Blog पृष्ठ 449




                                               

लेस्ली हिल्टन

लेस्ली जॉर्ज हिल्टन एक वेस्टइंडीज के पूर्व क्रिकेटर थे, जो एक तेज गेंदबाज थे तथा इन्होंने वेस्टइंडीज के लिए १९३५ और १९३९ के बीच छह टेस्ट मैच खेले थे। १९२७ से १९३९ तक उन्होंने अपने मूल जमैका के लिए घरेलू प्रथम श्रेणी क्रिकेट खेला था। हिल्टन ने १९३ ...

                                               

शान्ति स्वरूप धवन

धवन का जन्म 2 जुलाई 1905 को राय बहादुर बली राम धवन के घर हुआ था। उनका जन्म डेरा इस्माइल खान मे हुआ था जो कि अब पंजाब, पाकिस्तान में है। उन्हें फॉर्मन क्रिश्चियन कॉलेज, लाहौर ReferencesEdit ^ पॉल, रेणु। "इनसन्स ऑफ़ इन्स ऑफ़ कोर्ट: मिडल टेम्पल, 186 ...

                                               

शेख़ अब्दुल्ला

इनके प्रारम्भिक जीवन के बारे में मुख्य महत्वपूर्ण स्रोत इनके द्वारा लिखा गया आतिश-ए-चिनार नामक आत्मकथा है। यह सौरा नामक गाँव में पैदा हुए जो श्रीनगर से बाहर था। इनका जन्म इनके पिता शेख मोहम्मद इब्राहिम के मौत के ग्यारह दिनों के बाद हुआ था। इनके प ...

                                               

सत्यप्रकाश सरस्वती

डॉ सत्यप्रकाश सरस्वती भारत के रसायनविद्, आध्यात्मिक-धार्मिक चिन्तक तथा लेखक और वक्ता थे। उन्होने जीवन का अधिकांश भाग इलाहाबाद विश्वविद्यालय में रसायन-विभाग के अध्यक्ष के रूप में बिताया। जीवन के उत्तरार्ध को उन्होने रघुवंशी राजाओं की भांति सामाजिक ...

                                               

गोपाल मित्तल

गोपाल मित्तल का जन्म 6 जून 1906 को भारत के पंजाब के मालरकोटला में हुआ था। उनके पिता, वालयाती राम जैन, यूनानी दवा के एक प्रसिद्ध व्यवसायी थे। मलेरकोटला हाई स्कूल के छात्र के रूप में मालरकोटला में अपनी स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद, 1932 में लाहौर ...

                                               

अमीरबाई कर्नाटकी

अमीरबाई कर्नाटकी प्रारंभिक हिन्दी सिनेमा की प्रसिद्ध अभिनेत्री / गायिका और पार्श्व गायिका थीं। वह कन्नड़ कोकिला के रूप में प्रसिद्ध थीं। महात्मा गांधी उनके गीत वैष्णव जन तो के प्रशंसक थे।

                                               

इडस्सेरी गोविन्दन नायर

इडस्सेरी गोविन्दन नायर मलयालम भाषा के विख्यात साहित्यकार थे। इनके द्वारा रचित एक कविता–संग्रह काविले पाट्टु के लिये उन्हें सन् 1969 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

एम भारद्वाज रामचंद्र राव

एम भारद्वाज रामचंद्र राव को विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७२ में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये कर्नाटक से हैं।

                                               

कन्हैयालाल मिश्र

श्री कन्हैयालाल मिश्र का जन्म उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले के देवबन्द ग्राम में हुआ था। हिंदी साहित्य और हिंदी पत्रकारिता के माथे पर सांस लेते चंदन शब्दों का तिलक लगाने वाले पद्मश्री कन्हैया लाल मिश्र ’प्रभाकर’ के पास जरूर किसी तांत्रिक-जोगी का ...

                                               

ग्रेस हूपर

हूपर हार्वर्ड मार्क 1 कैलकुलेटर के सर्वप्रथम प्रोग्रामरों में से एक थी। उनके ज़ेहन में यह बात आई कि कंप्यूटर प्रोगराम ऐसी भाषा में लिखे जाने चाहते है जो अंग्रेज़ी जैसी हो। उस समय प्रोगरामों को एसम्बली भाषाओं में लिखे जाते थे जो मशीन भाषा जैसी होत ...

                                               

जॉर्ज सांडर्स

जॉर्ज हेनरी सैंडर्स एक रूस में जन्मे हिंदी फिल्म और टेलीविजन अभिनेता, गायक, गीतकार, संगीतकाऔर लेखक है। अपने कैरियर में एक अभिनेता के रूप में 40 से अधिक साल तक रहा है। उसका ऊपरी वर्ग का अंग्रेजी उच्चारण और बास आवाज के कारण अक्सर उसे खलनायक करने के ...

                                               

दारा नुसूरवानजी खुरोडी

दारा नुसूरवानजी खुरोडी एक भारतीय उद्यमी थे जो दुग्ध उद्योग में उनके योगदान के लिए जाने जाते है। उन्होंने अपने व्यवसाय की शुरुआत में कई निजी और सरकारी संगठनों में काम किया और बाद में सरकारी आधिकारिक पदों पर भी रहे। वह १९४६ से १९५२ तक बॉम्बे के दूध ...

                                               

यशवंत सिंह परमार

डॉ॰ यशवंत सिंह परमार भारत के राजनेता एवं स्वतंत्रता-संग्राम सेनानी थे। वह हिमाचल प्रदेश के प्रथम मुख्यमंत्री थे। उनका हिमाचल प्रदेश को अस्तित्व में लाने और विकास की आधारशिला रखने में महत्वपूर्ण योगदान रहा है। लगभग 3 दशकों तक कुशल प्रशासक के रूप म ...

                                               

रामकिंकर बैज

रामकिंकर बैज भारत के प्रसिद्ध मूर्तिकार थे। आधुनिक भारतीय मूर्तिकला के अग्रदूतों में उनकी गणना होती थी। रामकिंकर बैज का जन्म पश्चिम बंगाल के बांकुरा में एक आर्थिक और सामाजिक रूप से विपन्न परिवार में हुआ। अपने दृढ़ संकल्प से वह भारतीय कला के प्रति ...

                                               

शकुंतला परांजपे

शकुंतला परांजपे को भारत सरकार द्वारा सन १९९१ में समाज सेवा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया था। ये महाराष्ट्र से थीं।

                                               

सचिन देव बर्मन

एस॰डी॰ बर्मन के नाम से विख्यात सचिन देव वर्मन हिन्दी और बांग्ला फिल्मों के विख्यात संगीतकाऔर गायक थे। उन्होंने अस्सी से भी ज़्यादा फ़िल्मों में संगीत दिया था। उनकी प्रमुख फिल्मों में मिली, अभिमान, ज्वैल थीफ़, गाइड, प्यासा, बंदनी, सुजाता, टैक्सी ड ...

                                               

अनवर अहमद

अनवर अहमद, एक भारतीय कार्टूनिस्ट और हिंदुस्तान टाइम्स में एक लोकप्रिय कार्टून पट्टी के केंद्रीय पात्र बड़े पेटवाला पगड़ीदार चंदू के निर्माता थे।

                                               

एम॰जे॰ गोपालन

मोरप्पकम जोस्यम गोपालन एक भारतीय खिलाड़ी थे जिन्होंने भारतीय टीम के सदस्य के रूप में क्रिकेट और हॉकी खेली। उन्हें भारत सरकार ने १९६४ में पद्म श्री से सम्मानित किया।

                                               

के॰ एल॰ श्रीमाली

कालू लाल श्रीमाली, इन्हें के॰ एल॰ श्रीमाली के नाम द्वारा भी जाना जाता था। ये एक भारत सरकार के केंद्रीय शिक्षा मंत्री थे और एक विशिष्ट सांसद और एक शिक्षाविद भी थे। इनका जन्म दिसंबर १९०९ को भारतीय राज्य राजस्थान के उदयपुर जिले में हुआ था और इन्होंन ...

                                               

क्वामे एन्क्रूमाह

क्वामे एन्क्रूमाह, प्रावेसी काउंसिल 1951 से 1966 तक घाना और इसके पूर्ववर्ती राज्य गोल्ड कोस्ट के नेता थे। १९५७ में ब्रितानी औपनिवेशिक शासन से घाना की मुक्ति उन्ही की देखरेख में हुई, इसके बाद एन्क्रूमाह घाना के प्रथम राष्ट्राध्यक्ष और प्रथम प्रधान ...

                                               

गौतु लच्चन्ना

डॉ। गौतु लच्चन्ना का जन्म 16 अगस्त 1909 को आंध्र प्रदेश राज्य के श्रीकाकुलम जिले के सोम्पेटा मंडल के बरुवा गांव में हुआ था। वह चित्त्याह के आठवें बच्चे, गौड़ा टॉडी टैपर और राजम्मा थे। उन्होंने यशोध देवी से शादी की, जो 1996 में निधन हो गए। 19 अप्र ...

                                               

जयसुख लाल हाथी

जयसुखलाल हाथी पंजाब के गवर्नर और केंद्रीय मंत्री थे। उन्होंने संविधान सभा, लोकसभा और राज्य सभा के सदस्य के रूप में कार्य किया। उनका जन्म 19 जनवरी 1909 को मुली तत्कालीन बंबई राज्य में हुआ था। इनके पिता का नाम लालशंकर हाथी था। इनका विवाह सन 1927 मे ...

                                               

टीका राम पालीवाल

इन्हें भी देखें: राजस्थान के मुख्यमंत्री इन्हें भी देखें: भारत के मुख्यमंत्रियों की सूची टीका राम पालीवाल एक भारतीय राजनेता है और राजस्थान के मुख्यमंत्री रह चुके है।

                                               

दीनानाथ गोपाल तेंदुलकर

दीनानाथ गोपाल तेंदुलकर एक भारतीय लेखक और वृत्तचित्र निर्माता थे। उन्हें मुख्यतः महात्मा: लाइफ़ ऑफ़ मोहनदास कर्मचन्द गाँधी नाम से महात्मा गाँधी की आठ खण्डों में लिखी जीवनी के लिए जाना जाता है।

                                               

नालापत बालमणि अम्मा

नालापत बालमणि अम्मा भारत से मलयालम भाषा की प्रतिभावान कवयित्रियों में से एक थीं। वे हिन्दी साहित्य में छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभों में से एक महादेवी वर्मा की समकालीन थीं। उन्होंने 500 से अधिक कविताएँ लिखीं। उनकी गणना बीसवीं शताब्दी की चर्च ...

                                               

ब्रज कुमार नेहरू

ब्रज कुमार नेहरू, आयसीएस एक भारतीय राजनयिक और संयुक्त राज्य अमेरिका में भारतीय राजदूत थे। वो भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के चचेरे भाई बृजलाल और रामेश्वरी नेहरू के पुत्र थे।

                                               

पुरुषोत्तम काशीनाथ केलकर

पुरुषोत्तम काशीनाथ केलकर को साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा सन १९७० में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये महाराष्ट्र राज्य से थे।

                                               

पैडी जयराज

पैडी जयराज, पी जयराज या जयराज विख्यात अभिनेता, निर्देशक व निर्माता थे। सन् 1980 में उन्हें उनके समग्र जीवनकाल की उपलब्धियों के लिए दादासाहेब फाल्के पुरस्कार से पुरस्कृत किया गया।

                                               

बालमणि अम्मा का जीवन परिचय

बालमणि अम्मा बीसवीं शताब्दी की चर्चित व प्रतिष्ठित मलयालम कवयित्रियों में से एक हैं। उनका जन्म 19 जुलाई 1909 को केरल के मालाबार जिला के पुन्नायुर्कुलम में पिता चित्तंजूर कुंज्जण्णि राजा और माँ नालापत कूचुकुट्टीअम्मा के यहाँ "नालापत" में हुआ था। य ...

                                               

बालमणि अम्मा का रचनात्मक योगदान

बालमणि अम्मा का रचनात्मक योगदान अत्यंत व्यापक है। जिसमें गद्य, पद्य, अनुवाद और बाल साहित्य सभी समाए हुए हैं। उनका रचनाकाल भी 50 से अधिक वर्षों तक फैला हुआ है और वे अपने अंतिम समय तक कुछ न कुछ रचती ही रहीं। इस लेख में उनकी लगभग समस्त रचनाओं को सम् ...

                                               

बालमणि अम्मा की काव्यगत विशेषताएँ

बालमणि अम्मा केरल की राष्ट्रवादी कवयित्री थीं। उन्होंने राष्ट्रीय उद्बोधन वाली कविताओं की रचना की। वे मुख्यतः वात्सल्य, ममता, मानवता के कोमल भाव की कवयित्री के रूप में विख्यात हैं। फिर भी स्वतंत्रतारूपी दीपक की उष्ण लौ से भी वे अछूती नहीं रहीं। स ...

                                               

बी. एस. मर्ढेकर

बाळ सीताराम मर्ढेकर मराठी भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा सौन्दर्यशास्त्र के अध्ययन पर रचित एक किताब सौन्दर्य आणि साहित्य के लिये उन्हें सन् १९५६ में साहित्य अकादमी पुरस्कार के मराठी-भाषा श्रेणी से मरणोपरांत सम्मानित किया गया। मर्ढेकर ...

                                               

ललिताम्बिक अन्तर्जनम

ललिताम्बिक अन्तर्जनम भारत की एक साहित्यकार एवं समाज-सुधारक थीं। उन्होने मलयालम में साहित्य रचना की है। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास अग्निसाक्षी के लिये उन्हें सन् 1977 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

ए. एन. मूर्तिराव

ए. एन. मूर्तिराव कन्नड़ भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक संस्मरण चित्रगळु पत्रगळु के लिये उन्हें सन् 1979 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

                                               

कुट्टीकृष्ण मरार

कुट्टीकृष्ण मरार, भारत के केरल राज्य से एक भारतीय निबंधकाऔर साहित्यिक आलोचक थे। उन्होने साहित्यिक आलोचना को नया आयाम देने का साहस दिखाया। उन्हें साहित्य में आराधना और नकलचियों से घृणा दिखाने में कोई झिझक नहीं होती थी। भरथपर्यादनम उनकी महत्वपूर्ण ...

                                               

एम सी छागला

महोम्मेदाली करीम चागला एक प्रसिद्ध भारतीय न्यायधीश, राजनयिक तथा कैबिनेट मंत्री थे, जिन्होनें 1948 से 1958 तक बंबई उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के रूप में सेवा की थी।

                                               

तालिब चकवाली

तालिब चकवाली उर्दू के प्रसिद्ध शायर हैं इनका जन्म 1900 में चकवाल में हुआ। अनवर-ए-हक़ीक़त, मोर पंख आदि इनके प्रमुख संग्रह हैं। इनकी मृत्यु 1988 में दिल्ली में हुई।

                                               

दीनानाथ मंगेशकर

दीनानाथ मंगेशकर एक प्रसिद्ध मराठी थिएटर अभिनेता, प्रसिद्ध नाट्य संगीत संगीतकाऔर हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीतज्ञ एवं गायक थे। वे जाने-माने गायकों लता मंगेशकर, आशा भोसले,मीणा खड़ीकर,उषा मंगेशकर और संगीतकार हृदयनाथ मंगेशकर के पिता भी थे।

                                               

बलवंतराय मेहता

बलवंतराय मेहता एक भारतीय राजनीतिज्ञ और गुजरात के दूसरे मुख्य मंत्री थे। इन्होंनेभारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में भी भाग लिया था। लोकतांत्रिक विकेंद्रीकरण की दिशा में उनके योगदान के लिए उन्हें पंचायती राज का वास्तुकार माना जाता है।

                                               

बृज कृष्ण चांदीवाला

बृज कृष्ण चांदीवाला भारतीय स्वतंत्रता सैनानी थे। वो मूल रूप से दिल्ली के हैं। उन्हें उनके सामाजिक कार्यों के लिए भारत सरकार ने १९६३ में पद्म श्री पुरस्कार प्रदान किया।

                                               

ब्रह्म दास लक्ष्मण

बी.डी. लक्ष्मण ने बनारस हिंदू विश्वविद्यालय से स्नातक की उपाधि प्राप्त की थी। भारत में उन्होंने महात्मा गांधी के साथ स्वतंत्रता संग्राम में भी भाग लिया था। फ़िजी में अपनी वापसी के बाद उन्होने लौतोका के सवेनी में गुरुकुल प्राइमरी स्कूल में अध्यापन ...

                                               

मारोतराव कन्नमवार

मारोतराव कन्नमवार एक भारतीय राजनीतिज्ञ थे। वे २० नवंबर १९६२ से २४ नवंबर १९६३ तक महाराष्ट्र के दुसरे मुख्यमंत्री रहे थे और अपने कार्यकाल में ही उनकी मृत्यु हो गई। चन्द्रपूर जिले के साओली विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र से वे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के ...

                                               

गगनविहारी लालुभाई मेहता

गगनविहारी लालुभाई मेहता १९५२ से १९५८ तक संयुक्त राज्य अमेरिका में भारतीय राजदूत थे। उन्हें १९५४ में पद्म भूषण से और १९५९ में पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया। वो सर लालुभाई शामलदास के पुत्र थे।

                                               

रानी माँ महारानी एलिजाबेथ

एलिजाबेथ एंजेला गुलबहार बोवेस-ल्यों, राजा जॉर्ज VI की पत्नी और महारानी एलिजाबेथ द्वितीय और राजकुमारी मार्गरेट की माँ थी। वे 1936 में अपने पति के परिग्रहण से 1952 में अपनी मृत्यु तक यूनाइटेड किंगडम की क्वीन कनसोर्ट रही, जिसके बाद उन्हे रानी माँ मह ...

                                               

लीला नाग

लीला नाग, एक बंगाली पत्रकार, ghitis और राजनीतिक आंदोलन में सक्रिय व्यक्ति था। उन्होंने कहा, ढाका विश्वविद्यालय में पहली बार छात्र था। वह नेताजी सुभाष चंद्र बोस के सहायक था।

                                               

लुई बुनुएल

लुई बुनुएल एक स्पेनिश फिल्मकार थे जिन्होंने स्पेन, मैक्सिको और फ्रांस में फिल्म निर्माण कार्य किया। लुई बुनुएल सिर्फ एक फिल्मकार ही नहीं बल्कि एक क्रांतिकारी विचारक भी थे। उकी गणना अवांगार्द अतियथार्थवादी फिल्मकारों में की जाती है। सुप्रसिद्ध कवि ...

                                               

लुईस माउंटबेटन, बर्मा के पहले अर्ल माउंटबेटन

लुइस फ्रांसिस एल्बर्ट विक्टर निकोलस जॉर्ज माउंटबेटन, बर्मा के पहले अर्ल माउंटबेटन, बेड़े के एडमिरल, केजी, जीसीबी, ओएम, जीसीएसआई, जीसीआईई, जीसीवीओ, डीएसओ, पीसी, एफआरएस, एक ब्रिटिश राजनीतिज्ञ और नौसैनिक अधिकारी व राजकुमार फिलिप, एडिनबर्ग के ड्यूक क ...

                                               

उदय शंकर

उदय शंकर भारत में आधुनिक नृत्य के जन्मदाता और एक विश्व प्रसिद्ध भारतीय नर्तक एवं नृत्य-निर्देशक थे जिन्हें अधिकतर भारतीय शास्त्रीय, लोक और जनजातीय नृत्य के तत्वों में पिरोये गए पारंपरिक भारतीय शास्त्रीय नृत्य में पश्चिमी रंगमंचीय तकनीकों को अपनान ...

                                               

सत्य नारायण सिन्हा

सत्य नारायण सिन्हा भारत के बिहार राज्य से भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के राजनीतिज्ञ थे। वे २४ जनवरी १९६६ से ३ मार्च १९६७ तक लोक सभा के सदन नेता जब इस काल में प्रधानमन्त्री इन्दिरा गांधी राज्य सभा की सदस्य थी।

                                               

सुमित्रानन्दन पन्त

सुमित्रानंदन पंत हिंदी साहित्य में छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभों में से एक हैं। इस युग को जयशंकर प्रसाद, महादेवी वर्मा, सूर्यकांत त्रिपाठी निराला और रामकुमार वर्मा जैसे कवियों का युग कहा जाता है। उनका जन्म कौसानी बागेश्वर में हुआ था। झरना, ब ...