पिछला

चार्ली विल्सन्स वॉर - हास्य फ़िल्म. चार्ली विल्सन्स वॉर 2007 की एक जीवनी आधारित कॉमेडी ड्रामा फिल्म है जो अमेरिकी कांग्रेसी चार्ली विल्सन की सच्ची कहानी को प ..




चार्ली विल्सन्स वॉर
                                     

चार्ली विल्सन्स वॉर

चार्ली विल्सन्स वॉर 2007 की एक जीवनी आधारित कॉमेडी ड्रामा फिल्म है जो अमेरिकी कांग्रेसी चार्ली विल्सन की सच्ची कहानी को पेश करती है जिन्होंने "मनमाने रवैये" वाले सीआईए ऑपरेटिव गस्ट अव्राकोटोस के साथ सहभागिता में ऑपरेशन साइक्लोन शुरू किया, एक ऐसा कार्यक्रम जिसे सोवियत द्वारा अफगानिस्तान के कब्जे के प्रतिरोध में अफगानी मुजाहिदीन को व्यवस्थित और समर्थन देने के लिए चलाया गया था। इस फिल्म को जॉर्ज क्रिल की 2003 की किताब चार्ली विल्सन्स वॉर: द एक्स्ट्राऑर्डिनरी स्टोरी ऑफ़ द लार्जेस्ट कवर्ट ओपरेशन इन हिस्टरी से रूपांतरित किया गया है। यह माइक निकोल्स द्वारा निर्देशित और हारून सोरकिन द्वारा लिखित है और इसमें टॉम हैंक्स, जूलिया रॉबर्ट्स, ओम पुरी, फिलिप्स सेमुर होफमैन, एमी एडम्स, नेड बेटी और एमिली ब्लंट ने अभिनय किया है। यह पांच गोल्डन ग्लोब पुरस्कार के लिए नामित किया गया जिसमें "सर्वश्रेष्ठ मोशन पिक्चर", भी शामिल था लेकिन यह किसी भी वर्ग में कोई भी पुरस्कार नहीं जीत सका। फिलिप्स सेमुर होफमैन को सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता के अकादमी पुरस्कार के लिए नामित किया गया।

                                     

1. कथानक सारांश

1980 में, कांग्रेसी चार्ली, विधान कार्यों से अधिक पार्टी करने में रुचि लेते थे, जिसके तहत वे अक्सर बड़ी पार्टियों का आयोजन करते थे और अपने कंग्रसी कार्यालय को युवा, आकर्षक महिला कर्मचारियों से भरते थे। उनके सामाजिक जीवन के कारण अंततः उन पर लगे कोकीन का उपयोग करने के आरोपों के चलते उस समय संघीय अभियोजक रहे रुडी गिलानी द्वारा संघीय जांच बैठा दी गयी, यह जांच कांग्रेसी दुराचरण की एक बड़ी जांच के हिस्से के रूप में कराया गया। इस जांच के परिणाम में चार्ली को निर्दोष पाया गया।

एक दोस्त और प्रेमिका, जोआन हेरिंग चार्ली को अफगानी लोगों की और अधिक सहायता करने के लिए प्रोत्साहित करती है और उन्हें पाकिस्तानी नेतृत्व से मिलने के लिए राज़ी करती है। पाकिस्तानी यह शिकायत करते हैं कि सोवियत संघ का विरोध करने के लिए अमेरिकी समर्थन अपर्याप्त है और वे जोर देते हैं कि चार्ली एक प्रमुख पाकिस्तान-स्थित अफगान शरणार्थी शिविर की यात्रा करें। यह और अन्य अफगान दृश्यों को मोरक्को में फिल्माया गया। चार्ली उनके दुख और लड़ने के दृढ़ संकल्प को देख क्र प्रभावित होता है, लेकिन अफगानिस्तान पर सोवियत कब्जे के खिलाफ एक कम महत्वपूर्ण दृष्टिकोण पर क्षेत्रीय सीआईए के कर्मियों के आग्रह से निराश होते है। चार्ली घर वापस आते हैं ताकि वे मुजाहिदीन के लिए धन सहायता में बड़ी वृद्धि के लिए प्रयास कर सकेँ.

इस प्रयास के हिस्से के रूप में, चार्ली ने आवारा सीआईए कार्यकारी गस्ट अव्राकोटोस और उनके अमला अफगानिस्तानी समूह से मित्रता की ताकि एक बेहतर रणनीती बनाई जा सके, जिसमें विशेष रूप से सोवियत के दुर्जेय एम आई 24 हेलीकॉप्टर गनशिप के प्रत्युत्तर के साधन शामिल थे। इस समूह का अर्ध भाग सीआईए के विशेष कार्य प्रभाग के कुलीन सदस्यों से बना था, जिसमें माइकल विकर्स नामक एक युवा अर्द्धसैनिक अधिकारी शामिल था। परिणाम स्वरूप, आवश्यक वित्तपोषण के लिए चार्ली की दक्ष राजनीतिक सौदेबाजी और उन संसाधनों का प्रयोग करते हुए अव्राकोटोस के दल की निपुण योजना, जैसे कि छापामारों को FIM-92 स्टिंगर मिसाइल लांचर की आपूर्ति ने सोवियत के कब्जे को एक घातक दलदल में बदल दिया जिसके तहत भारी लड़ाकू वाहनों को बड़े पैमाने पर नष्ट कर दिया गया। सीआईए CIA का साम्यवाद विरोधी बजट 5 मीलियन डॉलर से बढ़ कर 500 मिलियन डॉलर हो गया इस समान राशि की बराबरी सऊदी अरब द्वारा की गई जिससे कई कांग्रेसियों को आश्चर्य हुआ। चार्ली द्वारा यह प्रयास अंततः अमेरिकी विदेश नीति के प्रमुख हिस्से के रूप में उभरा जिसे रीगन सिद्धांत के रूप में जाना गया, जिसके तहत अमेरिका ने अपनी सहायता को मुजाहिदीन से परे विस्तारित किया और कम्युनिस्ट विरोधी आंदोलनों को दुनिया भर में समर्थन देना शुरू किया। चार्ली कहते है कि पेंटागन के वरिष्ठ अधिकारी माइकल पिल्सबरी ने राष्ट्रपति रोनाल्ड रीगन को अफगानियों को स्टिंगर प्रदान करने के लिए राज़ी किया: "व्‍यंग्‍यपूर्वक, ना तो गस्ट और ना ही चार्ली इस फैसले में शामिल थे और ना ही वे किसी शाबाशी की मांग करते हैं।":419

बाद के सोवियत-अधिकृत अफगानिस्तान का समर्थन पाने के लिए चार्ली, गस्ट के मार्गदर्शन का अनुसरण करते हैं, लेकिन उन्हें अमेरिकी सरकार में अपने द्वारा सुझागए सबसे मामूली उपायों के लिए भी लगभग कोई उत्साह नहीं दीखता है। फिल्म के अंत में चार्ली को अमेरिकी गुप्त सेवा के समर्थन के लिए प्रमुख प्रशंसा प्राप्त होती है, लेकिन उनका क्रोध उनके इस डर से भड़क उठता कि उनके रहस्यात्मक प्रयासों का भविष्य में और अफगानिस्तान से अमेरिकी छुटकारे की मंशा का क्या अनपेक्षित परिणाम निकल सकता है।

                                     

2. कलाकार

  • बोनी बाख के रूप में एमी एडम्स †
  • यूरोपीय संचालन के सीआईए निदेशक एवराकोटॉस के वरिष्ठ हेनरी क्रावेली के रूप में जॉन स्लेटेरी
  • मारला के रूप में मैरी बोनर बेकर
  • गस्ट एवराकोटॉस के रूप में फिलिप सेमौर हॉफमैन †
  • रीप्रेजेंटेटिव डॉक लांग के रूप में नेड बेटी
  • महत्वाकांक्षी अभिनेत्री क्रिस्टल ली के रूप में जुडी टेलर †
  • क्रिस्टल ली के एजेंट, पॉल ब्राउन के रूप में ब्रायन मारकिनसन †
  • जेन लिडले के रूप में एमिली ब्लंट †
  • सुजेन के रूप में रचेल निकोल्स
  • इजरायल के हथियार व्यापारी ज्वी अफ़िआह के रूप में केन स्टोट
  • चार्लीज़ "एन्जिल्स" †
  • लैरी लिडले के रूप में पीटर गेरेटी †
  • जेलबैट के रूप में शिरी ऐप्प्लबी
  • पाकिस्तान के राष्ट्रपति जिया उल हक के रूप में ओम पुरी
  • रिसेप्शनिस्ट के रूप में विन एवेरेट
  • रीप्रेजेंटेटिव चार्ली विल्सन के किरदार में टॉम हैंक्स †
  • सीआईए स्टेशन प्रमुख हेरोल्ड होल्ट के रूप में डेनिस ओहारे
  • माइकल जी. विकेर्स के रूप में क्रिस्टोफर डेनहैम
  • जोआन हेरिंग के रूप में जूलिया रॉबर्ट्स
  • रूसी हेलीकाप्टर पायलट के रूप में पाशा लीच्नीकोफ़
  • कांग्रेशन्ल कमिटी के रूप में केविन रूनी
  • कांग्रेशन्ल कमिटी के रूप में स्पेन्सर गारेट

† के समग्र चरित्र

                                     

3. रिलीज़ और अभिग्रहण

इस फिल्म को मूलतः 25 दिसम्बर 2007 को प्रदर्शित किये जाने की बात थी, लेकिन 30 नवम्बर 2007 को समय सारिणी को हटाकर 21 दिसम्बर 2007 तक कर दिया गया। अपने प्रारंभिक सप्ताह के अंत में, फिल्म ने संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा के 2.575 थिएटरों में 9.6 मिलियन डॉलर की कमाई की, यह बॉक्स ऑफिस पर #4 पर रही। मार्च 2008 के अनुसार

                                     

3.1. रिलीज़ और अभिग्रहण सरकारी आलोचना और प्रशंसा

रीगन के युग के अधिकारी, जिसमें पूर्व अवर रक्षा सचिव फ्रेड इकले शामिल थे ने फिल्म के कुछ तत्वों की आलोचना की। दी वाशिंगटन टाइम्स ने आख्या दी कि कुछ लोगों ने यह दावा किया है कि यह फिल्म इस धारणा को गलत तरीके से बढ़ावा दे रही है कि सीआईए द्वारा अगुवाई की जाने वाली परिचालन ने ओसामा बिन लादेन को वित्त पोषित किया और अंततः 11 सितम्बर हमले को परिणामित किया। हालांकि रीगन के युग के अन्य अधिकारियों ने, इस फिल्म का समर्थन किया। हेरिटेज फाउंडेशन के पूर्व विदेश नीति विश्लेषक और राष्ट्रपति जॉर्ज एच. डब्ल्यू बुश के लिए व्हाइट हाउस के भाषण लेखक माइकल जॉन्स ने, इस फिल्म की प्रशंसा यह कह कर की कि "यह अमेरिका के शीत युद्ध के विजय के सबसे महत्वपूर्ण सबक को प्रतिबिंबित करने का पहला इतना बड़ा प्रयास है: और यह कि रीगन की अगुवाई में किया गया प्रयास जो कि उन स्वतंत्रता सेनानियों के समर्थन में था जो सोवियत संघ उत्पीड़न का विरोध कर रहे थे, ने सोवियत यूनियन के पहले प्रमुख सैन्य हार का सफलतापूर्वक नेतृत्व किया।.को को अफगानिस्तान से रेड आर्मी पैकिंग को भेजा जाना सबसे महत्वपूर्ण एकल घटनाओं में से एक थी जो इतिहास के एक सबसे गहरा सकारात्मक और महत्वपूर्ण विकास में योगदान देने वाला कारक था।"



                                     

3.2. रिलीज़ और अभिग्रहण 11 सितम्बर के साथ संबंध

जबकि चार्ली विल्सन्स वॉर में 11 सितंबर के हमलों का कोई विशेष संदर्भ नहीं मिलता, इस फिल्म में चार्ली और गस्ट द्वारा जताई गयी चिंताओं को दर्शाया जाता है जिसमें वे सोवियत सेना की वापसी के बाद 1990 के दशक में अफगानिस्तान के उपेक्षित रहने की चर्चा करते हैं। फिल्म के अंतिम दृश्यों में से एक में, गस्ट, अफगानिस्तान से सोवियत की वापसी के उत्साह पर चार्ली के उत्साह पर यह कह कर पानी फ़ेर देता है कि, "मैं तुम्हेँ एक NIE देने वाला हूं जो यह दिखाता है कि पागल कंधार में घुस रहे हैं।"

जॉर्ज क्राइल जो चार्ली विल्सन्स वॉर किताब के लेखक हैं, जिस पर फिल्म आधारित है, ने लिखा कि अफगानिस्तान में मुजाहिदीनों की जीत के बाद अंततः बिन लादेन के लिए पावर निर्वात खुल गया: "1993 के अंत तक, अफगानिस्तान में ही ना तो सड़कें थी, ना ही स्कूल, वह केवल एक बर्बाद देश था - और संयुक्त राज्य अमेरिका किसी भी जिम्मेदारी के अपने हाथ धो रहा था। इसी शून्य में से तालिबान और ओसामा बिन लादेन प्रमुख खिलाड़ियों के रूप में उभरते हैं। यह हास्यास्पद है कि ओसामा बिन लादेन जैसा एक आदमी जिसे रेड आर्मी पर विजय प्राप्त करने से कोई सरोकार नहीं है, जिहाद की ताकत का मानवीकरण करने के लिए आ जाता है।"

जबकि फिल्म में विल्सन को मुजाहिदीनों को स्टिंगर मिज़ाइल की आपूर्ति करने वाले अधिवक्ता के रूप में दर्शाया गया है, रीगन प्रशासन के एक पूर्व अधिकारी ने बताया कि वे और विल्सन मुजाहिदीनों के अधिवक्ता होने के बावजूद भी, वास्तव में शुरूआत में उन्हें इन मिसाइलों की आपूर्ति किए जाने के विचापर "तटस्थ" थे। उनकी राय उस वक्त बदल गई जब उन्हें पता चला कि विद्रोही सोवियत गनशिप्स को उनके इस्तेमाल से गिराने में कामयाब थे। फिर भी 1987 में रीगन प्रशासन की दूसरी अवधि तक इनकी आपूर्ति नहीं की गयी थी और उनके आपूर्ति की वकालत ज्यादातर रीगन के रक्षा अधिकारियों और प्रभावशाली रुढ़िवादी द्वारा की गयी। इस फिल्म में दी गयी तारीखें इन मिसाइलों की आपूर्ति करने के लिए इन का प्रावधान का एक सटीक प्रतिबिंबित करने लगते हैं।

                                     

3.3. रिलीज़ और अभिग्रहण रूस में स्वीकार्यता

आरंभिक फ़रवरी में, यह पता चला था कि रूसी फिल्म थिएटर में खेलने नहीं होगा। फिल्म के लिए अधिकार यूनिवर्सल पिक्चर्स इंटरनेशनल UPI रूस द्वारा खरीदा गया था। यह माना गया था कि फिल्म के कुछ बिंदु सोवियत संघ के कारण अप्रिय हैं। UPI रूस के मुखिया येवगेनी बेगिनिन ने इनकार किया है कि, "हम केवल निर्णय लिया है कि फिल्म एक लाभ नहीं होगा." पायरेटेड डीवीडी पर फिल्म देखने वाले रूसी ब्लॉगर का रुख नकारात्मक था। एक ने लिखा है: "नहीं बल्कि पूरी फिल्म शो रूस, या सोवियत संघ, क्रूर हत्यारों के रूप में".

                                     

4. घरेलू रिलीज़

इस फिल्म को 22 अप्रैल 2008 को डीवीडी पर जारी किया गया; एक डीवीडी संस्करण और एक HD डीवीडी / डीवीडी कॉम्बो संस्करण उपलब्ध हैं। अतिरिक्त फीचारेट के एक बनाने के लिए और एक "हु इज चार्ली विल्सन?" फीचरेट, जो असली चार्ली विल्सन को वर्णित करती है और माइक निकोलस और इसमें टॉम हैंक्स जोन हेरिंग, हारून सोर्किन के साथ साक्षात्कार शामिल हैं। एचडी डीवीडी / डीवीडी कॉम्बो संस्करण में अतिरिक्त अनन्य सामग्री शामिल है।

                                     

5. ऐतिहासिक संदर्भ

विल्सन ने उसके बाद याद किया कि, "मैं हमेशा, हमेशा, जब भी एक विमान नीचे जाता है, मुझे लगता है कि यह हमारे प्रक्षेपास्त्रों में से एक है। सब से ज्यादा मैं लाल सेना का खून चाहता था। मुझे लगता है कि खून-खराबे के कारण सोवियत संघ का पतन हुआ" अब उनका अनुमान है कि ये हथियार शायद तालिबान के हाथों में चले गए, जिसने अफगानिस्तान में सत्ता प्राप्त कर ली है और सऊदी भगोड़ा ओसामा बिन लादेन को आश्रय दिया, जो 11 सितंबर के हमलों का निर्माता था। उन्होंने कहा, "मैं इस बारे में दोषी महसूस करता हूं". "मैं वास्तव में करता हूं."

"ये चीजें होती हैं," विल्सन ने उन युद्ध हथियारों के बारे में कहा जो गलत हाथों में चले जाते हैं। "आप लाल सेना को बिना एक बंदूक के कैसे हरा सकते हैं? आप सेना को दोष नहीं दे सकते कि उसने ली हार्वे ओसवाल्ड को गोली चलना सिखाया" विल्सन, जो 24 साल की सेवा के बाद कांग्रेस के लिए 1996 में फिर से चुनाव लड़ना नहीं चाहते थे, अब मानना है कि वे अफगानिस्तान को इस रास्ते पर आने से रोकने के लिये कठिन म्हणत कर सकते थे। "जो हिस्सा मैं अपराध बोध के साथ अपनी कब्र तक ले जाऊंगा. मैंने वह रास्ता नहीं बनाया और वहां पर कौंग्रेस के अन्य पागल सदस्यों को लघु मार्शल योजना के लिए प्रेरित नहीं किया। "और मैं अपने आप को निराश और इस बात से हताश पता हूं कि अफगान नेतृत्व इतना खंडित था कि हम ऐसा कुछ नहीं कर पाए जो हम करना चाहते थे, जैसे बारूदी सुरंग हटाना, या उन्हें फसलों को फिर से उगाने में सक्षम बनाने के लिए लाखों टन खाद मुहैय्या कराना."

इस नीति का समर्थन बाद में रीगन प्रशासन द्वारा किया गया और रक्षा अधिकारियों द्वारा किया गया जो सोविअत समर्थित सरकारों से संघर्ष में थे। जिमी कार्टर जो रीगन से पहले कार्यकाल के लिए सेवा में थे - उन्होंने इस नीति के व्यापक प्रयोग से खुद को अलग कर लिया और वे ऐसे "देश निर्माण" आंदोलनों के लिए अमेरिकी सहायता के एक मुखर विरोधी बन गए। कांग्रेसी डेमोक्रेट भी बड़े पैमाने पर रीगन सिद्धांत के आवेदन का विरोध करते थे।

कार्टर के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार, जीबिगन्यू बरज़ेज़िन्सकी ने कथित तौपर एक साक्षात्कार में कहा कि यह दावा अवैध और मनगढ़ंत है कि अमेरिका ने मुजाहिदीन को सहायता करने का इसलिए प्रयास किया क्योंकि वह सोवियत संघ को वियतनाम युद्ध की तरह एक महंगे और संभवतः भटकाऊ संघर्ष में खींचना चाहता था। फ्रांसीसी समाचार पत्रिका Le Nouvel Observateur के साथ 1998 के साक्षात्कार में बरज़ेज़िन्सकी चर्चा करते हुए कहते हैं: "हमने हस्तक्षेप करने के लिए रूसियों को धकेला नहीं था, लेकिन हमने जानबूझकर संभावना बढ़ा दी ताकि ऐसा हो. यह गुप्त आपरेशन एक उत्कृष्ट विचार था। इसमें सोवियत संघ को अफगान जाल में खींचने का दम था।. वह दिन जब सोवियत संघ ने आधिकारिक तौपर सीमा को पार किया, मैंने राष्ट्रपति कार्टर को लिखा, "अब हमारे पास वह मौक़ा है कि हम सोवियत संघ को उसका वियतनाम युद्ध दें" उनका कहना है कि यह साक्षात्कार बस झूठ है और सोवियत आक्रमण के बाद एक सप्ताह तक अफगान विद्रोहियों के लिए कोई हथियारों को नहीं भेजा गया था। उन्होंने सुझाव दिया कि बाद के दावे का आसानी से निरीक्षण किया जा सकता है, "सारे दस्तावेज खुले हैं!" आक्रमण से शीघ्र पहले कार्टर द्वारा हस्ताक्षर किगए दो गैर-गुप्त दस्तावेजों का प्रावधान था "एकतरफा या तीसरे देशों के माध्यम से नकद या गैर सैन्य आपूर्ति के रूप में अफगान विद्रोहियों के लिए उचित समर्थन जुटाना" और वामपंथी अफगान सरकार को बेनकाब करने के लिए "दुनिया भर में" "गैर स्वीकृत प्रचार" के रूप में जो निरंकुश और अधीन सोवियत संघ के है और "अफगान विद्रोहियों के प्रयासों को उनके देश की संप्रभुता हासिल करने के लिए प्रचारित करना" लेकिन रिकॉर्ड से यह भी पता चलता है कि विद्रोहियों के हथियारों का प्रावधान 1980 तक शुरू नहीं हुआ था। संयुक्त राष्ट्र के सहयोगी मार्शल एरिक अल्टरमन के अनुसार साइरस वंस का कहना है कि विदेश विभाग ने काफी मेहनत की ताकि सोवियत संघ हमला करने से विरत हो जाए और वे निश्चित रूप से ऐसा कोई कार्यक्रम शुरू करने को प्रोत्साहित नहीं करते" और राष्ट्रपति कार्टर ने कहा है कि यह निश्चित है कि सोवियत आक्रमण को उकसाने का "मेरा कोई इरादा नहीं था" बल्कि मैं तो इसे रोकना चाहता था।

जिमी कार्टर ने "भौचक होते हुए" रूसी आक्रमण के लिए प्रतिक्रिया दी और अफगान विद्रोहियों को तुरंत हथियार देना शुरू कर दिया। उपराष्ट्रपति वाल्टर मोंडेल ने प्रसिद्ध रूप से घोषित किया "मैं नहीं समझ सकता - यह सिर्फ मुझे चकरा देता है - सोवियत संघ ने क्यों इन पिछले कुछ वर्षों में ऐसा व्यवहार किया है। शायद हमने उनके साथ कुछ गलतियां की है। उन्होंने इन सभी हथियारों का निर्माण क्यों किया? उन्हें अफगानिस्तान में जाने की क्या ज़रूरत थी? वे सिर्फ पूर्वी यूरोप के बारे में थोड़ा आराम से क्यों नहीं सोचते? वह हर दरवाज़े पर यह देखने के लिए क्यों जाते हैं कि देखें वह खुला है या नहीं"? आक्रमण से पहले, सोवियत ने अफगान नेतृत्व के साथ कई बार बातचीत की और सुझाव दिया कि हस्तक्षेप करने की उनकी कोई इच्छा नहीं है, तब भी जब पोलितब्यूरो थोड़ा झिझक के साथ ऐसे हस्तक्षेप पर विचाकर रहा है। उन्होंने जाहिरा तौपर इन बैठकों को गुप्त रूप से ऐसे आयोजित किया ताकि अमेरिकियों को दखल देने का मौक़ा मिले। हालांकि कुछ लोगों का तर्क है कि आक्रमण से पहले, अफगान असंतुष्टों को अमेरिकी वित्तीय सहायता, जिसमें इस्लामवादी और अन्य आतंकवादी शामिल थे; और साथ ही वामपंथी अफगान सरकार को बचाने की सोवियत की इच्छा ने, रूसियों के हस्तक्षेप की जरुरत को समझाने में मदद की, रूसीयों ने क्रूरता से अफगान राष्ट्रपति और उनके बेटे की ह्त्या कर दी और उसकी जगह एक कठपुतली शासन को बैठा दिया, क्योंकि आक्रमण के बाद उन्हें भय लगा कि अमेरिका गुप्त रूप से उस राष्ट्रपति के साथ हाथ मिला रहा है।

इन्हें भी देखें: Operation Cyclone


                                     

6. आर्थर केंट मुकदमा

2008 में, कनाडा के पत्रकाऔर राजनेता आर्थर केंट ने फिल्म के निर्माताओं पर यह कहते हुए मुकदमा चलाया कि, उन्होंने उनकी 1980 के दशक में उत्पादित सामग्रियों को बिना किसी उचित प्राधिकार के उपयोग किया। 19 सितम्बर 2008 को, केंट ने यह घोषणा की कि उन्होंने फिल्म के वितरकों और निर्माताओं के साथ मुकदमे का निपटान कर लिया है और कहा कि वे मुकदमे के निपटान से "बहुत प्रसन्न" थे, जो गोपनीय रहा।

                                     

7. पुरस्काऔर नामांकन

नामांकन

  • 65 वें गोल्डन ग्लोब अवार्ड्स
  • मोशन पिक्चर में सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री की भूमिका के लिए जूलिया रॉबर्ट्स
  • मोशन पिक्चर में सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता की भूमिका के लिए फिलिप सेमुर होफमन
  • मोशन पिक्चर में सर्वश्रेष्ठ अभिनय के लिए - हास्य या संगीत टॉम हैंक्स
  • सर्वश्रेष्ठ मोशन पिक्चर - हास्य या संगीत
  • सर्वश्रेष्ठ पटकथा - मोशन पिक्चर आरोन सॉरकिन
  • 80 वें ऐकडमी अवार्ड्स
  • सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता फिलिप समुर होफमन