पिछला

भूगोल - अनुप्रयुक्त भूगोल, अवस्थिति, भूगोल, ईरान का भूगोल, ऐतिहासिक भूगोल, कमला नदी, गिरनार ..




                                               

अनुप्रयुक्त भूगोल

अनुप्रयुक्त भूगोल मानव भूगोल की एक प्रमुख अपेक्षाकृत सबसे नई शाखा हैं। इसके अन्तर्गत वर्तमान मानवीय समस्याओं जैसे - अल्प विकास, जन्संख्या का आधिक्य, नगरीय एवं भूमि-उपयोग, मानव-स्वास्थ्य से सम्बन्धित समस्याओं, नगर-नियोजन आदि का अध्ययन अधिकतम मानव कल्याण की नज़र से किया जाता हैं।

                                               

अवस्थिति (भूगोल)

भूगोल में, भौगोलिक अवस्थिति पृथ्वी की सतह पर किसी वस्तु अथवा अवघटना की सटीक स्थिति है। यह जगह या स्थान से भिन्न है क्योंकि, स्थान मानवीय अवबोध द्वारा चिह्नित होता है जबकि अवस्थिति स्थान-निर्धारण की अधिक सटीक और ज्यामितीय विधि है। भौगोलिक निर्देशांक पद्धति का प्रयोग करते हुए यदि पृथ्वी पर किसी बिंदु को मात्र अक्षांस-देशांतर के मानों द्वारा ही बताया जाय तो यह अवस्थिति की जानकारी देना हुआ, वहीं यदि अक्षांश-देशांतर के मानों के साथ कोई भौतिक-सांस्कृतिक लक्षण अथवा पहचान भी बताई जाय तो यह उस बिंदु को "स्थान" के रूप में चिह्नित करना कहलायेगा। अवस्थिति की अवधारणा का विकास और अनुप्रयोग, भूगोल में 50 ...

                                               

ईरान का भूगोल

ईरान भौगोलिक तौपर पश्चिम एशिया में स्थित है। इसकी सीमाएँ कैस्पियन सागर, फारस की खाड़ी और ओमान की खाड़ी से जा लगती हैं। इसके पहाड़ों ने सदियों से देश के राजनीतिक और आर्थिक इतिहास को आकार दिया है। यहाँ के पहाड़ कई विस्तृत घाटियों को घेरते हैं, जिन पर प्रमुख कृषि और शहरी बस्तियाँ बसागई हैं। ये बेसिन 20 वीं सदी तक एक दूसरे से अपेक्षाकृत अलग-थलग रहते थे। फिर पहाड़ों के माध्यम से प्रमुख राजमार्गों और रेलमार्गों का निर्माण करके जनसंख्या केंद्रों को जोड़ा गया। आमतौर पर, प्रत्येक बेसिन में किसी एक प्रमुख शहर का वर्चस्व था। इस शहर के आसपास सैकड़ों गांव होते थे, और इनके और शहर के बीच जटिल आर्थिक संबं ...

                                               

ऐतिहासिक भूगोल

ऐतिहासिक भूगोल किसी स्थान अथवा क्षेत्र की भूतकालीन भौगोलिक दशाओं का या फिर समय के साथ वहाँ के बदलते भूगोल का अध्ययन है। यह अपने अध्ययन क्षेत्र के सभी मानवीय और भौतिक पहलुओं का अध्ययन किसी पिछली काल-अवाधि के सन्दर्भ में करता है या फिर समय के साथ उस क्षेत्र के भौगोलिक दशाओं में परिवर्तन का अध्ययन करता है। बहुत सारे भूगोलवेत्ता किसी स्थान का इस सन्दर्भ में अध्ययन करते हैं कि कैसे वहाँ के लोगों ने अपने पर्यावरण के साथ अंतर्क्रियायें कीं और किस प्रकार इन क्रियाओं के परिणामस्वरूप उस स्थान के भूदृश्यों का उद्भव और विकास हुआ। आज के परिप्रेक्ष्य में भूगोल की इस शाखा का जो रूप दिखाई पड़ता है उसका सर ...

                                               

कमला नदी

कमला नदी नेपाल से उत्पन्न होकर मुख्यतः भारत के बिहार राज्य में बहने वाली एक नदी है। यह नदी मिथिलांचल में गंगा नदी के बाद सर्वाधिक पुण्यदायिनी तथा महत्वपूर्ण उर्वरा-शक्ति युक्त मानी जाती है।

                                               

गिरनार

भारत के गुजरात राज्य के जूनागढ़ जिले स्थित पहाड़ियाँ गिरनार नाम से जानी जाती हैं। यह जैनों का सिद्ध क्षेत्र है यहाँ से नारायण श्री कृष्ण के सबसे बड़े भ्राता तीर्थंकर भगवन देवादिदेव 1008 नेमीनाथ भगवान ने मोक्ष प्राप्त किया जिनके पाँचवी टोंक पर चरण है यह अहमदाबाद से 327 किलोमीटर की दूरी पर जूनागढ़ के १० मील पूर्व भवनाथ में स्थित हैं। यह एक पवित्र स्थान है जो जैन एवं हिंदू घर्माबलंबियों दोनों के लिए एक महत्वपूर्ण तीर्थ है। हरे-भरे गिर वन के बीच पर्वत-शृंखला धार्मिक गतिविधि के केंद्र के रूप में कार्य करती है। इन पहाड़ियों की औसत ऊँचाई 3.500 फुट है पर चोटियों की संख्या अधिक है। इनमें जैन तीर्थं ...