Blog पृष्ठ 71




                                               

हैप्पी बर्थ डे टू यू

हैप्पी बर्थ डे टू यू जिसका शाब्दिक अर्थ है आपको जन्मदिन मुबारक हो ", एक गीत है जिसे व्यक्ति के जन्म की सालगिरह मनाने के लिए परंपरागत रूप से गाया जाता है. 1998 की गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्डस के अनुसार, "हैप्पी बर्थ डे टू यू" गीत "फॉर हीज ए जॉली ग ...

                                               

कजरी

कजरी पूर्वी उत्तर प्रदेश का प्रसिद्ध लोकगीत है। इसे सावन के महीने में गाया जाता है। यह अर्ध-शास्त्रीय गायन की विधा के रूप में भी विकसित हुआ और इसके गायन में बनारस घराने की ख़ास दखल है। कजरी गीतों में वर्षा ऋतु का वर्णन विरह-वर्णन तथा राधा-कृष्ण क ...

                                               

चैती

चैती उत्तर प्रदेश का, चैत माह पर केंद्रित लोक-गीत है। इसे अर्ध-शास्त्रीय गीत विधाओं में भी सम्मिलित किया जाता है तथा उपशास्त्रीय बंदिशें गाई जाती हैं। चैत्र के महीने में गाए जाने वाले इस राग का विषय प्रेम, प्रकृति और होली रहते है। चैत श्री राम के ...

                                               

रसिया

यद्यपि जमींदारी प्रथा के अंत के साथ कई लोक परम्पराओ का भी अंत हो गया परंतु बुंदेलखंड मे फाग व ब्रज मे रसिया आज भी होली के अवसर पर गया जाता है। रसिया का प्रयोग आम नौटंकी मे भी कलाकार जरूरत के अनुसार करते है।

                                               

उत्तर प्रदेश के लोकनृत्य

लोकनृत्य में उत्तर प्रदेश के प्रत्येक अंचल की अपनी विशिष्ट पहचान है। समृद्ध विरासत की विविधता को संजोये हुए ये आंगिक कलारूप लोक संस्कृति के प्रमुख वाहक हैं।

                                               

गिद्दा

गिद्दा पंजाब की नृत्य शैली है। यह महिला प्रधान नृत्य है। {{Navbox |name = भारत के लोक नृत्य |state = autocollapse |title = भारत के लोक नृत्य |image = |group1 = उत्तर भारत |list1 =

                                               

छपेली

छपेली, हिमाचल प्रदेश का परिद्ध लोक नृत्य है। छपेली नृत्य एक हाथ में रुमाल तथा दूसरे हाथ में दर्पण लेकर किया जाता है। इस के माध्यम से नर्तक आध्यात्मिक समुन्नति की कामना करते हैं।

                                               

डफ

डफ एक तालवाद्य है। वे इसका उपयोग लोकगीतों में लोकगीतों के लिए करते हैं। यह यंत्र लकड़ी या धातु से बनी गोलाकार पट्टी पर चमड़े के खिंचाव से सुसज्जित है। यह उपकरण एक हाथ को दूसरे हाथ में पकड़कर और त्वचा को एक छोटे से प्रहार के साथ बजाया जाता है। यह ...

                                               

थाली (नृत्य)

थाली, हिमाचल प्रदेश का प्रसिद्ध लोक नृत्य है। Bahut hi achha loknritya hai राजस्थान में जोधपुर का थाली नृत्य प्रसिद्ध हैं। जो थाली को को हाथो की अंगुलियों पर घुमाया जाता हैं।

                                               

पार्वती बाउल

पार्वती बाउल बंगाल से एक कटोरा और लोक गायक, संगीतकाऔर बयान कर रहे हैं. इन भारत की अग्रणी कटोरा संगीतकार भी है । कटोरा गुरु, सनातन दास बाउल, धन्यवाद घोष का कटोरा, के पर्यवेक्षण के अंतर्गत ये भारत और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी कटोरा कार्यक्रम १९९५ क ...

                                               

टार्ज़न चीख़

टार्ज़न चीख़ एक विशेष प्रकार की चढ़ती-उतरती चीख़ है जो टार्ज़न के काल्पनिक पात्पर आधारित फिल्मों में टार्ज़न किसी विजय या सफलता के बाद चीख़ता है। इसे सब से पहले जॉनी वाइसमलर नाम के अभिनेता ने सन् 1932 में बनी "टार्ज़न द एप मैन" नामक फ़िल्म में ची ...

                                               

औपासन

हिन्दुओं द्वारा किए जाने वाले दैनिक यज्ञ को औपासन कहते हैं। यह अनुष्ठान स्मार्त अग्नि पर विहित है। इनको वही व्यक्ति संपादित कर सकता है जिसने गृह्यसूत्र द्वारा प्रतिपादित विधान के अनुसार स्मार्त अग्नि का परिग्रहण किया हो। स्मार्त अग्नि का विधान वि ...

                                               

दोहद

दोहद शब्द का अर्थ गर्भवती की इच्छा है। संभवत: यह संस्कृत दौहृद शब्द का प्राकृत रूप है जो संस्कृत में गृहीत अन्य प्राकृत शब्दों के समान स्वीकृत हो गया है। याज्ञवल्क्य स्मृति के अनुसार गर्भिणी स्त्री का यह प्रिय आचरण है जिसे अवश्य पूरा करना चाहिए। ...

                                               

बहुसंस्कृतिवाद

बहुसंस्कृतिवाद, बहु जातीय संस्कृति की स्वीकृति देना या बढ़ावा देना होता है, एक विशिष्ट स्थान के जनसांख्यिकीय बनावट पर यह लागू होती है, आमतौपर यह स्कूलों, व्यापारों, पड़ोस, शहरों या राष्ट्रों जैसे संगठनात्मक स्तर पर होते हैं। इस संदर्भ में, बहुसंस ...

                                               

भारतीय नाम

भारतीय पारिवारिक नाम अनेक प्रकार की प्रणालियों व नामकरण पद्धतियों पर आधारित होते हैं, जो एक से दूसरे क्षेत्र के अनुसार बदलतीं रहती हैं। नामों पर धर्म व जाति का प्रभाव भी होता है और वे धर्म या महाकाव्यों से लिये हुए हो सकते हैं। भारत के लोग विविध ...

                                               

आर्य

आर्य एक शब्द है जिसका उपयोग भारत-ईरानी लोगों द्वारा स्व-पदनाम के रूप में किया गया था। इस शब्द का इस्तेमाल उत्तर भारत में वैदिक काल के उत्तर भारतीय लोगों द्वारा एक विशेषण के रूप में किया जाता हैं। दस्यु और आर्य शब्द का इस्तमाल यह एक विशेषण के रुप ...

                                               

इन्का सभ्यता

इन्का सभ्यता यह प्राचीन दक्षिणी अमेरिका की समृद्ध सभ्यता थी। इसका अन्तिम प्रभुसत्ताक सम्राट अटाहुआल्पा था, जिसके स्पेनी पिज़्ज़ारो ने बन्दी बनाया और फिर उसे प्राणदण्ड दिया।

                                               

ईजियाई सभ्यता

जो सभ्यता 12वीं सदी ई.पू. से पहले दोरियाई ग्रीकों के ग्रीस पर आक्रमण के पूर्व क्रीत और निकटवर्ती द्वीपों, ग्रीस की सागरवर्ती भूमि, उसके मिकीनी केंद्रीय प्रांतों तथा इतिहासप्रसिद्ध त्राय में विकसित हुई और फैली, उसे पुराविदों ने ईजियाई सभ्यता नाम द ...

                                               

कालीन

कालीन अथवा गलीचा उस भारी बिछावन को कहते हैं जिसके ऊपरी पृष्ठ पर आधारणत: ऊन के छोटे-छोटे किंतु बहुत घने तंतु खड़े रहते हैं। इन तंतुओं को लगाने के लिए उनकी बुनाई की जाती है, या बाने में ऊनी सूत का फंदा डाल दिया जाता है, या आधारवाले कपड़े पर ऊनी सूत ...

                                               

चीन की सभ्यता

चीन की सभ्यता प्राचीनतम मानव सभ्यताओ मे से एक जो की ५ हजार से विद्यमान है एवं जटिल है। इस राष्ट्र की सान्स्क्रुतिक विविधता इस्की क्षेत्र के अनुसार विविध है। चीन मे कई समुदायो के लोग रह्ते है जिनमे से हान की आबादी सर्वाधिक है। चीन मे अधिक्तर लोग न ...

                                               

बाबिली सभ्यता

बाबिली सभ्यता बाबिल इतिहास का एक अध्याय। दजला फ़रात नदी की घाटियों में विकसित एक अत्यंत प्राचीन सभ्यता जिसका समय ईसा से ३-४ हज़ार पूर्व का माना जाता है। इसे बेबीलोनियन सभ्यता के नाम से भी जाना जाता है।

                                               

भवन

भवन, समाज के भिन्ना-भिन्न आवश्यकताओं की पूर्ति करते हैं। भोजन खाना एवं पीना, वस्त्र एवं आवास को मनुष्य की मूल आवश्यकताएँ माना जाता है। घर, मनुष्य के रहने, सोने, खाने, कार्य करने, खाली समय बिताने आदि के लिये बहुत सुविधा प्रदन करता है।

                                               

मध्यकालीन इस्लामी विज्ञान को भारतीय योगदान

मध्यकाल में इस्लाम के प्रसार के साथ इस्लामी ज्ञान-विज्ञान के विविध क्षेत्रों का जो प्रसार हुआ उसमें भारत के विद्वानों, गणितज्ञों, वैज्ञानिकों, चिकित्सकों, खगोलविदों, दार्शनिकों का बहुत बड़ा हाथ है। सातवीं से तेरहवीं शती के बीच फारस एवं अरब के मुस ...

                                               

मेसोपोटामिया

मेसोपोटामिया का यूनानी अर्थ है "दो नदियों के बीच"। यह इलाका दजला और फ़ुरात नदियों के बीच के क्षेत्र में पड़ता है। इसमें आधुनिक इराक़ बाबिल ज़िला, उत्तरपूर्वी सीरिया, दक्षिणपूर्वी तुर्की तथा ईरान का क़ुज़ेस्तान प्रांत के क्षेत्र शामिल हैं। यह कांस ...

                                               

मोहन जोदड़ो

मोहन जोदड़ो का सिन्धी भाषा में अर्थ है मुर्दों का टीला "। यह दुनिया का सबसे पुराना नियोजित और उत्कृष्ट शहर माना जाता है। यह सिंघु घाटी सभ्यता का सबसे परिपक्व शहर है। यह नगर अवशेष सिन्धु नदी के किनारे सक्खर ज़िले में स्थित है। मोहन जोदड़ो शब्द का ...

                                               

वस्त्र

वस्त्र या कपड़ा एक मानव-निर्मित चीज है जो प्राकृतिक या कृत्रिम तंतुओं के नेटवर्क से निर्मित होती है। इन तंतुओं को सूत या धागा कहते हैं। धागे का निर्माण कच्चे ऊन, कपास या किसी अन्य पदार्थ को करघे की सहायता से ऐंठकर किया जाता है।

                                               

वैदिक सभ्यता

सिंधु घाटी सभ्यता के पश्चात भारत में जिस नवीन सभ्यता का विकास हुआ उसे ही आर्य अथवा वैदिक सभ्यता के नाम से जाना जाता है। इस काल की जानकारी हमे मुख्यत: वेदों से प्राप्त होती है, जिसमे ऋग्वेद सर्वप्राचीन होने के कारण सर्वाधिक महत्वपूर्ण है। वैदिक का ...

                                               

शहरीकरण

शहरी क्षेत्रों के भौतिक विस्तार शहरीकरण कहलाता है। यह एक वैश्विक परिवर्तन है। संयुक्त राष्ट्र संघ की परिभाषा के अनुसार, ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों का शहरों में जाकर रहना और काम करना भी शहरीकरण है। शहरीकरण या नगरीकरण एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके अन्त ...

                                               

सर्वराष्ट्रीय मानव अधिकार घोषणापत्र

संयुक्त राष्ट्रसंघ की स्थापना के बाद उसकी आर्थिक और सामाजिक परिषद् की पहली बैठक में मानव अधिकार आयोग की स्थापना की गई। इस आयोग का काम 10 जून सन् 1948 को समाप्त हो गया और 10 दिसम्बर सन् 1948 को सर्वराष्ट्रीय मानव अधिकार घोषणापत्र संयुक्त राष्ट्र म ...

                                               

सुमेर सभ्यता

बाबिल काल से पहले का युग जिसकी भाषा अपनी थी। सुमेर के भारत के साथ व्यापारिक सम्बन्ध थे। सुमेरी लोग पूर्व को अपना उद्गम मानते थे। यह थी सुमेरी सभ्यता। सुमेरी सभ्यता सबसे पुरानी है, जिसका समय ईसा से 3500 वर्ष पूर्व माना जाता है। प्रसिद्ध इतिहासवेत् ...

                                               

अंतराग्नि

अन्तराग्नि प्रत्येक वर्ष अक्टूबर महीने में आईआईटी कानपुर द्वारा आयोजित होने वाला वार्षिक सांस्कृतिक त्यौहार है।यह एशिया का सबसे बड़ा महाविद्यालयी सांस्कृतिक उत्सव है। यह चार दिवसीय लंबा त्यौहार है, जो भारत के 200 से अधिक कॉलेजों की भागीदारी को आक ...

                                               

जूलूस

जूलूस एक जनसमूह या भीड़ को कहते हैं जिसका उद्येश्य प्रायः प्रदर्शन करना होता है। जूलूस नाम का एक उपन्यास भी है जिसके रचायिता फणीश्वर नाथ रेणु हैं - जूलूस उपन्यास।

                                               

दीक्षान्त समारोह

दीक्षान्त समारोह किसी शैक्षिक या धार्मिक संस्थान द्वारा आयोजित वार्षिक समारोह है जिसमें संबंधित संस्थान के सभी स्तरों के सदस्य औपचारिक रूप से जमा होकर वार्षिक उपलब्धियाँ साझा करते हैं एवं प्रमाण-पत्र वितरित करते हैं।

                                               

एर्डवार्क(खोज इंजन)

एर्डवार्एक सामाजिक खोज सेवा है जो उपयोगकर्ताओं को सीधे ही ऐसे दोस्तों और दोस्तों के दोस्तों के साथ जोड़ती है जो उनके सवालों के जवाब देने में सक्षम हों. उपयोगकर्ता एर्डवार्क वेबसाइट, ईमेल या त्वरित संदेशवाहक के जरिए प्रश्न प्रस्तुत करते हैं और एर् ...

                                               

पराप्राकृतिक विश्वास का वैज्ञानिक अध्ययन

पराप्राकृतिक विश्वास का वैज्ञानिक अध्ययन मानव जीवन और धर्म के मधुर सम्बंधों पर नयी खोजों का संक्षेप में परिचय है। वैज्ञानिकों का मानना है कि पराप्राकृतिक विश्वास का लोगों के जीवन में लम्बे समय से महत्त्व रहा है, शामन या ओझा के पुनःनिर्मित इतिहास ...

                                               

मुक्त निर्देशिका परियोजना

मुक्त निर्दॆशिका परियोजना, जिसे dmoz नेटस्केप द्वारा अपनाई गयीं वेबसाइटों की, एक बहुभाषीय मुक्त विषय वस्तु वेब निर्देशिका है। इसका निर्माण और अनुरक्षण स्वयंसेवक सम्पादकों के एक अवास्तविक समाज द्वारा किया जाता है। ODP साइटों को सूचीबद्ध करने हेतु, ...

                                               

स्नेह सिद्धान्त

स्नेह सिद्धान्त में जॉन बाल्बी ने मनुष्य की विशेष अन्यों से मज़बूत स्नेह बंधन बनाने की प्रवृत्ति को वैचारिक रूप दिया, तथा विरह से उत्पन्न व्यक्तित्व की समस्याओं व संवेगात्मक पीड़ा के साथ-साथ चिंता, गुस्से, उदासी तथा अलगाव की व्याख्या की। बच्चे के ...

                                               

उत्संस्करण

उत्संस्करण वह समाजिक, मनोवैज्ञानिक और सांस्कृतिक बदलाव होता है जिसमें एक समाज या संगठन से सम्बन्धित कोई व्यक्ति या समुदाय किसी अलग समाज या संगठन के तौर-तरीके व मान्यताएँ समझकर उसका भाग बनता है। ऐसा अप्रवास की स्थितियों में अक्सर देखा जाता है, जब ...

                                               

धर्मनिरपेक्षीकरण

साँचा:Sociology धर्मनिरपेक्षीकरण समाज का, धार्मिक मूल्यों व संस्थानों के साथ क़रीबी तादात्म्य से, गैरधार्मिक मूल्यों व धर्मनिरपेक्ष संस्थानों की ओर प्रतिवर्तन हैं।

                                               

समाज

समाज एक से अधिक लोगों के समुदायों से मिलकर बने एक वृहद समूह को कहते हैं जिसमें सभी व्यक्ति मानवीय क्रियाकलाप करते हैं।जो मानवीय क्रियाकलाप में आचरण, सामाजिक सुरक्षा और निर्वाह आदि की क्रियाएं सम्मिलित होती हैं। समाज लोगों का ऐसा समूह होता है जो अ ...

                                               

रोमन थिएटर पलमीरा

रोमन थिएटर; Roman Theatre रंगमंच वह स्थान है जहाँ नृत्य, नाटक, खेल आदि हों। रंगमंच शब्द रंग और मंच दो शब्दों के मिलने से बना है। रंग इसलिए प्रयुक्त हुआ है कि दृश्य को आकर्षक बनाने के लिए दीवारों, छतों और पर्दों पर विविध प्रकार की चित्रकारी की जात ...

                                               

सूचना युग

सूचना युग, जो क्म्प्यूटर युग और डीजिटल युग भी कहलाता है, मानव इतिहास का एक काल है जिसमें औद्योगिक क्रांति के बाद हुए औद्योगीकरण द्वारा स्थापित आर्थिक व्यवस्था धीरे-धीरे सूचना क्रांति द्वारा स्थापित कम्प्यूटर-आधारित अर्थव्यवस्था में परिवर्तित हो र ...

                                               

अखिल विश्व गायत्री परिवार

वेदमूर्ति तपोनिष्ठ पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य द्वारा स्थापित युग सुधार आंदोलन है। जैसा कि इसका ध्येय वाक्य है:- हम सुधरेंगे, युग सुधरेगा, हम बदलेंगे, युग बदलेगा। इस विश्वास के आधापर आचार्य श्रीराम शर्मा जी की मान्यता थी कि व्यक्ति के आत्म सुधार स ...

                                               

ऑल योर बेस आर बिलॉन्ग टू अस

ऑल योर बेस आर बिलॉन्ग टू अस एक टूटी-फूटी अंग्रेज़ी का सूत्रवाक्य है जो सन् 2000-2002 के समय में तेज़ी से इन्टरनेट पर फैल गया। यह एक "ज़ीरो विंग" नाम के जापानी विडीयो खेल में जापानी से अंग्रेज़ी अनुवाद में ग़लतियों की वजह से बन गया था। इसका सही अन ...

                                               

गोल्डीलॉक्स

गोल्डीलॉक्स और तीन भालू एक प्रसिद्ध अंग्रेज़ी परी कथा है। कथन के रूप में यह कहानी लम्बे अरसे से ब्रिटेन में चली आ रही थी, लेकिन लिखित रूप में इसे सबसे पहले ब्रिटिश लेखक रॉबर्ट साउदी ने गुमनाम रूप से सन् 1837 में अपने एक लेख-संग्रह में छपवाया। अंग ...

                                               

जय श्री राम

जय श्री राम का अर्थ है "भगवान राम की जय हो" या "भगवान राम की विजय", राम हिंदू देवता और भगवान विष्णु के सातवें अवतार हैं। धार्मिक हिंदू जय श्री राम का जाप करते हैं, यह डर, दुःख, तनाव, चिंताओं से छुटकारा पाने का एक तरीका है और साथ ही जप करने से जन् ...

                                               

दिल-ए-नादाँ

दिल-ए-नादाँ या दिल-ए-नादान उर्दू-हिंदी का एक वाक्यांश है जो उत्तर भारत और पाकिस्तान की संस्कृति में बहुत सन्दर्भों में प्रयोग होता है। यह मूल रूप में फ़ारसी का वाक्यांश है और उसमें इस دلِ ناداں ‎ लिखा जाता है। इसका प्रयोग अक्सर उन स्थितियों में ह ...

                                               

देखो सो पाओ

देखो सो पाओ या विज़ीविग अभिकलन में किसी भी ऐसी प्रणाली को कहा जाता है जिसमें जो संपादकों और निर्माताओं को निर्माण करते समय स्क्रीन पर दिखता है ठीक वैसा ही पढ़ने या देखने वालों को स्क्रीन पर या छपने पर बाद में दिखता है। "देखो सो पाओ" सॉफ़्टवेयर बन ...

                                               

पिरिक जीत

किसी मुक़ाबले में पिरिक जीत ऐसी जीत को कहा जाता है जिसको पाने के लिए विजेता को इतनी भारी हानि उठानी पड़े कि वास्तव में यह असली जीत ही न हो। यह आधुनिक भाषा में एक सूत्रवाक्य बन चुका है जिसका अर्थ है "ऐसी जीत जो ली तो जा सकती है, लेकिन अपने ही भले ...

                                               

प्रत्यास्थता मापांक

यंग मापांक या प्रत्यास्थता मापांएक संख्या है जो बताती है कि किसी वस्तु या पदार्थ पर बल लगाकर उसका आकार बदलना कितना कठि16न है। इसका मान वस्तु के प्रतिबल-विकृति वक्र के प्रवणता के बराबर होता है। परिभाषा के रूप में, λ = def stress strain {\displayst ...