पिछला

पशु चिकित्सा - स्वास्थ्यविज्ञान ..




                                               

अश्व स्वास्थ्य

                                               

प्राणी विषाणु विज्ञान

                                               

प्राणी स्वास्थ्य

                                               

पशुरोग

                                               

प्रतिजैविक प्रतिरोध

प्रतिजैविक प्रतिरोध एक प्रकार का दवा प्रतिरोध है, जहाँ एक सूक्ष्मजीव प्रतिरोध जोखिम जीवित करने के लिए सक्षम है। जीन को एक जीवाणु के बिच में फैशन द्वारा या विकार क्षैतिज कर संक्रमित में हस्तांतरित किया जा सकता है। इस प्रकार प्राकृतिक चयन के माध्यम से एक जीन को एंटीबायोटिक प्रतिरोध से साझा कर के बिकसित किया जा सकता है। विकासवादी तनाव एंटीबायोटिक प्रतिरोधी लक्षण जोखिम के रूप में एंटीबायोटिक दवाओं को चुनता है। कई एंटीबायोटिक प्रतिरोध जीनों प्लाज़्मिड प्लाज़्मिड पर रहते हैं, उनके हस्तांतरण की सुविधा. अगर एक जीवाणु कई प्रतिरोध जीनों वहन करती है, यह मल्तिरेसिस्तेंस या अनौपचारिएक सुपर‍ बग कहा जाता ...

                                               

पशु चिकित्सा एवं पशु विज्ञान महाविद्यालय, बीकानेर

पशु चिकित्सा एवं पशु विज्ञान महाविद्यालय राजस्थान विश्वविद्यालय से सम्बद्ध है। इसकी स्थापना १९६५ में हुई ही। भारत के सभी पशु चिकित्सा एवं पशु विज्ञान महाविद्यालयों मे बीकानेर के महाविद्यालय की अधोसंरचना, शैक्षणिक स्तर व प्रयोगशालाओं में उपलब्ध शोध सुविधाओं के आधापर सदैव प्रथम पांच मे से एक स्थान सुनिश्चिचित माना जाता रहा है।

                                               

भारतीय पशु चिकित्‍सा परिषद

भारतीय पशु चिकित्‍सा परिषद एक भारत का एक निगमित निकाय है जिसकी स्‍थापना भारतीय पशु चिकित्‍सा परिषद अधिनियम, 1984 के अंतर्गत की गई है। यह पाठ्यक्रम बनाकर पूरे भारत में गतिविधि के एक-समान मानक बनाए रखने के लिए पशु चिकित्‍सा संस्‍थानों को लाइसेंस देकर पशुचिकित्‍सा की शिक्षा को विनियमित करती है।