रहे हैं - कौण्डरसैट, वुडरो विल्सन, बटन फिल्ड, बनार्ड रसल आदि। इनके द्वारा एक आदर्श विश्व की रचना की गई है जो अहिंसा व ...

                                               

उच्च राजनीति

अंतरराष्ट्रीय संबंधों के एक उप क्षेत्र के भीतर और राजनीति विज्ञान में समग्र रूप से "उच्च राजनीति" की अवधारणा में उन सभी मामलों को शामिल किया जाता है जो कि राज्य के अस्तित्व के लिए महत्वपूर्ण हो: नामतः राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय के मुद्दे। यह अक्स ...