पिछला

ऊर्जा भंडारण - ऊर्जा प्रौद्योगिकी ..




                                               

अतिसंधारित्र

अतिसंधारित्र) वे संधारित्र हैं जिनकी धारिता अन्य प्रकार के संधारित्रों की तुलना में बहुत अधिक होती है। अपने इस गुण के कारण इनका उपयोग वहाँ होता है जिसकी ऊर्जा-आवश्यकताएँ विद्युत अपघट्य संधारित्र से अधिक किन्तु तथा पुनर्भरणीय बैटरी से कम होतीं है। अतिसंधारित्र अपेक्षाकृत बहुत कम वोल्टेज तक ही आवेशित किये जा सकते है विद्युत-अपघट्य संधारित्रों की तुलना में अतिसंधारित्रों की ऊर्जा-संग्रह की क्षमता सामान्यतः १० से १०० गुना तक अधिक होती है। इसके अलावा वे पुनर्भरणीय बैटरी की तुलना में बहुत तेज गति से आवेशित एवं अनावेशित किये जा सकते हैं और उनकी तुलना में बहुत अधिक बार आवेशित-अनावेशित किये जा सकते ...

                                               

डेनियल सेल

डेनियल सेल एक वैद्युत-रासायनिक सेल है जिसका आविष्कार वर्ष १८३६ में ब्रितानी रसायन विज्ञानी और मौसम विज्ञानी जॉन फ्रेडरिक डेनियल ने किया था। इसका निर्माण डेनियल ने तांबे के बर्तन में नीला थोथा विलयन भरकर उसमें किसी मिट्टी के बर्तन में गंधक का अम्ल भरकर उसके अन्दर ज़िंक की छड़ रखकर बनाया।