पिछला

सोलर इंपल्स - सौर शक्ति. सोलर इंपल्स, एक यूरोपीय लंबी दूरी की सौर ऊर्जा चालित विमान परियोजना है जिसे इकोले पॉलीटेक्निक फेडरल डी लॉज़ेन द्वारा संचालित किया जा ..


सोलर इंपल्स
                                     

सोलर इंपल्स

सोलर इंपल्स, एक यूरोपीय लंबी दूरी की सौर ऊर्जा चालित विमान परियोजना है जिसे इकोले पॉलीटेक्निक फेडरल डी लॉज़ेन द्वारा संचालित किया जा रहा है। परियोजना की शुरुआत बर्ट्रेंड पिकार्ड द्वारा की गयी है, जिन्होने संयुक्त रूप से पहली बार एक गुब्बारे से बिना रूके दुनिया का चक्कर लगाया था। सौर ऊर्जा चालित यह पहला विमान जिसका स्विस विमान पंजीकरण कूट HB -SIA है, एकल सीट वाला विमान है और यह अपनी ही शक्ति से उड़ान भरने और लगातार 36 घंटे तक हवा मे उड़ते रहने में सक्षम है। इस विमान ने अपनी पहली सफल उड़ान पश्चिमी स्विटज़रलैंड के पेयर्न हवाई अड्डे से 7 जुलाई 2010 को भरी थी। इस उड़ान के दौरान यह विमान लगातार 26 घंटे हवा में उड़ता रहा जिसमें रात के 9 घंटे भी शामिल हैं। विमान को 8 जुलाई 2010 को इसी हवाई अड्डे पर वापस उतारा गया। अप्रैल 2010 में इस विमान ने अपनी पहली दिन की उड़ान सफलतापूर्वक पूरी की थी। विमान को स्विस वायुसेना के पूर्व लड़ाकू पायलट 57 वर्षीय एंड्रे बॉशबर्ड ने कड़कड़ाती ठंड के बीच उड़ाया। बकौल एंड्रे पिछले चालीस सालों के पायलट जीवन में यह उनकी सर्वाधिक रोमांचकारी उड़ान थी जिसे उन्होंने बगैर किसी ईंधन और पर्यावरणीय प्रदूषण के पूरा किया।

इस विमान के पंखों पर बेशकीमती और 63.4 मीटर लंबे सौर पटल सोलर पैनल लगे हैं। पायलट ने इस विमान को दिन की उड़ान के समय इसे 8.500 मीटर की ऊंचाई पर रखा जिससे सूरज की रोशनी से मिलने वाली ऊर्जा को विमान ने संरक्षित किया और इसी ऊर्जा से रात में 1.500 मीटर की ऊंचाई पर विमान को उड़ाया गया।

यूजर्स ने सर्च भी किया:

इपलस, लरइपलस, सोलर इंपल्स, सौर शक्ति. सोलर इंपल्स,

...

अहमदाबाद पहुंचेगा दुनिया का पहला सोलर प्लेन Solar.

Science News in Hindi: विश्व के सबसे बड़े सौर ऊर्जा चालित विमान सोलर इंपल्स 2 ने अपने वैश्विक यात्रा के अंतिम. ऐतिहासिक सौर विमान ने दुनिया का पहला चक्कर पूरा. ववश्व को सोलर एनर्जी का सबसे बड़ा तोहफा सोलर इंपल्स स्वीडडश और दुननया के करीब 800 वैज्ञाननकों ने ममलकर ददया. था​। वहीं, बीएचयू आईआईटी के केवल 4 स्टूडेंट्स एक ऐसे सोलर प्लेन का मॉडल तैयाकर रहे हैं र्जो एनर्जी तो बचाएगा ही,.


जल्‍द ही सोलर एनर्जी से उड़ेंगे प्‍लेन, सफल रहा पहला.

आज वाराणसी पहुंचेगा दुनिया का पहला सोलर प्‍लेन. national5 years ago. विश्व भ्रमण पर निकले सौर ऊर्जा अब 18 को आयेगा सोलर इंपल्स 2. local5 years ago अहमदाबाद से 12 घंटे में बनारस पहुंचेगा सोलर इंपल्स. local5 years ago आज अहमदाबाद पहुंचेगा दुनिया. सोलर विमान: ऐतिहासिक यात्रा पर बान ने पायलट की. पिक्कार्ड एक डॉक्टर, मनोचिकित्सक, खोजकर्ता और वायुयान चालक हैं जिन्होंने लगातार पूरी दुनिया में बलून से उड़ान भरी और वह सोलर इंपल्स टीम की शुरुआत करने वाले और अध्यक्ष हैं। वहीं बॉर्शबर्ग एक इंजीनियर हैं और वह प्रबंध. Cfl Shodhganga. विश्व का पहला सौर ऊर्जा से चलने वाला विमान सोलर इंपल्स 2 अपनी ऐतिहासिक यात्रा पूरी करने के बाद यूएई में लैंड हुआ। प्लेन ने अपनी ये यात्रा ईंधन की एक बूंद का इस्तेमाल किए बिना पूरी की। अगली स्लाइड देखें. कैसे बना सोलर इंपल्स टू मंथन DW 24.05.2016. दुनिया का पहला सोलर प्लेन सोलर इंपल्स 2 मंगलवार रात अहमदाबाद पहुंच गया। देर रात करीब 11.25 पर इसे प्लेन ने अहमदाबाद के सरदार बल्लभभाई पटेल एयरपोर्ट पर लैंड किया। तस्वीरों में देखें क्या हैं इस प्लेन की खूबियां।.


दुनिया का पहला सौर विमान सोलर इंपल्स की जानकारी.

पिकार्ड ने कहा कि सोलर इंपल्स ने ऊर्जा के इतिहास में बड़ी उपलब्धि हासिल की है अब हमारे पास पर्याप्त समाधान और तकनीक है. सोलर इंपल्स विमान चीन पहुंचा IBN7.com. लंदन. सौर ऊर्जा से चलने वाले एक विमान ने सोमवार को अपनी पहली उड़ान भरी। विमान ने स्विट्जरलैंड के पेयर्न हवाई अड्डे से उड़ान भरी और दो घंटे की यात्रा के बाद वापस लौटा। इस विमान को सोलर इंपल्स 2 वीइकल कहा जा रहा है। सोलर इंपल्स 2. सोलर इंपल्स 2 ने आखिरी पड़ाव के लिए उड़ान भरी. सेविले स्पेन । दुनियाभर का चक्कर लगाने वाले सोलर इंपल्स ने एक बार फिर से न्यूयार्क से स्पेन के बीच की सत्तर घंटों में तय कर कामयाबी की एक नई उड़ान भरी हैै। इस उड़ान के दौरान इस विमान ने सिर्फ सोलर पावर का ही इस्तेमाल किया।. PICS: स्वच्छ ऊर्जा के मामले में भारत का समर्थन. सोलर इंपल्स कंपनी के इस वन सीटर विमान के पंखों पर सोलर पैनल लगे हैं और इसका वजन एक कार जितना है. इस विमान के पंखे बोइंग 747 के बराबर हैं. जहाज का वजन सिर्फ 2300 किलोग्राम है. इसमें लगी बैटरी सूरज की रोशनी से चार्ज होंगी जिनकी. सोलर इंपल्स 2 ने भरी आखिरी पड़ाव के लिए उड़ान, 48. देश सोलर इंपल्स 2 ने आखिरी पड़ाव के लिए उड़ान भरी. भारत. जम्मू कश्मीर: लश्कर और हिज्ब के दो माड्यूल ध्वस्त, ग्रेनेड फैंकने वाले तीन युवक 10 min ago भारत. आलोक मेहता का ब्लॉग: मंदिरों को राजकीय संरक्षण के मुद्दे पर 28 min ago मनोरंजन.


सोलर इंपल्स विमान चीन पहुंचा Solar impulse AajTak.

बीजिंग वैश्विक यात्रा पर निकला पूरी तरह सौर ऊर्जा चालित सोलर इंपल्स एसआई2 विमान मंगलवार को चीन के चोंगकिंग शहर पहुंच गया है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ. सोलर इंपल्स ने विश्व यात्रा के अंतिम चरण के लिए. सौर ऊर्जा से चालित विमान सोलर इंपल्स 2 न्यूयॉर्क से 70 घंटे की उड़ान पूरी करने के बाद गुरुवार 23 जून को स्पेन में उतरा। इस तरह के विमान द्वारा अटलांटिक महासागर को पार करने का यह पहला मामला है। एएफपी के एक संवाददाता ने कहा कि.


70 घंटे और 6272 किमी की दूरी तय कर Raftaar News.

सौर उर्जा से चालित सोलर इम्पल्स 2 ने 26 जुलाई 2016 को विश्व का चक्कर लगाकर आबूधाबी में सफलतापूर्वक लैंडिंग की. उड़ान के दौरान सोलर इंपल्स 2 का पड़ाव ओमान, भारत, म्यांमार, चीन, जापान, अमेरिका, स्पेन, इटली, मिस्और संयुक्त. सोलर इम्‍पल्‍स2 विमान निकला आधी Drivespark Hindi. Solar impulse 2 leaves ahmedabad for varanasi 320753 वैश्विक यात्रा पर निकला और पूरी तरह सौर ऊर्जा चालित सोलर इंपल्स एसआई2 विमान बुधवार सुबह अहमदाबाद के सरदार वल्लभभाई पटेल अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे से यात्रा के दूसरे पड़ाव वाराणसी​.


सोलर इम्पल्स 2 ने विश्व का चक्कर पूरा Jagran Josh.

सोलर इंपल्स 2 विमान ने बिना ईंधन के दुनिया का पूरा चक्कर लगाकर इतिहास रच दिया है।. Newspaper क्लिप्स Library IIT Delhi. विश्व का एकमात्र सौर ऊर्जा से संचालित होने वाला विमान ​सोलर इंपल्स 2 अपनी पहली वैश्विक यात्रा के तहत 10 मार्च, 2015 को अहमदाबाद में उतरा।विमान परियोजना की सूच…. सोलर इंपल्स 2 ने पूरा किया धरती का चक्कर Amar Ujala. सोलर इंपल्स 2 ने पूरी दुनिया का चक्कर लगा कर रचा इतिहास आप को यह जान कर आश्चर्य और खुशी दोनों ही होगी कि सौर ऊर्जा से चलने वाले विमान इंपल्स 2 ने इतिहास रचते हुए पूरी दुनिया का पहला चक्कर पूरा कर लिया है I दुनिया का चक्कर पूरा करने में.

ऐतिहासिक सौर विमान इंपल्स 2 Samachar Jagat.

आबू धाबी: सौर ऊर्जा से संचालित सोलर इंपल्स 2 ने 40000 किलोमीटर की दूरी तय करने के बाद दुनिया का पहला चक्कर पूरा कर मंगलवार को आबू धाबी में लैंडिंग की। बिना ईंधन के पूरी दुनिया का चक्कर लगाने वाले. सोलर इंपल्स 2 ने रचा इतिहास, पूरा किया दुनिया का. विश्व के सबसे बड़े सौर ऊर्जा चालित विमान सोलर इंपल्स 2 ने अपने वैश्विक यात्रा के अंतिम चरण के लिए मिस्र की राजधानी काहिरा से उड़ान भरी है।.


सोलर इंपल्स 2 रात साढ़े आठ बजे पहुंचेगा Patrika.

इमेज कॉपीरइट AP. सौर ऊर्जा से चलने वाले एक विमान ने सोमवार को अपनी पहली उड़ान भरी. विमान ने स्विट्ज़रलैंड के पेयर्न हवाई अड्डे से उड़ान भरी और दो घंटे की यात्रा के बाद वापस लौटा. इस विमान को सोलर इंपल्स 2 वीइकल कहा जा रहा है. सोलर इंपल्स 2 तैयारियां पूरी, रात साढ़े आठ बजे. सूरज की रोशनी से चार्ज होकर उड़ान भरने वाला ये विमान दुनिया का पहला सोलर प्लेन है। सोलर इम्प्ल्स टू बिना तेल के उड़ने वाला पहला हवाई जहाज है। सोलर इंपल्स कंपनी के इस वन सीटर विमान के पंखों पर सोलर पैनल लगे हैं और इसका वजन एक. सोलर इंपल्स Dainik Bhaskar. बिना ईंधन एवं सौर ऊर्जा से चलने वाले दुनिया के एकमात्र विमान सोलर इंपल्स 2 ने वाराणसी में रातभर रूकने के बाद आज म्यामां के लिए उड़ान भरी है।.


सौर ऊर्जा से चलने वाले विमान ने भरी पहली उड़ान.

सोलर इंपल्स, एक यूरोपीय लंबी दूरी की सौर ऊर्जा चालित विमान परियोजना है जिसे इकोले पॉलीटेक्निक फेडरल डी लॉज़ेन द्वारा संचालित किया जा रहा है। परियोजना की शुरुआत बर्ट्रेंड पिकार्ड द्वारा की गयी है, जिन्होने संयुक्त रूप से पहली बार एक गुब्बारे से. सोलर इंपल्स 2 ने रचा इतिहास, बिना ईंधन के पूरा. वर्ल्ड टूपर निकला सौर ऊर्जा से चलने वाला विमान सोलर इंपल्स 2 अपनी यात्रा के दौरान मंगलवार रात अहमदाबाद पहुंचा। दावा किया जा रहा है कि सौर ऊर्जा से चलने वाला यह पहला विमान है। रात 11 बजकर 25 मिनट पर सरदार वल्लभभई पटेल. सौर ऊर्जा से संचालित विमान का होगा दीदार. बिना ईंधन और सौर ऊर्जा से चलने वाले विमान सोलर इंपल्स 2 ने वाराणसी में रातभर रकने के बाद म्यामां के लिए उड़ान भरी. इसके साथ ही वि की यात्रा पर निकले इस विमान की भारत की एक सप्ताह लंबी यात्रा समाप्त हो गई. विमान ने सुबह करीब पांच बजकर 22. PICS वाराणसी में रातभर रुकने के बाद सोलर इम्पल्स. सौर ऊर्जा से संचालित सौर विमान इंपल्स 2 चालीस हजार किलोमीटर की दूरी तय करने के बाद दुनिया का पहला चक्कर पूरा कर मंगलवार को आबू धाबी में उतरा। इस तरह इस विमान ने इतिहास रच दिया है। सौर विमान ने अपनी यह यात्रा एक साल से अधिक.


सोलर इंपल्स 2 NE Samachar.

बात सभी के सामने आई है कि अमेरिका में एक ऐसे विमान का निर्माण किया गया है जो सौर. ऊर्जा से चलेगा। यह विमान सौर ऊर्जा से दिन रात उड़ान भरने में सफल रहा है। इस विमान का. नाम सोलर इंपल्स है जो वेस्ट कोस्ट से ईस्ट कोस्ट तक का सफर तय किया।. सौर विमान ने पूरा किया दुनिया का पहला चक्कर. बिना एक बूंद ईंधन खर्च किए सोलर इंपल्स 2 समूची दुनिया में 16 पड़ावों पर रका, जिसका मकसद यह दिखाना था कि इस तरह की प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल कर दुनिया की ईंधन खपत को आधा किया जा सकता है और प्राकृतिक संसाधानों को बचाने के. भारत पहुंचा दुनिया का पहला सोलर प्लेन nation News. सौर ऊर्जा से चलने वाला विमान सोलर इंपल्स 2 एसआई2 मंगलवार को पाकिस्तान के आसमान में प्रवेश किया। यह विमान दुनियाभर में घूमने वाला है। रेडियो पाकिस्तान के मुताबिक, यह विमान छह घंटे के लिए पाकिस्तान में घूमेगा। इसके बाद.


दुनिया का चक्कर लगाकर आबू धाबी पहुंचा विमान.

सोलर पावर से चलने वाले विमान सोलर इंपल्स 2 ने विश्व का पहला चक्कर पूरा किया। Solar plane makes history after completing round the ​world trip Middle East News,मध्य पूर्व न्यूज़,मध्य पूर्व समाचार. आज भारत की जमीं पर उतरेगा सोलर पॉवर से चलने वाला. वर्ल्ड टूपर निकला सौर ऊर्जा से चलने वाला विमान सोलर इंपल्स 2 अपनी यात्रा के दौरान बुधवार को भारत की जमीन पर उतरा है. अहमदाबाद पहुंचे इस विमान को लेकर दावा किया जा रहा है कि सौर ऊर्जा से चलने वाला यह पहला विमान है. विमान से विश्व. सोलर इंपल्स के पायलटों ने तीन रातों में Naidunia. दुनिया की यात्रा करने वाले, सौर उर्जा चालित पहले विमान ने आज अपनी अंतिम चरण की यात्रा के लिए काहिरा से अबू धाबी के लिए उड़ान भरी। सोलर इंपल्स. सौर ऊर्जा से चलने वाला विमान सोलर इंपल्स 2. सोलर इंपल्स 2 तैयारियां पूरी, रात साढ़े आठ बजे पहुंचेगा शिव की नगरी वाराणसी. वाराणसी 18 मार्च वार्ता सौर ऊर्जा से चलने वाला दुनिया का पहला विमान सोलर इंपल्स 2 एसआई 2 आज उत्तर प्रदेश की धार्मिक नगरी वाराणसी पहुंच सकता. सोलर प्लेन 13 तक अहमदाबाद में Khas Khabar. सौर ऊर्जा से चलने वाला विमान सोलर इंपल्स 2 ने दुनियाभर का चक्कर लगाने के उद्देश्य से यात्रा शुरू की थी। इस विमान ने पिछले साल मार्च में अबुधाबी से अपनी यात्रा शुरू की थी। कई देशों, राज्‍यों, शहरों आदि से होकर गुजर चुके इस. अंतर्राष्ट्रीय सहयोग. दुनिया का चक्कर लगाकर आबू धाबी पहुंचा विमान सोलर इंपल्स 2, रचा इतिहास. Reported by nationalvoice, Edited by karuna thakur, Last Updated: Jul 26 2016 2:22PM. bimaan 1 2016726142257.jpg. आबू धाबी: सौर ऊर्जा से चलने वाले विमान इंपल्स 2 ने इतिहास रच दिया है।.


खराब मौसम की वजह से जापान में उतरेगा सोलर इंपल्स 2.

ऊर्जा से संचालित विमान सोलर इम्पल्स 2 यूएई से 25 दिनों के विश्व भ्रमण पर को पाकर मौसम की दशा के अनुसार. ने इस वर्ष 9 पहला समानव सौर विमान माउरो सोलर राइज़र. मनोचिकित्सक रहे और सोलर इंपल्स में जीवाश्म ईंधन से उड़ने वाले विमानों की. सूरज की रोशनी से दुनिया की सैर बिजनेस स्टैंडर्ड. सौर ऊर्जा से चलने वाला दुनिया का पहला विमान सोलर इंपल्स 2​ एसआई 2 बुधवार को उत्तर प्रदेश की धार्मिक नगरी वाराणसी पहुंच सोलर विमान अपने निर्धारित समय से दो घंटे की देरी से सुबह साढ़े सात बजे अहमदाबाद से वाराणसी के लिए रवाना हुआ है​।. सोलर इंपल्स 2 ने पूरी की पहली अटलांटिक उड़ान. नई दिल्ली: ख़राब मौसम की वजह से सोलर इंपल्स 2 को जापान के नागोया में उतारा जाएगा. भारत के समय के अनुसार, यह शाम साढ़े छह बजे उतरेगा. प्रशांत महासागर में मौसम खराब है, वहीं अमेरिका के हवाई के पास भी मौसम खराब है. पायलट आंद्रे. Pages of vp.pdf NOPR. तेल की एक बूंद खर्च किये बिना दुनिया का चक्कर लगा रहा विमान सोलर इंपल्स टू बेहद हल्का है. हल्का वजन ही इसकी कामयाबी का राज भी है. आखिर कैसे बनाया गया इतना हल्का विमान. वाराणसी के बाद सोलर इम्पल्स 2 ने भरी Outlook Hindi. अहमदाबाद। दुनिया का पहला सोलर पावर्ड प्लेन सोलर इंपल्स टू मंगलवार देर रात अहमदाबाद के सरदार बल्लभभाई पटेल एयरपोर्ट पर लैंड हो गया है। अहमदाबाद के बाद अब इसकी लैंडिग वाराणसी में भी होना है। 11 से 13 मार्च तक अहमदाबाद में रूकने के बाद यह. सोलर इंपल्स Solar Impulse. बिना एक बूंद ईंधन खर्च किए सोलर इंपल्स 2 समूची दुनिया में 16 पड़ावों पर रका, जिसका मकसद यह दिखाना था कि इस तरह की प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल कर दुनिया की ईंधन खपत को आधा किया जा सकता है और प्राकृतिक संसाधानों को बचाने के साथ जीवन.

...