Blog पृष्ठ 48




                                               

सतनाम

सतनाम= सत्नाम, सत्तनाम, परमात्मा का सच्चा--अविनाशी या अपरिवर्तनशील नाम, आदिनाद। सतनाम या सतिनाम गुरुमुखी: ਸਤਿ ਨਾਮੁ गुरु ग्रन्थ साहिब में प्रयुक्त प्रधान शब्द है। यह मूल मंत्र में भी है। सतनाम शब्द भारत के विभिन्न समाज में प्रचलित है। छत्तीसगढ़ मे ...

                                               

सनातन सिख

सनातन सिख वे हैं जो सिख धर्म को हिन्दू धर्म का अंग मानते हैं। उन्होने तत खालसा का विरोध किया था, विशेषतः सिंह सभा आन्दोलन के समय। १८७३ में सनातन सिखों ने खेम सिंह बेदी के नेतृत्व में सिख सभा की स्थापना की। खेम सिंह बेदी, गुरु नानक के वंशज थे।

                                               

सन्त सिपाही

सिख दर्शन में सन्त सिपाही उस व्यक्ति के लिये प्रयुक्त होता है जो मूलतः सन्त हो और धर्म एवं न्याय की रक्षा के लिये सिपाही भी बन जाये। गुरू गोबिन्द सिंह एवं बन्दा सिंह बहादुर को सन्त सिपाही कहा जाता है। सन्त - उस व्यक्ति को कहते हैं जो बुद्धिमान, ज ...

                                               

सिक्खों की मिसलें

मिसलें सिख्ख सम्प्रभु राज्य थे। मुगल बादशाह बहादुशाह 1707-1712 की 10 दिसम्बर 1710 को प्रसारित एक राजाज्ञा से बड़े पैमाने पर सिक्खों का उत्पीड़न आरंभ हुआ। फर्रुखसियर ने भी इस आदेश को दोहरा दिया। लाहौर के गवर्नर अब्दुस्समद खाँ और उसके पुत्र तथा उत् ...

                                               

सिख

सिख धर्म के अनुयायियों को सिख कहते हैं। इसे कभी-कभी सिक्ख भी लिखा जाता है। इनके पहले गुरू गुरु नानक जी हैं। गुरु ग्रंथ साहिब सिखों का पवित्र ग्रन्थ है। इनके प्रार्थना स्थल को गुरुद्वारा कहते ह भारत की आर्थिक प्रगति में सिखों का बहुत बड़ा योगदान है।

                                               

सिख दर्शन

सिख धर्म का दर्शन, उनके पवित्र ग्रन्थ गुरु ग्रन्थ साहिब में अत्यन्त विस्तार से दिया हुआ है। सिख धर्म के अनुयायियों को जीवन-यापन के लिये विस्तृत मार्गदर्शन दिया गया है ताकि इसी जीवन में शान्ति और मुक्ति प्राप्त हो जाय।

                                               

सिख धर्म के विविध सम्प्रदाय

सिख धर्म के सम्प्रदाय से आशय उन परम्पराओं एवं सम्प्रदायों से है जिनका सिख धर्म की मुख्यधारा से निकट सम्बन्ध रहा है किन्तु गुरुओं की किसी अन्य शृंखला को मानते हैं या जो सिख धर्मग्रन्थों का अलग तरह से अर्थ करते हैं, या किसी जीवित गुरु का अनुसरण करन ...

                                               

सिख सन्दर्भ पुस्तकालय

सिख सन्दर्भ पुस्तकालय में 1500 दुर्लभ पांडुलिपियाँ मौजूद थे। यह अमृतसर, पंजाब में सिख धर्म के धार्मिक परिसर हरिमन्दिर साहिब में स्थित था। 1984 में भारतीय सैन्य ऑपरेशन ब्लू स्टार के दौरान यह पुस्तकालय नष्ट हो गया।

                                               

सिख साम्राज्य

सिख साम्राज्य का उदय, उन्नीसवीं सदी की पहली अर्धशताब्दी में भारतीय उपमहाद्वीप के पश्चिमोत्तर में एक ताकतवर महाशक्ती के रूप में हुआ था। महाराज रणजीत सिंह के नेत्रित्व में उसने, स्वयं को पश्चिमोत्तर के सर्वश्रेष्ठ रणनायक के रूप में स्थापित किया था, ...

                                               

होला मोहल्ला

सिक्खों के पवित्र धर्मस्थान श्री आनन्दपुर साहिब मे होली के अगले दिन से लगने वाले मेले को होला मोहल्ला कहते है। सिखों़ ध लिये यह धर्मस्थान बहुत ही महत्वपूर्ण है। यहाँ पर होली पौरुष के प्रतीक पर्व के रूप में मनाई जाती है। इसीलिए दशम गुरू गोविंद सिं ...

                                               

बू अली शाह क़लंदर

बू अली शाह क़लंदर शेख शरफुद्दीन बु अली शाह क़लंदर पनीपति को बु अली शाह क़लंदर कहा जाता है, भारत में चिश्ती आदेश के एक सूफी संत थे जो भारत में रहते थे और पढ़ाते थे। पानीपत शहर के बू अली शाह कलंदर दरगाह में उनका मक़बरा या दरगाह एक तीर्थस्थल है। उनक ...

                                               

मोइनुद्दीन चिश्ती

ख़्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती की मज़ार अजमेर शहर में है। यह माना जाता है कि मोइनुद्दीन चिश्ती का जन्म ५३६ हिज़री संवत् अर्थात ११४१ ई॰ पूर्व पर्शिया के सिस्तान क्षेत्र में हुआ। अन्य खाते के अनुसार उनका जन्म ईरान के इस्फ़हान नगर में हुआ। ख्वाजा मोइ ...

                                               

अल ग़ज़ाली

अबू हामिद मुहम्मद इब्न मुहम्मद अल-गज़ाली, पश्चिम में अल-ग़ज़ाली या अलगाज़ेल के नाम से मशहूर, एक मुस्लिम तत्वग्नानी, सूफ़ी जो पर्शिया से थे। इस्लामी दुनिया में हज़रत मुहम्मद के बाद अगर कोई मुस्लिम समूह को आकर्शित किया या असर रुसूक़ किया तो वो अल-ग ...

                                               

अलाउद्दीन साबिर कलियरी

मखदूम अलाउद्दीन अली अहमद साबिर ; Makhdoom Alauddin Ali Ahmed Sabir: जिन्हें अलाउद्दीन सबिर कलियरी या के रूप में भी जाना जाता है, 13 वीं शताब्दी में एक प्रमुख दक्षिण एशियाई सूफी संत थे। वह बाबा फरीद, के उत्तराधिकारी और चिश्ती आदेश के सबरीया शाखा म ...

                                               

क़ुतुबुद्दीन बख़्तियार काकी

कुतब उल अक्ताब हजरत ख्वाजा सय्यद मुहम्मद बख्तियार अल्हुस्सैनी क़ुतुबुद्दीन बख़्तियार काकी चिश्ती चिश्ती आदेश के एक मुस्लिम सूफी संत और विद्वान थे| वह ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती के अध्यात्मिक उत्तराधिकारी और शिष्य थे, जिन्होंने भारत उपमहाद्वीप में च ...

                                               

ख़्वाजा फ़रीदुद्दीन अत्तार

अबू हामिद बिन अबू बक्र इब्राहीआम तौपर ख़्वाजा फ़रीदउद्दीन अत्तार के नाम से जाने जाते हैं। फ़ारस के नेशांपुर नगर के एक विद्वान थे जिनको सूफीवाद के तीन प्रमुख स्तंभों में गिना जाता है। आपने फ़ारसी भाषा का ग्रंथ मसनवी अत्तार लिखा था। प्रसिद्ध फ़ारसी ...

                                               

गौस-ए-आज़म

अब्दुल क़ादिर जीलानी, बांग्ला: আব্দুল কাদের জিলানী) अल-सय्यद मुहियुद्दी अबू मुहम्मद अब्दल क़ादिर जीलानी अल-हसनी वल-हुसैनी, ईरान से थे। हम्बली न्यायसूत्र परंपरा और सूफ़ी संत। इनका निवास बगदाद शहर। इनहोंने क़ादरिया सूफ़ी परंपरा की शुरूआत की। सुनी म ...

                                               

मंसूर अल हल्लाज

मंसूर अल हल्लाज एक कवि और तसव्वुफ़ के प्रवर्तक विचारकों में से एक था जिसको सन ९२२ में अब्बासी ख़लीफ़ा अल मुक़्तदर के आदेश पर बहुत पड़ताल करने के बाद फ़ांसी पर लटका दिया गया था। इसको अन अल हक़्क़ के नारे के लिए भी जाना जाता है जो भारतीय अद्वैत सिद ...

                                               

मुल्ला नसरुद्दीन

मुल्ला नसरुद्दीन होजा तुर्की सबसे प्रसिद्द विनोद चरित्र है। तुर्की भाषा में होजा शब्द का अर्थ है शिक्षक या स्कॉलर। उसकी चतुराई और वाकपटुता के किस्से संभवतः किसी वास्तविक इमाम पर आधारित हैं। कहा जाता है कि उसका जन्म वर्ष १२०८ में तुर्की के होरतो न ...

                                               

राबिया अल-बसरी

राबिया अल-अदविया अल-क़ैसिया: अरबी: رابعة العدوية القيسية - एक मुस्लिम संत और सूफी फकीर थीं। वह दुनिया के कुछ हिस्सों में कई नामों से जानी जाती हैं, जैसे हज़रत बीबी राबिया बसरी, राबिया अल बसरी या बस राबिया बसर।

                                               

वारिस अली शाह

वारिस अली शाह ; Waris Ali Shah, हाजी वारिस अली शाह या सरकार वारिस पाक 1819-1905 ईस्वी के मध्य में एक सूफी संत थे, और बाराबंकी, भारत, में सूफीवाद के वारसी आदेश के संस्थापक थे। इन्होंने व्यापक रूप से पश्चिमी यात्रा की और लोगों को अपनी आध्यात्मिक शि ...

                                               

हज़रत निज़ामुद्दीन

हजरत निज़ामुद्दीन चिश्ती घराने के चौथे संत थे। इस सूफी संत ने वैराग्य और सहनशीलता की मिसाल पेश की, कहा जाता है कि 1303 में इनके कहने पर मुगल सेना ने हमला रोक दिया था, इस प्रकार ये सभी धर्मों के लोगों में लोकप्रिय बन गए। हजरत साहब ने 92 वर्ष की आय ...

                                               

गृद्धकूट पर्वत

गृद्धकूट पर्वत भारत स्थित एक पहाड़ी है जो धार्मिक, पुरातात्विक और पर्यावरणीय दृष्टि से अति महत्वपूर्ण है। इस पहाड़ी को गिद्धराज पर्वत भी कहते हैं। स्थानीय लोग इसे गिद्धहा पहाड़ कहते हैं। यह पहाड़ी मध्य प्रदेश के सतना जिले के रामनगर तहसील के देवरा ...

                                               

जगत शिरोमणी मन्दिर, आमेर

जगत शिरोमणि मंदिर एक हिन्दू मन्दिर जो राजस्थान राज्य के आमेर ज़िले में स्थित है। इस मन्दिर में मीरा बाई,कृष्ण तथा विष्णुजी की पूजा पाठ की जाती है। इस मन्दिर का निर्माण १५९९-१६०८ ई. में रानी कनक्वति ने करवाया था। l

                                               

ताज वाले बाबा मजार

ताज वाले बाबा मजार, उत्तर प्रदेश के जनपद प्रतापगढ़ के कुंडा तहसील के हीरागंज गांव में स्थित मुस्लिम एवं हिन्दू समुदाय के लोगो का आस्था का केंद्र हैं। यह प्रतीकात्मक मजार नागपुर के प्रसिद्ध मुस्लिम सूफ़ी संत हज़रत बाबा सैय्यद ताजुद्दीन औलिया को सम ...

                                               

महेन्द्रनाथ मंदिर, सिवान, बिहार

बिहार राज्य के सीवान जिला से लगभग 35 किमी दूर सिसवन प्रखण्ड के अतिप्रसिद्ध मेंहदार गांव में स्थित भगवान शिव के प्राचीन महेंद्रनाथ मन्दिर का निर्माण नेपाल नरेश महेंद्रवीर विक्रम सहदेव सत्रहवीं शताब्दी में करवाया था और इसका नाम महेंद्रनाथ रखा था। ऐ ...

                                               

राजस्थान में जैन धर्म

राजस्थान भारत के पश्चिम भाग में स्थित राज्य है, जिसका जैन धर्म के साथ बहुत ऐतिहासिक सम्बन्ध रहा है। दक्षिणी राजस्थान श्वेताम्बर जैन धर्म का केन्द्र बिन्दु रहा है। दिगम्बर के भी बड़े केन्द्र राजस्थान के उत्तरी व पूर्वी भागों में स्थित हैं।

                                               

लाखामंडल

प्रकृति की वादियों में बसा यह गांव भारत देश के उत्तराखंड राज्य के पाटनगर देहरादून से 128 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यमुना नदी की तट पर है। दिल को लुभाने वाली यह जगह गुफाओं और भगवान शिव के मंदिर के प्राचीन अवशेषों से घिरा हुआ है। माना जाता है कि इस ...

                                               

अलखिया सम्प्रदाय

अलखिया सम्प्रदाय मध्यकालीन भारत का एक हिंदू संप्रदाय है। इसे बौद्धों की महायान शाखा का एक अवशिष्ट माना जाता है। इस संप्रदाय के साधु उड़ीसा तथा उत्तरी भारत के अनेक भागों में मिलते थे। इस सम्प्रदाय के साधु अपने को बड़े भारी रहस्यदर्शी योगी और अलख क ...

                                               

अखण्ड भारत

अखण्ड भारत भारत के प्राचीन समय के अविभाजित स्वरूप को कहा जाता है। प्राचीन काल में भारत बहुत विस्तृत था जिसमें अफगानिस्तान, पाकिस्तान, बांग्लादेश, श्रीलंका, बर्मा, थाइलैंड शामिल थे। कुछ देश जहाँ बहुत पहले के समय में अलग हो चुके थे वहीं पाकिस्तान, ...

                                               

अभिनव भारत

अभिनव भारत भारत का एक दक्षिणपन्थी हिन्दू संगठन है जिसकी स्थापना २००६ में पुणे में भारतीय सेना के सेवानिवृत मेजर रमेश उपाध्याय और लेफ्तिनेन्ट कर्नल प्रसाद श्रीकान्त पुरोहित ने की थी। मध्य प्रदेश में इस संअगठन का बड़ा आधार है। ऐसा माना जाता है कि य ...

                                               

इन्डित्व

इन्डित्व भारत के पूर्व राष्ट्रपति के.आर. नारायणन द्वारा शुरू की गयी विचारधारा है जिसका कि हिन्दुत्व से सीधे रूप से टकराव है। 13 अगस्त 2002 को पत्रकारों से सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि गोधरा कांड के बाद गुजरात दंगों और संबंधित सांप्रदायिक मुद ...

                                               

गांधीवादी समाजवाद

गांधीवादी समाजवाद महात्मा गांधी के सिद्धांतों की राष्ट्रवादी व्याख्या पर आधारित समाजवाद की शाखा है। गांधीवादी समाजवाद मुख्य रूप से गांधी की लिखी किताब हिंद स्वराज पर केंद्रित है। राजनीतिक और आर्थिक शक्ति का विकेंद्रीकरण, प्रौद्योगिकी के आधुनिकीकर ...

                                               

चीन में हिन्दू धर्म

चीन में हिंदू धर्म का अभ्यास अल्पसंख्यक चीनी नागरिकों द्वारा होता है। आधुनिक चीनी मुख्यधारा में हिन्दू धर्म की उपस्थिति अपने आप में बहुत ही सीमित, परन्तु पुरातात्विक साक्ष्य से पता चलता है कि, मध्ययुगीन चीन के विभिन्न प्रांतों में हिंदू धर्म की उ ...

                                               

पथ संचालन

नंगल में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की ओर से श्री गुरु गोबिंद सिंह जी महाराज के 350वें प्रकाश पर्व मनाया गया और उनके आदर में समर्पित पथ संचलन कार्यक्रम आयोजित किया गया था। 160 स्वयंसेवकों ने श्री गुरु गोबिंद सिंह जी को श्रद्धासुमन अर्पित किये व् एकत ...

                                               

भगवा आतंकवाद

भगवा आतंकवाद से तात्पर्य उन हिंसात्मक गतिविधियों से है जिन्हें हिन्दू राष्ट्रवाद द्वारा प्रेरित बताया जाता है। यह शब्द हिन्दू धर्म के प्रमुख प्रतीक केसरिया रंग के पर्यायवाची से उद्धृत है।यह पूरी तरह से मिथ्या है, ऐसा कुछ भी हकीकत मे नहीं है

                                               

मधुकर दत्तात्रेय देवरस

श्री बाला साहब देवरस का जन्म 11 दिसम्‍बर 1915 को नागपुर में हुआ था। उनके पिता सरकारी कर्मचारी थे और नागपुर इतवारी में आपका निवास था। यहीं देवरस परिवार के बच्चे व्यायामशाला जाते थे 1925 में संघ की शाखा प्रारम्भ हुई और कुछ ही दिनों बाद बालासाहेब ने ...

                                               

रत्नागिरि हिन्दू सभा

रत्नागिरि हिन्दू सभा की स्थापना १९२४ में हिन्दुओं को संगठित करने तथा उनमें एकता का भाव जगाने के लिए किया गया था ताकि हिन्दु किसी प्रकार का अन्यायपूर्ण आक्रमण का प्रतिकाकर सकें और अपने सांस्कृतिक, आर्थिक एवं धार्मिक अधिकारों की रक्षा कर सकें। इस स ...

                                               

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ

यह लेख भारत के एक सांस्कृतिक संगठन आर एस के बारे में है। अन्य प्रयोग हेतु आर एस देखें। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ भारत का एक, हिन्दू राष्ट्रवादी, अर्धसैनिक, स्वयंसेवक संगठन हैं, जो व्यापक रूप से भारत के सत्तारूढ़ दल भारतीय जनता पार्टी का पैतृक संगठन ...

                                               

विश्व हिंदू परिषद

विश्व हिन्दू परिषद एक हिन्दू संगठन है, जो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ यानी "आरएसएस" की एक अनुषांगिक संगठन है। विश्व हिन्दू परिषद् वीएचपी और विहिप के नाम से भी जाना जाता है। विहिप का चिन्ह बरगद का पेड़ है यानी वृट वृक्ष है और इसका ध्येय वाक्य, "धर्मो ...

                                               

श्री राजपूत करणी सेना

श्री राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना 2006 में स्थापित एक राजपूत जाति संगठन है। यह जयपुर, राजस्थान, भारत में आधारित है। ये समूह कथित "राष्ट्रीय एकता" की हिमायत करते हैं और जाति-केंद्रित सकारात्मक भेदभाव और "भ्रष्टाचार" का विरोध करते हैं।लोकेंद्र सिंह क ...

                                               

श्री राम सेना

श्री राम सेना एक हिंदूवादी संगठन हैं, जिसकी स्थापना 1960 के दशक में कल्कि महाराज ने की थी। यह संगठन मोरल पुलिसिंग की गतिविधियों के कारण खबरों और विवादों में रहता है। इस संगठन की वेबसाइट के मुताबिक, यह संघ परिवार के संस्थापक केशवराव बळिराम हेडगेवा ...

                                               

संघ परिवार

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और उससे जुड़े संगठनों को ही संक्षेप में संघ परिवार कहा जाता है। ये वैसे संगठन हैं जिनकी अपनी स्वतंत्र पहचान है, नीतियां हैं और कार्यक्रम भी हैं। लेकिन मूलतः ये सभी संगठन विचारधारा के मामले में संघ से हीं अनुप्राणित होते रह ...

                                               

हिन्दुत्व

हिन्दुत्व के अर्थ हैं- हिन्दु भावना तथा हिन्दु होने का भाव । हिन्दुत्व शब्द धर्म का पर्यायवाची है, जो भारत वर्ष में प्रचलित उन सभी आचार-विचारों, व्यक्ति और समाज में पारस्परिक सामाजिक समरसता, संतुलन तथा मोक्ष प्राप्ति के सहायक तत्वों को स्पष्ट करत ...

                                               

हिन्दुत्व: हिन्दू कौन है?

हिन्दुत्व: हिन्दू कौन है? विनायक दामोदर सावरकर द्वारा १९२३ में लिखा गया एक आदर्शवादी पर्चा है। यह पाठ शब्द हिन्दुत्व के कुछ आरम्भिक उपयोगों में शामिल है। यह हिन्दू राष्ट्रवाद के कुछ समकालीन मूलभूत पाठों में शामिल है। सावरकर ने यह पर्चा रत्नगिरि ज ...

                                               

हिन्दू जनजागृति समिति

हिन्दू जनजागृति समिति एक हिंदूवादी संगठन है जो पूरे विश्व में हिन्दुओ के मानवाधिकारों के लिए कार्य करती है। इसकी स्थापना 13 अक्टूबर 2002 को हुई। इस संस्था का कथन है कि वह "सभी हिन्दुओं की सभी बाधाओं को तोड़कर उन्हें एकजुट करने के लिए एक साझा मंच ...

                                               

हिन्दू जागरण मंच

हिन्दू जागरण मंच एक हिन्दू संगठन हैं।यह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का अनुशांगिक संगठन है।, 1. आंदोलनात्मक कार्यक्रम:- जैसे देश मे चल रही गलत गतिविधियों का विरोध करना 2. रचनात्मक कार्यक्रम:- जैसे महापुरुषों की जयंती मनाना, आदि 3.हिंदुओ समाज को अपने ग ...

                                               

हिन्दू युवा वाहिनी

हिन्दू युवा वाहिनी एक हिंदूवादी संगठन हैं, जिसके संस्थापक गोरक्षपीठाधीश्वर गोरक्षपीठ गोरखपुर मा0 मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश योगी आदित्यनाथ जी हैं। वर्ष २००२ के अप्रैल माह में श्री राम नवमी के पर्व पर योगी आदित्यनाथ ने महानगर से कुछ राष्ट्रवादी नवयु ...

                                               

हिन्दू राष्ट्रवादी राजनैतिक दलों की सूची

Dr. Syamaprasad Jana Jagaran Manch West Bengal Asom Bharatiya Janata Party Assam Hindu Makkal Katchi Tamil Nadu Shiv Sena Maharashtra Bharath Dharma Jana Sena Kerala Goa Suraksha Manch Goa अखण्ड हिन्दुसतान मोर्चा National Capital Region

                                               

अंगुल

अंगुल वैदिक काल की हिन्दू लम्बाई मापन की इकाई है। एक अंगुल की लम्बाई एक मानव हस्त की अंगुली की मोटाई के बराबर होती है। वायु ने मनु के अधिकार के अन्तर्गत उपर्युक्त समान गणना दी है, जो कि मनु संहिता में नहीं उल्लेखित है। 4 हस्त= 1 धनु 21 अंगुल = 1 ...