पिछला

चिकित्साशास्त्र - स्वास्थ्यविज्ञान. चिकित्साशास्त्र आयुर्विज्ञान का एक क्षेत्र है। यह क्षेत्र अस्वस्थ्य मनुष्य को स्वस्थ्य बनाने से सम्बन्धित है। इस शास्त्र ..




                                               

संलक्षण

                                               

अमीर चंद (मेजर जनरल)

                                               

रसायन चिकित्सा

इआत्रोकीमी या रसायन चिकित्सा रसायन विज्ञान तथा चिकित्साशास्त्र दोनों की शाखा है। इसकी जड़ें किमियागारी में जातीं हैं। इआत्रोकीमी, रोगों के उपचार के लिए रासायनिक हल प्रदान करता है। ग्रीक भाषा में ἰατρός का अर्थ है चिकित्सक या औषधि होता है।

                                               

माधवकर

 नवी शताब्दी के महान चिकित्साशास्त्री माधव कर, ने रुजविनिश्चय नामक ग्रंथ की रचना की, इस ग्रंथ में विभिन्न रोगों के निदान की व्याख्या की गई है, इस ग्रंथ को माधव निदान के नाम से भी जाना जाता हैं,

                                     

चिकित्साशास्त्र

चिकित्साशास्त्र आयुर्विज्ञान का एक क्षेत्र है। यह क्षेत्र अस्वस्थ्य मनुष्य को स्वस्थ्य बनाने से सम्बन्धित है। इस शास्त्र में अस्वस्थ्य मनुष्य का ब्याधि वा रोग का अध्ययन किया जाता है, उसके बाद उस ब्याधि को डायगनोज और उस का निवारण किया जाता है। यह क्षेत्र मानव और रोग का ज्ञान और उस का प्रयोजन दोनों से सम्बन्धित है।

                                     

1. परिचय

चिकित्सा सेवा चिकित्सक और चिकित्सा से सम्बन्धित व्यक्ति जैसे - नर्स, फार्मासिस्ट आदि रोग से ग्रस्त लोग को देते हैं। यह एक बहुत ही संवेदनशील शास्त्र है। कुछ शताव्दी पहले चिकित्सक को चिकित्सा करने के लिये विद्यावारिधि डाक्टरेट करना जरुरी था। इसीलिये चिकित्सक को डाक्टर भी कहते हैं। यह क्षेत्र बहुत संवेदनशील है। इसी लिये संसार के विभिन्न राष्ट्र में चिकित्सा सेवा से सम्बद्ध अनगिनत विधानों के होने के वावजजूद भी नये विधान निर्माण होते रहते हैं।