Blog पृष्ठ 72



                                               

मूषकराज

                                               

पर्चा

पर्चा एक अजिल्दबंध पुस्तिका है । यह दोनो ओर से छ्पा एक कागज का पत्रक हो सकता है जिसे आधा, एक तिहाई या एक चौथाई रूप से मोड़ा गया हो, या फिर यह कुछ पन्नों से मिलकर बना हो सकता है जिन्हें बीच से मोड़ कर एक किताब की शक्ल दी गयी हो।

                                               

मैं नास्तिक क्यों हूँ?

मैं नास्तिक क्यों हूँ भगत सिंह द्वारा लिखा एक लेख है जो उन्होंने लाहौर सेंट्रल जेल में क़ैद के दौरान लिखा था और इसका प्रथम प्रकाशन लाहौर से ही छपने वाले अख़बार दि पीपल में 27 सितम्बर 1931 को हुआ। यह लेख भगत सिंह के द्वारा लिखित साहित्य के सर्वाधि ...

                                               

दक्षिण-पूर्वी बौद्ध धर्म

                                               

धर्म क्षेत्रम (1992 फ़िल्म)

                                               

धर्म मित्र

धर्म मित्र आधुनिक योगाचार्य हैं। वे स्वामी कैलाशानन्द के शिष्य हैं। वे ९०८ आसनों वाले मास्तर योग चार्ट के लिए प्रसिद्ध हैं। वह 1967 से पढ़ा रहे हैं, और न्यूयॉर्क शहर में स्थित धर्म योग केंद्र के निदेशक हैं, जिसे उन्होंने 1975 में स्थापित किया था।

                                               

सुशील बुधी धर्म

                                               

आत्मा राम सनातन धर्म कॉलेज

आत्मा राम सनातन धर्म कॉलेज दिल्ली विश्वविद्यालय से सम्बद्ध एक सहशिक्षा महाविद्यालय है। पूर्व में इसका नाम सनातन धर्म कालेज था। इसकी स्थापना ३ अगस्त १९५९ को दिल्ली की सनातन धर्म सभा ने किया था। सुप्रसिद्ध परोपकारी श्री आत्मा राम चड्ढा १९६७ में इसक ...

                                               

विश्व के धर्म

                                               

ब्रह्मास्त्र

ब्रह्मास्त्र ब्रह्मा द्वारा निर्मित एक अत्यन्त शक्तिशाली और संहारक अस्त्र है जिसका उल्लेख संस्कृत ग्रन्थों में कई स्थानों पर मिलता है। इसी के समान दो और अस्त्र थे- ब्रह्मशीर्षास्त्और ब्रह्माण्डास्त्र, किन्तु ये अस्त्और भी शक्तिशाली थे। यह दिव्यास ...

                                               

वार्षिकी (वित्त)

वित्त सिद्धांत में वार्षिक भृति या वार्षिकी का मतलब ऐसे भुगतान से है जो एकसमान मात्रा में निश्चित अन्तराल पर एक निश्चित अवधि तक किया जाता है। उदाहरण के लिये बचत खाता में नियमित अन्तराल पर कोई निश्चित राशि जमा करना; घर की खरीदी पर मासिक किस्त की अ ...

                                               

फ्रांस में इस्लाम धर्म

फ्रांस में इस्लाम धर्म कैथोलिक ईसाईयत के बाद दूसरा सबसे अधिक प्रचारित धर्म है। पश्चिमी दुनिया में मुख्य रूप से उत्तरी अफ्रीकी और मध्य पूर्वी देशों से प्रवास के कारण फ्रांस में मुसलमानों की सबसे बड़ी संख्या है। 2017 के प्यू रिसर्च की रिपोर्ट में म ...

                                               

मूसा संहिता

हज़रत मूसा को यहूदी, ईसाई, तथा मुस्लिम समान रूप से ईश्वर का भेजा हुआ संदेशवाहक या पैगंबर मानते है। इन्हें यहूदी धर्म का संस्थापक माना जाता है।मुस्लिम धर्म में क़ुरआन में हज़रत मूसा को "कलामुल्लह" भी कहा गया है । क्युकी वो एक मात्र ऐसे पैगंबर थे ज ...

                                               

निमित्तोपादानेश्वरवाद

निमित्तोपादानेश्वरवाद के अन्तर्गत ईश्वर को इस विश्व का निमित्त और उपादान कारण माना जाता है। इसके अलावा ईश्वर को विश्वातीत एवं विश्व में व्याप्त दोनों ही माना जाता है। इस दृष्टि से निमित्तोपादानेश्वरवाद, ईश्वरवाद के समान है और सर्वेश्वरवाद से अलग ...

                                               

सवाब

सवाब नेक और जायज़ काम करने पर ईश्वर के द्वारा जो हमें उपहार मिलता है वह सवाब कहलाता है । जैसे गरीबो की सहायता करना, खुदा की इबादत करना आदि सब सवाब का काम है।

                                               

नकारात्मक ईश्वरमीमांसा

नकारात्मक ईश्वरमीमांसा वह ईश्वरमीमांसा है जो ईश्वर के बारे में सीधे नहीं कहती बल्कि यह कहती है कि ईश्वर क्या-क्या नहीं है।

                                               

वरदान

वरदान - वरदान संस्कृत भाषा का शब्द है,जिसका अर्थ है ईश्वर अथवा देवी देवताओं द्वारा किया गया अनुग्रह। हिन्दू वेद, पुराणों एवं अन्य स्मृति ग्रंथों में देवताओं द्वारा साधारण मनुष्यों,दैत्यों एवं राक्षसों की तपस्या से प्रसन्न होकर उन्हें वरदान अभिलाष ...

                                               

नैवेद्य

                                               

सगुण उपासना पद्धति

                                               

भक्ति रस

भक्ति रस: इसका स्थायी भाव bhakti है इस रस में ईश्वर कि अनुरक्ति और अनुराग का वर्णन होता है अर्थात इस रस में ईश्वर के प्रति प्रेम का वर्णन किया जाता है।

                                               

सिर्री सक़्ती

शेख सिर्री सक़्ती बिन अल मुफ़्लिस बगदाद के सुन्नी संप्रदाय के एक सूफ़ी थे। जुनैद बग़्दाादी के चाचा होते थे। नूरी, खरज़ि तथा खैर नस्साज से दीक्षित थे। अपने समय के महान् सूफ़ी, सृष्टि के पथप्रदर्शक और बड़े आलिम समझे जाते थे। आध्यात्मिक सिद्धांतों म ...

                                               

अक्षरधाम

अक्षरधाम के कई अर्थ हो सकते हैं:- अक्षरधाम मंदिर, दिल्ली: स्वामिनारायण संप्रदाय का दिल्ली स्थित मंदिर। अक्षरधाम मंदिर, गांधीनगर: स्वामिनारायण संप्रदाय का गांधीनगर स्थित मंदिर। अक्षर धाम: हिन्दू पुराण और उपनिषद अनुसार कभी भी क्षर या नष्ट ना होने व ...

                                               

प्रजा

प और ऋजा दो संस्कृत वर्णों को मिलाकर यह शब्द प्रजा शब्द का निर्माण बनता है।"जो जनसमूह राजा के द्वारा पालित किया जाय, वह प्रजा नाम से जाना जाता है, वह राजा चाहे ईश्वर रूप में हो, या फ़िर भौतिक शरीर धारी मनुष्य।

                                               

स्टुअर्ट वंश

एलिजाबेथ की 1603 में मृत्यु के बाद इंग्लैंड पर जिस वंश की स्थापना हुई उससे स्टुअर्ट वंश कहते हैं स्टुअर्ट वंश का पहला शासक जेम्स था जिसका पुत्र चार्ल्स प्रथम था जेम्स प्रथम ने कहा था कि राजा पति है और सारा द्वीप उसकी विधि सम्मत पत्नी है जेम्स प्र ...

                                               

उपासनास्थल

                                               

सनत्कुमार संहिता

श्री हंस भगवान के चार शिष्य हुए। वे चार शिष्य ब्रह्मा के चार पुत्र सनक, सनंदन, सनातन और सनत थे। इन चारों ने भगवान हंस की शिक्षाओं को लिपिबद्ध करते हुए ‘अष्टयम लीला’ और ‘गोपी भाव उपासना’, पुस्तकों की रचना की। इन पुस्तकों को सनतकुमार संहिता भी कहा ...

                                               

गोरखनाथ और उनका युग

गोरखनाथ नाथ सम्प्रदाय ले ८४ सिद्धों मे से दूसरे सिद्ध थे | नाथ परम्परामा इनको साक्षात शिवका अवतार समझकर उपासना किया जाता हो | राहुल विद्वानों ने इनका समय सन् ८०० और ९०० सौं के बीच माना है पर पाश्चात्य विद्वान ब्रिक्स ने सन् ११०० अनुमान किया है |

                                               

रामठाकुर बाबा

                                               

एशियाटिक सोसायटी (मुम्बई)

                                               

द्विआधारी खोज प्रणाली

द्विआधारी खोज प्रणाली हल सारणी में किसी आइटम की स्थिति ढूंढती है। द्विआधारी खोज तत्व सारणी के लिए एक इनपुट मूल्य की तुलना करके काम करता है। तुलना से यह निर्धारित होता है कि इनपुट तत्व से कम या अधिक है। जब इनपुट, तत्व के बराबर हो जाता है तब खोज बं ...

                                               

खोजी यात्रा

किसी जगह संसाधनों एवं अन्य उपयोगी सूचनाओं के खोज के लिये की गयी यात्रा खोजी यात्रा कहलाती है। खोजी यात्रा मानव के अलावा अन्य जन्तुओं द्वारा भी की जाती है।

                                               

मेसॉन

मेसॉन:- वे सभी कण जो एक क्वार्क व एक एन्टी-क्वार्क से मिलकर बनते हैं मेसॉन कहलाते हैं। ब्रह्माण्ड में १४० से अधिक मेसॉन का अस्तित्व है। इनका सांख्यिकीय व्यवहार बोसॉन होता है। पॉयन pion, केऑन kaon, रो rho, बी-शून्य B-zero, इटा-सी eta-c इनके उदाहरण ...

                                               

कुमार (बहुविकल्पी)

कुमार इस प्रकार है- इस पृष्ठ का ध्यान रखें - कुमारसंभवम् कुमार संगाकारा कुमार सानु कुमार विश्वास कुमार गन्धर्व सम्मान कुमारपाल कुमार पद्मनाभ सिंह कुमार गौरव कुमारगुप्त प्रथम

                                               

आर्य विवाह

भविष्य पुराण में जगतपिता ब्रह्मा के अनुसार विवाह आठ प्रकार के होते हैं वर से एक या दो जोड़े गाय-बैल धर्मार्थ लेकर विधिपूर्वक कन्या देने को "आर्य विवाह" कहते हैं। आर्य विवाह से उत्पन्न पुत्र तीन अगले तथा तीन पिछले कुलों का उद्धार करता है। जय पाण्डेय

                                               

अलका (नगरी)

अलका, मेरू पर्वत पर यक्ष गंधर्वों की नगरी और यक्षराज कुबेर की राजधानी। कालिदास ने अलका को अपने मेघदूत में यक्षों की नगरी कहा है और उसे कैलास पर्वत की ढाल पर बसी बताया है। उसी नगरी का अभिशप्त यक्ष मेघदूत का नायक है जिसकी प्रिथा का उस अलका में प्रो ...

                                               

माता सुलखनी

                                               

राम घाट

अलीगढ़-बरेली रेलमार्ग पर नरौरा से से ही यहाँ पहुँचने का मार्ग भी है। कर्णवास से १६ किलोमीटर दूर इस तीर्थ में अनेक मंदिर हैं जिनमें प्रसिद्ध हैं- हनुमान मंदिर, नृसिंह मंदिर, मंदिर बिहारीजी, गंगा मंदिर, सीताराम मंदिर, सत्यनारायण मंदिर, रघुनाथजी मंद ...

                                               

पृथूदक

                                               

पंचतीर्थ

भारत सरकार द्वारा बाबा साहेब को श्रद्धांजलि देते हुए उनसे जुड़ी पाँच स्थानों को पंच तीर्थ के रुप मे विकसित किया जा रहा है । इसमें मध्यप्रदेश का महू जहाँ बाबा साहेब के जन्म हुआ,उनके जन्म स्थली के रूप में विकसित की जा रही है । दूसरी दीक्षा भूमि नाग ...

                                               

मुकाम

यहां पर गुरू जाम्भोजी की पवित्र समाधि हैं। इसी कारण समाज में सर्वाधिक महत्त्व मुकाम का ही हैं। इसके पास ही पुराना तालाब गांव हैं। कहा जाता हैं कि गुरु जाम्भोजी ने अपने स्वर्गवास से पूर्व समाधि के लिये खेजड़ी एवं जाल के वृक्ष को निशानी के रूप में ...

                                               

नीम करोरी

                                               

कारवां सराय

                                               

जंबुकेश्वर

जंबुकेश्वर, दक्षिण भारत में कावेरी नदी के निकट श्रीरंगमतीर्थ के अंतर्गत एक प्रसिद्ध शैव मंदिर, तीर्थ और जलतत्वप्रधान शिवलिंग। श्रीरंग मंदिर से लगभग तीन किलोमीटर दूर स्थित इस मंदिर का लिंग जल में प्रतिष्ठित है। फर्ग्युसन के अनुसार इसका निर्माण १६व ...

                                               

दयानंद पांडे

दयानंद पांडे उर्फ़ सुधाकर धर द्विवेदी उर्फ़ स्वामी अमृतानंद देव तीर्थ मूल रूप से वाराणसी के रहने वाले हैं। ये 2003 से श्री शारदा सर्वज्ञ पीठम, कश्मीर के पीठाधीश्वर के रूप में प्रतिष्ठित हैं।इन्हें महाराष्ट्र के मालेगाँव में आतंकवादी गतिविधियों के ...

                                               

मानसपुत्र

हिन्दू धर्म की पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, ब्रह्मा ने अपने मन से १० पुत्रों को जन्म दिया जिन्हें मानसपुत्र कहा जाता है। भागवत पुरान के अनुसार ये मानसपुत्र ये हैं- अत्रि, अंगरिस, पुलस्त्य, मरीचि, पुलह, क्रतु, भृगु, वसिष्ठ, दक्ष, और नारद हैं। इन ऋ ...

                                               

क्षार (रसायन विज्ञान)

जो परमाणु अणु अपने आयन इलेक्ट्रॉन युग्म को दान करते हैं उसे क्षार कहते हैं यह सिद्धांत ब्रॉन्स्टेड लोरी ने दिया था 0.7 के बाद पीएच के मान क्षार का मान होता है इसका अर्थ यह है कि जैसे कोई परमाणु है वह अपने इलेक्ट्रॉन या इलेक्ट्रॉन युग्म को किसी अन ...

                                               

यज्ञश्री शातकर्णी

१.इस वंश का अंतिम महत्व पूर्ण शासक यज्ञश्री था। २.इसने नाव की आकृति वाले सिक्के चलवाए थे।जो इसके समुद्र प्रेम एवं व्यापार प्रेम को दर्शाते हैं। ३.ब्राम्हणों को सर्वप्रथम भूमि दान करना इन्हीं वंश के राजाओं ने शुरू किया।

                                               

तालकटोरा

तालकटोरा जो कि जयपुर शहर में है। तालकटोरा के पास ही एक जगह है जिसे ब्रह्मपुरी के नाम से जाना जाता है । माना जाता है कि जयपुर शहर की नींव इसी ब्रह्मपुरी नामक स्थान से हुई । राजा जयसिंह के द्वारा बसाये इस शहर के कुछ जगह ब्राह्मण जाति के कुछ संतो को ...

                                               

निज़ाम्स इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसस

निज़ाम्स इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज, जिसे पहले "निज़ाम्स ऑर्थोपेडिक अस्पताल" के नाम से जाना जाता था, हैदराबाद,तेलंगाना,भारत में स्थित एक सार्वजनिक अस्पताल है। यह हैदराबाद के निज़ाम - मीर उस्मान अली ख़ान द्वारा "एच.इ.एच. निज़ाम्स चैरिटेबल ट्रस् ...

                                               

डिलिशनपीडिया

डिलिशनपीडिया एक ऑनलाइन संग्रह विकी है जिसमें ऐसे लेखों को सुरक्षित करने का प्रयास किया जाता है जिन्हें अंग्रेज़ी, डच, फ़्रेंच या जर्मन विकिपीडिया से हटाया जाता है। प्रत्येक आलेख के इसके संस्करण में एक शीर्षलेख शामिल है जिसमें हटाने के बारे में अध ...